चीनी मिल और गन्ना माफिया की मिलीभगत से हो रहा किसानों का शोषण

SARVESH KUMAR SINGH | ETV UP/Uttarakhand
Updated: December 21, 2017, 10:55 AM IST

बलरामपुर स्थित तुलसीपुर सुगर मिल में गन्ना किसानो को बड़े पैमाने पर शोषण किया जा रहा है. चीनी मिल प्रबन्धन की मिलीभगत से गन्ना माफिया गन्ना किसानो से औने-पौने दामो में गन्ना खरीदकर लम्बा मुनाफा कमा रहे हैं.

  • Share this:
बलरामपुर स्थित तुलसीपुर सुगर मिल में गन्ना किसानो को बड़े पैमाने पर शोषण किया जा रहा है. चीनी मिल प्रबन्धन की मिलीभगत से गन्ना माफिया गन्ना किसानो से औने-पौने दामों में गन्ना खरीदकर लम्बा मुनाफा कमा रहे हैं.

गन्ना किसानों की समस्याओं को लेकर समाजवादी पार्टी ने पूर्व मंत्री डा.एसपी यादव के नेतृत्व में चीनी मिल गेट पर धरना-प्रदर्शन किया और जिला प्रशासन को ज्ञापन सौंपा. नेपाल सीमा से सटी तुलसीपुर चीनी मिल इस समय सुर्खियों में है.

पहली बार ऐसा हो रहा है जब गन्ना किसानों को मिल गेट से बिना गन्ने की तौल कराए वापस लौटाया जा रहा है. गन्ने की प्रजाति, जड़ और अमोला के नाम पर चीन मिल बिना तौल किए किसानो को लौटा दे रही है. किसानों की परेशानी का अनुचित लाभ गन्ना माफिया उठा रहे है और औने-पौने दामों पर उसी गन्ने को खरीद कर चीन मिल को सप्लाई कर भारी मुनाफा कमा रहे हैं.

गन्ना किसानों को पर्चियां भी समय से नहीं मिल रही हैं जिसके चलते गेहूं की बुआई भी प्रभावित हो रही है. क्रय केन्द्रों पर गन्ना किसानों से लोडिंग-अनलोडिंग के नाम पर भी अवैध वसूली की जा रही है. गन्ना किसानों की इन्हीं समस्याओं को लेकर समाजवादी पार्टी ने तुलसीपुर चीनी मिल के गेट पर जबरदस्त प्रदर्शन किया और किसानों की समस्याओं को तत्काल दूर करने के लिए जिला प्रशासन को ज्ञापन भी सौंपा.

किसानों के आक्रोश और जबरदस्त प्रदर्शन को देखकर जिला प्रशासन और चीनी मिल प्रबन्धन सकते में है. धरना-प्रदर्शन में यह चेतावनी भी दी गई है कि यदि किसानों की समस्याओं को शीघ्र निराकरण नहीं कराया गया तो यह आन्दोलन उग्र रुप ले सकता है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गोंडा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 21, 2017, 10:46 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...