गोंडाः तीज पर जिले के शिवालयों में उमड़े श्रद्धालु

तीज पर गोंडा जिले के शिवालयों में आस्था का जनसैलाब उमड़ पड़ा. लाखों की संख्या में श्रद्धालुओं ने पतित पावनी मोक्षदायिनी सरयू नदी से जल भरकर सभी के कष्टहर्ता दुखहरणनाथ और भगवान पृथ्वीनाथ मंदिर में मंगलवार को जलाभिषेक कर पुण्य कमाया.

News18 Uttar Pradesh
Updated: September 12, 2018, 11:38 AM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: September 12, 2018, 11:38 AM IST
भगवान ​शंकर की आराधना के पावन पर्व कजरी तीज पर गोंडा जिले के शिवालयों में आस्था का जनसैलाब उमड़ पड़ा. लाखों की संख्या में श्रद्धालुओं ने पतित पावनी मोक्षदायिनी सरयू नदी से जल भरकर सभी के कष्टहर्ता दुखहरणनाथ और भगवान पृथ्वीनाथ मंदिर में मंगलवार को जलाभिषेक कर पुण्य कमाया. जहां बाबा दुःखहरणनाथ का वर्णन त्रेतायुग से ​ही ​मिलता है और इन्होंने राजा दशरथ और प्रभु श्रीराम के दुखों का नाश किया ​था.

वहीं भगवान पृथ्वीनाथ की द्वापरयुग से आराधना की जा रही है और महाभारत काल में इन्होंने पांडवों के कष्टों का निवारण किया था. कजरी तीज के पवित्र पर्व पर मंगलवार को एक बार फिर गोंडा और आसपास के जनपदों समेत देश के कोने​-​कोने से आए लगभग 10 लाख श्रद्धालुओं ने अपने इष्टदेव को जलाभिषेक कर पुण्य कमाया और हर हर महादेव की जय जयकार करते अपने घर की ओर रवाना हो गए.

सोमवार से ही जीवनदायिनी सरयू नदी से जल भरकर लोगों का आना शुरू हो गया था और पूरी रात हर हर महादेव की आराधना के सुर गूंजते रहे. लाखों श्रद्धालुओं की सुरक्षा व्यवस्था के लिए ​गोरखपुर ज़ोन के 13 जिलों की पुलिस चप्पे-चप्पे पर तैनात रही और हर स्थिति से निबटने के लिए जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन मुस्तैद रहा.

एक ओर लाखों श्रद्धालुओं ने सरयू से जल लेकर भगवान का जलाभिषेक किया तो भाजपा के सदर विधायक प्रतीक भूषण सिंह ने जल लेकर 35 किलोमीटर की पैदल यात्रा करके दुखहरण नाथ मंदिर में पहुंचे और जलाभिषेक कर भगवान आशुतोष से राष्ट्र कल्याण के लिए प्रार्थना की. वहीं जिलाधिकारी ने बताया कि दोनों मंदिरों के आस-पास सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं.

रिपोर्ट - देवमणि त्रिपाठी

ये भी पढ़ें -
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर