अब सिद्धार्थनगर में 6 साल की मासूम के साथ रेप, बारात देखने निकली थी पीड़िता

घटना जिले के चिल्हिया थाना क्षेत्र के सेमरा बजहा गांव की हैं. पीड़िता बुधवार देर रात घर के बाहर से निकल रहे एक बरात को देखने निकली थी.

News18 Uttar Pradesh
Updated: April 19, 2018, 9:21 AM IST
अब सिद्धार्थनगर में 6 साल की मासूम के साथ रेप, बारात देखने निकली थी पीड़िता
सांकेतिक तस्वीर
News18 Uttar Pradesh
Updated: April 19, 2018, 9:21 AM IST
उत्तर प्रदेश में रेप की वारदातें थमने का नाम नहीं ले रही है. पिछले दिनों एटा में आठ साल की मासूम के साथ रेप के बाद हत्या का मामला शांत भी नहीं हुआ था कि सिद्धार्थनगर में भी एक 6 साल की मासूम से रेप का मामला सामने आया है.

घटना जिले के चिल्हिया थाना क्षेत्र के सेमरा बजहा गांव की हैं. पीड़िता बुधवार देर रात घर के बाहर से निकल रहे एक बारात को देखने निकली थी. तभी गांव के ही एक शख्स उसे बहला फुसलाकर झाड़ियों में ले गया और उसके साथ दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया.

बेटी के घर वापस न लौटने पर परिजनों ने उसकी तलाश शुरू की. पीड़िता गांव के बाहर झाड़ियों में बेहोशी की हालत में मिली. जिसके बाद उसे आनन-फानन में जिला अस्पताल में भर्ती करवाया गया और वारदात की सूचना पुलिस को दी गई. पीड़िता के शिनाख्त पर गांव के ही आरोपी युवक को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है.

बताते चलें बुधवार को ही  सीएम योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश में महिलाओं के खिलाफ अपराध को लेकर सख्त रुख अपनाते हुए पुलिस अधिकारियों के पेंच कसे थे.  मुख्यमंत्री ने बुधवार दोपहर प्रदेश के प्रमुख सचिव गृह अरविंद कुमार, पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह के साथ एडीजी महिला सुरक्षा, प्रमुख सचिव महिला कल्याण, प्रमुख सचिव न्याय और प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री एसपी गोयल के साथ बैठक की. इस दौरान सीएम ने महिलाओं के प्रति अपराध की बढ़ती घटनाओं पर चिंता जतायी.

सीएम योगी ने कहा कि नाबालिग से रेप पर फांसी का प्रावधान हो, इसके लिए वह केंद्र सरकार को पत्र लिखेंगे. उन्होंने कहा कि सभी जिलों के एसपी, डीएम जिले की शैक्षणिक संस्थाओं, व्यापार मंडल, एनजीओ को साथ लेकर जागरूकता फैलाएं. लोगों में सुरक्षा भाव पैदा करने का प्रयास करें. उन्होंने कहा कि स्कूलों चौराहों पर सार्वजनिक स्थलों पर सीसीटीवी लगाए जाएं. प्रदेश की महिला हेल्पलाइन 1090 और डायल 100 के बीच समन्वय बढ़ाया जाए. डॉक्टरों को रेप जैसे मामलों में मेडिकल करते समय संवेदनशीलता बरतने की ट्रेनिंग दी जाए.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...