विकास से नावाकिफ हैं ये 4 गांव, जंगल को मानते हैं देश और रेंजर को सरकार
Gonda News in Hindi

विकास से नावाकिफ हैं ये 4 गांव, जंगल को मानते हैं देश और रेंजर को सरकार
जंगलों में रहते ग्रामीणों की फोटो.

रामगढ़ की तरह चार और गांव बुटहनी, अशरफाबाद और मनीपुर गांव के लोगों का नाम भी देश के किसी सरकारी रिकॉर्ड में नाम नहीं है. वहीं गांव वालों को आधार कार्ड, वोटर कार्ड और राशन कार्ड के बारे में भी नहीं मालूम हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 27, 2018, 10:40 AM IST
  • Share this:
यूपी के गोंडा में ऐसे गांव हैं जो आजादी के 70 साल बाद भी मुख्य धारा में नहीं जुड़ पाए हैं. मनकापुर तहसील के रामगढ़ गांव टिकरी जंगल के बीच में बसा हुआ है. इस गांव की जनसंख्या करीब 800-1200 के करीब है. यहां रहने वाले लोग आदिवासियों से भी बदतर जीवन जीने को मजबूर हैं. सरकार या सरकारी योजनाएं क्या होती हैं ये इन्हें मालूम ही नहीं है. जंगल इनका देश है और रेंजर ही सरकार.

रामगढ़ की तरह चार और गांव बुटहनी, अशरफाबाद और मनीपुर गांव के लोगों का नाम भी देश के किसी सरकारी रिकॉर्ड में नाम नहीं है. वहीं गांव वालों को आधार कार्ड, वोटर कार्ड और राशन कार्ड के बारे में भी नहीं मालूम हैं. अगर चारों गांवों को मिलकर गांव में 4000-4500 के बीच लोग रहते हैं.

ऐसे चलती है जिंदगी



मनकापुर तहसील इलाके का चिकनी टंगिया गांव टिकरी जंगल के बीच में बसा हुआ है. ये लोग जंगलों में लकड़ी बीन कर वन विभाग के लोगों को देते हैं. वन विभाग के कर्मी इन्हें उसके बदले एक रुपये प्रति दो किलो लकड़ी के हिसाब से देते हैं जिससे ज्यादा से ज्यादा एक परिवार की औसत आमदनी 10 रुपये प्रतिदिन ही होती है.



यहां के लोग जंगल में पेड़ों के बीच में खेती करते हैं. जो पैदा होता है उसमें आधा वन विभाग के अधिकारी लेते हैं और आधा इन्हें मिलता है. इस गांव में सबसे ज्यादा पढ़ा-लिखा उमानाथ है, जो आठवीं तक पढ़ा हुआ है. गांव की महिलाएं अब बच्चों की चिंता को लेकर व्यथित हैं.

योगीजी करेंगे गांव का विकास

चिकनी टंगिया गांव में रहने वाले राम मनोहर ने मुलाकात के दौरान बताया कि साहब आजतक तो हम लोगों को सरकार की तरफ से कोई सुविधा तो नहीं मिली है, लेकिन अब योगी जी आ गए है, हम लोगों का भी विकास होगा. इस गांव की रहने वाली 66 साल की रजकुमारी देवी कहती हैं कि आधार कार्ड, वोटर कार्ड और राशन कार्ड आजतक नहीं बना. हमारी उम्मीद योगीजी से है. क्योंकि उन्होंने वनटांगिया गांवों के विकास के लिए घोषणा की है.

विधायक ने लिखा सीएम योगी को पत्र

इस मामले में गोंडा से बीजेपी विधायक प्रभात कुमार वर्मा वगटांगिया समुदाय के लोगों को समाज की मुख्यधारा में लाने के लिए सीएम योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर राजस्व ग्राम का दर्जा दिलाने की मांग कर चुके हैं.

विधायक ने लिखा सीएम योगी को पत्र.


क्या बोले डीएम?

इस मामले में जिलाधिकारी जेबी सिंह से बात की गई. उन्होंने बताया कि ये अंग्रेजों के समय में वन विभाग द्वारा बसाए गए लोग हैं. इनको स्थायी करने की तैयारी चल रही है. इनके स्थायीकरण की पत्रावली निस्तारण के लिए जनपद स्तर से शासन को भेजी जा चुकी है. शासन के निर्देशानुसार उनको राजस्व ग्राम का दर्जा देकर उन्हें मुख्यधारा में जोड़ा जायेगा. उन्होंने कहा कि जल्द ही उनको सारी सुविधाएं मुहैया कराई जाएंगी.

गांव के बच्चे, बूढ़े और महिलाओं को अब इंतजार है तो उस दिन का जब योगी सरकार उन्हें भारतीय होने का अधिकार प्रमाण देगी. जिसके तहत आने वाले वक्त में इन गांवों को शिक्षा, स्वास्थ्य, पक्के आवास, सड़क, बिजली सहित सभी बुनियादी सुविधाएं मिल सकेंगी.

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading