किसानों के लिए बड़े काम की हैंं ये स्कीमें, 20 से लेकर 90 फीसदी तक मिलेगी सरकारी सहायता

बेमौसम बारिश और ओलों ने किसानों की चिंता बढ़ा दी है.

यदि आपको खेती के लिए खरीदना है सोलर पंप तो योगी सरकार दे रही है 40 से 70 फीसदी की छूट, लाभ लेना है तो अपने जिले के कृषि उप निदेशक से मिलें

  • Share this:
    नई दिल्ली. योगी आदित्यनाथ सरकार किसानों के विकास के लिए कई बड़े काम कर रही है, जिसमें उन्हें सहायता देने के लिए अलग-अलग सुविधाओं पर भारी छूट का भी प्रावधान है. बीज से लेकर खाद और मशीनों तक में भारी छूट दी जा रही है. अगर आपको कोई लाभ लेना है तो अपने जिले के कृषि उप निदेशक से संपर्क करके फायदा उठा सकते हैं. अलग-अलग योजनाओं में 20 से लेकर 80 फीसदी तक की सरकारी सहायता मिल सकती है.

    >>2 और 3 हार्सपावर के सोलर पंप की खरीद पर 70 प्रतिशत तथा 5 हार्सपावर के सोलर पंप पर यूपी के लोग 40 प्रतिशत सरकारी ग्रांट ले सकते हैं.

    >>यदि आपको खेती-किसानी के काम के लिए मशीन खरीदनी है तो 20 से 50 प्रतिशत की सरकारी सहायता मिल सकती है.

    >>मशीन बैंक बनाने पर 40 से 80 प्रतिशत तक की छूट मिल सकती है. इसके तहत आप 60 लाख रुपये तक का प्रोजेक्ट पास करवा सकते हैं. यानी अपने क्षेत्र के किसानों की जरुरतों को समझते हुए इतनी रकम की मशीनें खरीद सकते हैं. आपके इस प्रोजेक्ट में 24 लाख रुपये सरकार लगाएगी.

    farmers assistance scheme in Uttar Pradesh, उत्तर प्रदेश में किसानों की सहायता के लिए स्कीम, good news for farmers, subsidy for farmers, kisan scheme, agriculture mechanization, modi government, yogi government, किसानों के लिए अच्छी खबर, किसानों के लिए सब्सिडी, किसानों के लिए योजना, कृषि मशीनीकरण, मोदी सरकार, योगी सरकार
    मशीन बैंक बनाने पर 40 से 80 प्रतिशत तक सरकारी सहायता है


    >>स्प्रिंकलर सेट पर 90 जबकि कृषि रक्षा रसायनों पर 50 प्रतिशत अनुदान की व्यवस्था की गई है.

    >>जमीन के लिए कुछ खास पोषक तत्वों को भी खरीदने पर सरकारी सहायता मिलती है. जिंक सल्फेट पर 50 प्रतिशत, जिप्सम पर 75 प्रतिशत और माइक्रो न्यूट्रिएंट पर 50 प्रतिशत अनुदान का प्रावधान है.

    >>सामान्य धान एवं गेहूं बीज की चयनित प्रजातियों पर 2 से 14 रुपये प्रति किलो तक, दलहनी बीजों पर 40 से 45 रुपये प्रति किलो व तिलहन बीजों पर 33 से 40 रुपये प्रति किलो तक की सरकारी हेल्प मिलेगी.

    >>इसी तरह हाईब्रिड धान की खरीद पर पर 130 रुपये प्रति किलो तथा मक्का व ज्वार पर 100 रुपये किलो तक का अनुदान है.

    >>पिछड़ा क्षेत्र होने की वजह से तिल के बीज पर बुंदेलखंड के किसानों को 90 प्रतिशत तथा अन्य क्षेत्र के किसानों को 50 प्रतिशत अनुदान है.

    ये भी पढ़ें: 

    पाकिस्तानी टिड्डियों के हमले से राजस्थान में 55 हजार किसानों की फसल बर्बाद, इतना मिला मुआवजा 

    किसानों को सालाना 6000 रुपये देने वाली स्कीम में हुए ये 5 बड़े बदलाव, लाखों रुपये के फायदे उठाने का आखिरी मौका

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.