गोरखपुर- सांसों के सौदगरों पर हंटर! छापेमारी में 100 Oxygen सिलेन्डर बरामद


छापेमारी में कई कंसंट्रेटर भी बरामद हुए है जिसके बाद टीम ने दुकान को सीज कर दिया.

छापेमारी में कई कंसंट्रेटर भी बरामद हुए है जिसके बाद टीम ने दुकान को सीज कर दिया.

सांसों के ये सौदागर इन सिलेन्डरों को आदमी की जरूरत के हिसाब से बेचते थे. 25 हजार रुपये से लेकर 40 हजार रुपये तक में लोगों को सिलेन्डर उपलब्ध कराते थे. इतना ही नहीं गोरखपुर की मार्केट से गायब ऑक्सीजन कंसंट्रेटर भी इसके यहां बरामद हुआ.

  • Share this:

गोरखपुर. कोविड के इस संकट काल में पीड़ितों को जहां एक एक सांस के लिए लड़ना पड़ रहा है तो वहीं सांसों के सौदागर इस समय पैसा बनाने में जुटे हैं. गोरखपुर में भी ऐसा ही मामला सामने आया जब सिटी मजिस्ट्रेट अभिनव रंजन के नेतृत्व में सदर तहसील की टीम ने गोरखनाथ क्षेत्र के बोरिंग नम्बर 10 के पास एक दुकान पर छापा मारा. टीम जैसे ही वहां पहुंची उसकी आखें खुली की खुली रह गईं. मौजूदा दौर में जब एक एक ऑक्सीजन सिलेन्डर के लिए लोग परेशान हो रहे हैं तो 'मां अंबे गैस सर्विस' पर 100 छोटे-बड़े ऑक्सीजन सिलेन्डर मिले. इन सिलेन्डरों की कीमत सुनकर आप दंग रह जाएंगे. सांसों के ये सौदागर इन सिलेन्डरों को आदमी की जरूरत के हिसाब से बेचते थे. 25 हजार रुपये से लेकर 40 हजार रुपये तक में लोगों को सिलेन्डर उपलब्ध कराते थे. इतना ही नहीं गोरखपुर की मार्केट से गायब ऑक्सीजन कंसंट्रेटर भी इसके यहां बरामद हुआ.

जब से ये संकट शुरू हुआ है तब लेकर अब तक ये करीब 100 कंसंट्रेटर बेंच चुका है. सोमवार को हुई छापेमारी में कई कंसंट्रेटर भी बरामद हुआ है जिसके बाद टीम ने दुकान को सीज कर दिया है. साथ ही अब ये पता लगाने में जुटी है कि यहां से कितने लोगों को ऑक्सीजन सिलेन्डर बेंचा गया है, और ऑक्सीजन कंसंट्रेटर का कितना दाम लिया गया है. सिटी मजिस्ट्रेट अभिवन रंजन श्रीवास्तव का कहना है कि जिस दुकान पर ये कालाबजारी का खेल चल रहा था वो ऑक्सीजन सिलेन्डर बेंचने के लिए अधिकृत भी नहीं था. अब ये जांच की जा रही है कि इसके तार कहां कहां से जुटे हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज