• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • 125 साल के स्वामी शिवानंद ने बताया लंबी उम्र का राज; शिष्यों ने गिनीज बुक को भेजा सबसे उम्रदराज होने का आवेदन

125 साल के स्वामी शिवानंद ने बताया लंबी उम्र का राज; शिष्यों ने गिनीज बुक को भेजा सबसे उम्रदराज होने का आवेदन

125 साल के स्‍वामी शिवानंद ने बताया लंबी उम्र का राज

125 साल के स्‍वामी शिवानंद ने बताया लंबी उम्र का राज

उबला हुआ खाना और शांत रहने के फॉर्मूले पर जीवन जीने वाले वाराणसी के स्वामी शिवानंद (Swami Sivananda) के आधार कार्ड पर दर्ज है 8 अगस्त 1896 की जन्मतिथि. इस आधार पर उनके शिष्यों ने सबसे उम्रदराज व्यक्ति होने का दावा किया है. गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड को भी भेजा.

  • Share this:
गोरखपुर. धर्मनगरी वाराणसी के रहने वाले स्वामी शिवानंद (Swami Sivananda) 125 साल की उम्र में पूरी तरह से स्वस्थ हैं. उनके शिष्यों का दावा है कि वो विश्व के सबसे बुजुर्ग व्यक्ति हैं और पूरी तरह से स्वस्थ हैं. विश्व के सबसे उम्रदराज व्यक्ति के रूप में उनका नाम दर्ज कराने के लिए शिष्यों ने गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में आवेदन भी किया है. गोरखपुर के आरोग्य मंदिर में अपने शिष्यों के साथ घूमने आए स्वामी शिवानंद यहां प्रकृतिक चिकित्सा के बारे में जानना चाहते थे. पासपोर्ट और आधार कार्ड पर उनकी जन्मतिथि 8 अगस्त 1896 दर्ज है. इसके आधार पर वो 125 साल के हो गए हैं.

इस उम्र में भी वो पूरी तरह से स्वस्थ हैं. स्वामी शिवानंद इसका राज इंद्रियों पर नियंत्रण, संतुलित दिनचर्या, सादा भोजन और योग को बताते हैं, स्वामी जी का मूल मंत्र है कि 'मिजाज कूल लाइफ ब्यूटीफुल' और 'नॉट ऑयल ओनली बॉयल'. यानी वो हमेशा शांत रहते हैं और खाने में तेल का प्रयोग नहीं करते हैं. साथ ही सुबह 3 बजे वो सोकर उठ जाते हैं और रात में 9 बजे के पहले ही सो जाते हैं. नाश्ते में लाई चूरा और दोपहर और रात के खाने में दाल रोटी व उबली हुई सब्जी खाते हैं.

Ghaziabad News: मंदिर में पानी पीने गए बच्चे को जमकर पीटा, फिर वायरल किया वीडियो, गिरफ्तार

स्वामी शिवानंद कहते हैं कि अगर स्वस्थ रहना है तो उबला हुआ खाना खाएं. साथ ही खाने में तेल का कम से प्रयोग करें. उनका कहना है कि नमक और चीनी जितना कम हो सके उतना कम खाए. वहीं स्वामी के शिष्य सुब्रोतो ने बताया कि स्वामी जी के माता-पिता बहुत गरीब थे. इसलिए उन्हें बचपन में एक साधु को सौंप दिया था. जिसके बाद से स्वामी जी उनके के साथ रहे और तभी से वो संयमित जीवन जीते हैं. स्वामी जी दूध और फल नहीं खाते हैं वो कहते हैं कि देश में बहुत से ऐसे गरीब हैं जिन्हे ये नसीब नहीं होता है इसलिए वो भी इसे नहीं खाएंगे.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज