कोरोना पेशेंट की मौत के बाद पेंमट को लेकर जमकर हंगामा, अस्पताल के लोगों ने परिजनों को पीटा

गोरखपुर में एक निजी अस्पताल में कोविड पेशेंट की मौत के बाद पेमेंट को लेकर बवाल हो गया और अस्पताल के लोगों ने परिजनों की पिटाई कर दी.

गोरखपुर में एक निजी अस्पताल में कोविड पेशेंट की मौत के बाद पेमेंट को लेकर बवाल हो गया और अस्पताल के लोगों ने परिजनों की पिटाई कर दी.

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर के कैंट थाना क्षेत्र कोविड पेशेंट की मौत पर परिजनों से पैसे की लेनदेन को लेकर अस्पताल प्रबंधन के लोग और परिजनों के बीच पर जमकर बवाल हुआ. इस दौरान अस्पताल के लोगों ने मृतक के परिजनों को जमकर पीटा और लहूलुहान कर दिया.

  • Last Updated: April 28, 2021, 10:13 PM IST
  • Share this:
गोरखपुर. उत्तर प्रदेश के गोरखपुर के कैंट थाना क्षेत्र के खोवा मंडी गली का है, जहां पर एक कोविड पेशेंट की मौत हो जाने के बाद परिजनों और अस्पताल मैनेजमेंट के बीच पैसे के लेनदेन को लेकर विवाद हो गया और जमकर बवाल हुआ. अस्पताल के लोगों ने मृतक के परिजनों को जमकर पीटा और लहूलुहान कर दिया.

एक तरफ कोरोना का तांडव, दूसरी तरफ इन डॉक्टरों की गुंडागर्दी, धरती के भगवान कहे जाने वाले ये डॉक्टर में कुछ ऐसे हैं, जो अपने फर्ज को बखूबी निभा रहे हैं. अपनी जान जोखिम में डालकर लोगों की जिंदगी बचा रहे हैं, लेकिन कुछ ऐसे भी हैं, जिनके लिए ये वक्त सिर्फ पैसे कमाने का जरिया बना हुआ है. शायद यही वजह है, कि गोरखपुर के खोवामण्डी गली में बेलघाट थाना क्षेत्र निवासी मृतक जुल्फिकार खान कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट आया तो उन्हें इस अस्पताल में भर्ती कराया गया था. 2 दिन पहले भर्ती जुल्फिकार की आज मौत हो गई, जिसके बाद परिजनों और अस्पताल के कर्मचारियों के बीच पैसों को लेकर कहासुनी हो गयी.

Youtube Video


विवाद के बाद अस्पताल कर्मियों ने पीड़ित परिवार वालों को मारपीट कर लहूलुहान कर दिया, पीड़ित परिवार का यह भी आरोप है कि उन्होंने ऑक्सीजन भी बंद कर दिया था, जिससे उनकी मौत हुई है. और इसके बाद हमें खींचकर दौड़ा-दौड़ा कर मारे पिटे हैं, इस घटना की जानकारी तत्काल पुलिस को दी गई. एक तरफ इनके अपने अपनों से दूर हो गए, तो वही दूसरी तरफ अस्पताल को सिर्फ पैसे की पड़ी है. पैसे को लेकर मारने पीटने पर आमादा हो जा रहे हैं.
जहां एक तरफ सरकारी तंत्र और सरकार के साथ जिला प्रशासन भी पूरी मुस्तैदी के साथ कोरोना वायरस से दो-दो हाथ करने के लिए सड़कों पर मौजूद नजर आ रहा है. वहीं दूसरी तरफ तमाम ऐसे अस्पताल है, जो इस वैश्विक महामारी काल में भी पैसे की चाह रखते हुए सिर्फ पैसे कमाने का जरिया बना चुके हैं. उन्हें किसी के जिंदगी और मौत से कोई लेना देना नहीं है, उन्हें तो सिर्फ पैसों का लालच है. जिसको लेकर वह गुंडागर्दी पर आमादा हो जाते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज