Home /News /uttar-pradesh /

माना अपनी जेब से फकीर हैं, फिर भी यारों दिल के हम अमीर हैं... पढ़ें, भिखारी की अमीरी का किस्सा

माना अपनी जेब से फकीर हैं, फिर भी यारों दिल के हम अमीर हैं... पढ़ें, भिखारी की अमीरी का किस्सा

भिखारी के हाथ लगा छात्र का खोया हुआ 20 हजार रुपये का मोबाइल. उसने लौटा दिया.

भिखारी के हाथ लगा छात्र का खोया हुआ 20 हजार रुपये का मोबाइल. उसने लौटा दिया.

Honest Bagger: नीलाभ का गिरा मोबाइल मंदिर परिसर में ही बैठने वाले भिखारी श्याम शंकर को मिल गया. ​श्याम शंकर ने मोबाइल अपने पास सुरक्षित रख लिया. इस बीच नीलाभ ने किसी और नंबर से अपने नंबर पर कॉल किया, तो श्याम शंकर ने फोन उठाकर उन्हें बताया कि उन्होंने फोन अपने पास सुरक्षित रख रखा है. उन्होंने काली मंदिर में आकर फोन ले जाने की बात कही, तब नीलाभ की सांस में सांस आई.

अधिक पढ़ें ...

गोरखपुर. गोरखपुर को याद करते हुए आपको चुहल में भले गोरखधंधे की याद आ जाए, पर आज कुछ ऐसा हुआ कि अचानक धर्मवीर भारती की कविता की पंक्तियां याद आ गईं. भारती ने लिखा था – कह दो उनसे/ जो खड़े हैं बाहर/ कि कीमत चाहे शोहरत हो या पैसा/ हर भूखा आदमी बिकाऊ नहीं होता… आप चाहें तो मुकेश के गाए गीत की पंक्ति ‘माना अपनी जेब से फकीर हैं, फिर भी यारों दिल के हम अमीर हैं’ को भी याद कर सकते हैं.

जी हां, आज गोरखपुर में भीख मांगकर गुजर-बसर करनेवाले ने एक शख्स का खोया मोबाइल फोन उसे लौटा दिया. फोन भी कोई साधारण नहीं था, उसकी कीमत 20 हजार रुपये थी. यह मामला गोरखपुर के बिछिया का है. यहां रहनेवाले छात्र नीलाभ का मोबाइल फोन खो गया था. वे काफी परेशान थे. दरअसल नीलाभ अपने जन्मदिन पर गोलघर स्थित काली मंदिर में दर्शन करने गए थे. इस दौरान उनका मोबाइल कहीं गिर गया. जन्मदिन के दिन महंगा मोबाइल खो जाने से वे काफी हताश थे.

उधर, नीलाभ का गिरा मोबाइल मंदिर परिसर में ही बैठने वाले भिखारी श्याम शंकर को मिल गया. ​श्याम शंकर ने मोबाइल अपने पास सुरक्षित रख लिया. इस बीच नीलाभ ने किसी और नंबर से अपने नंबर पर कॉल किया, तो श्याम शंकर ने फोन उठाकर उन्हें बताया कि उन्होंने फोन अपने पास सुरक्षित रख रखा है. उन्होंने काली मंदिर में आकर फोन ले जाने की बात कही, तब नीलाभ की सांस में सांस आई. नीलाभ तुरंत मंदिर लौटे और श्याम शंकर से अपना फोन वापस लिया. ​शंकर की ईमानदारी से नीलाभ काफी खुश हुए और उन्होंने शंकर को एक स्वेटर उपहार स्वरूप दिया.

उधर, जू कीपर ने भी कायम की मिसाल

कुछ ऐसा ही एक वाकया बुधवार को भी हुआ. शहीद अशफाक उल्ला खां प्राणी उद्यान में तैनात जू कीपर देवेन्द्र और अभिषेक को चांदी के जेवर एवं नगदी के भरा बैग बब्बर शेर के बाड़े के पास मिला. जिसके बाद जू कीपर ने उस बैग को कार्यालय में जमा करा दिया. कुछ देर बाद एक महिला अपना पर्स खोजते हुए आई और लोगों से पूछताछ करने लगी. जिसके बाद उन्हे कार्यालय बुलाकर चांदी के जेवर और नगदी से भरा बैग वापस किया गया. जू कीपर की ईमानदारी ने सभी का दिल जीत लिया.

Tags: Honesty, Mobile

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर