187 श्रमिक फ्लाइट से पहुंचे गोरखपुर, बोले- अमिताभ बच्‍चन की वजह से पहली बार जहाज में बैठे
Gorakhpur News in Hindi

187 श्रमिक फ्लाइट से पहुंचे गोरखपुर, बोले- अमिताभ बच्‍चन की वजह से पहली बार जहाज में बैठे
अमिताभ बच्चन ने चार्टर्ड फ्लाइट से श्रमिकों को भेजा यूपी

गोरखपुर और बस्ती मंडल के 187 श्रमिकों को अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) ने हाजी अली ट्रस्ट के सहयोग से बुधवार को गोरखपुर भिजवाया.

  • Share this:
गोरखपुर. कोरोना संकट काल (Corona Pandemic) में फंसे पूर्वांचल के प्रवासी श्रमिकों (Migrant Workers) की मदद के लिए सदी के महानायक अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) आगे आये. जो श्रमिक कभी सपने में भी फ्लाइट से यात्रा के बारे में नहीं सोच सकते थे, उन्हें फ्लाइट से अमिताभ बच्चन ने गोरखपुर (Gorakhpur) भेजा. गोरखपुर और बस्ती मंडल के 187 श्रमिकों को अमिताभ बच्चन ने हाजी अली ट्रस्ट के सहयोग से बुधवार को गोरखपुर भिजवाया. गोरखपुर एयरपोर्ट पर जब ये श्रमिक पहुंचे तो खुशी के मारे उनकी आंखे छलक पड़ीं. प्रवासी श्रमिकों ने कहा कि वो अमिताभ बच्चन की वजह से न केवल अपने घर पहुंच गये, बल्कि पहली बार उन्हें जहाज में बैठकर यात्रा करने का मौका भी मिला.

प्रयागराज और वाराणसी भी पहुंची फ्लाइट

लॉकडाउन में मुंबई में फंसे यूपी और बिहार के कामगारों को घर भेजने के लिए अमिताभ बच्चन और उनकी टीम मिशन मिलाप के तहत अभियान चला रही है. इस अभियान के तहत बड़ी संख्या में प्रवासी श्रमिकों को उनके घर बसों से भेजा गया. पूर्वांचल के श्रमिकों के लिए पहले अमिताभ बच्चन की टीम ट्रेन का प्रबंध करने का प्रयास कर रही थी. लेकिन जब ये प्रयास सफल नहीं हो सका तो उन्होंने श्रमिकों को अलग-अलग शहरों में भेजने के लिए इंडिगो की बोईंग विमान बुक कर दिया, बुधवार को उसी में से एक बोईंग श्रमिकों को लेकर गोरखपुर पहुंचा. बुधवार को ही मुंबई से प्रयागराज और वाराणसी के लिए दो चार्टर फ्लाइट आयी थी.



श्रमिकों के चेहरे खिले
गोरखपुर एयरपोर्ट पर पहुंचे श्रमिकों के चेहरे यहां पहुंचते ही खिल गये. रन-वे से एक्जिट लाउंज तक सभी आये. स्क्रीनिंग कराई और फिर बाहर निकले, विमान में सभी श्रमिकों को ग्लब्स, सेनेटाइजर और खाने-पीने के सामान दिए गये थे. विमान का पूरा खर्चा अमिताभ बच्चन की टीम मिशन मिलाप और हाजी अली ट्रस्ट ने उठाया. चार्टर्ड प्लेन से आये एक श्रमिक ने कहा कि वो गोरखपुर आने के लिए लंबे समय से प्रयास कर रहे थे पर ट्रेन नहीं मिल पा रही थी. इसके बाद अमिताभ बच्चन के बारे में पता चला तो वहां पहुंच कर रजिस्ट्रेशन कराया. रजिस्ट्रेशन के बाद आठ जून को फोन आया कि 10 जून को गोरखपुर जाने के लिए विमान का इंतजाम हो गया है. जिसके बाद मुंबई में घर पर ही गाड़ी आयी और उसी से हम लोग एयरपोर्ट पहुंचे, जहां से जहाज में बैठकर दो घंटे में गोरखपुर आ गये.

ये भी पढ़ें:

प्रधानमंत्री 2 जुलाई को कर सकते हैं श्रीराम जन्मभूमि के मंदिर का शिलान्यास!

ई-रिक्शा की बैटरी के लिए सालों की दोस्ती पर लगाया कलंक, कर दी दोस्त की हत्या
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading