वनटांगियों गांव पहुंचकर भावुक हुए CM योगी, बोले- गरीबों के चेहरे पर खुशहाली ही दिवाली की सार्थकता

वनटांगियों के लिए संघर्ष को याद कर भावुक हुए सीएम योगी
वनटांगियों के लिए संघर्ष को याद कर भावुक हुए सीएम योगी

योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने कहा कि विकास की योजनाओं का लाभ सभी तक पहुंचे, इसके लिए जनमानस को भी पूरी जानकारी होनी चाहिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 14, 2020, 3:58 PM IST
  • Share this:
गोरखपुर. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने शनिवार को वनटांगिया गांव जंगल तिनकोनिया नम्बर तीन में वनवासियों के बीच दिवाली मनाते हुए कहा कि गरीबों के चेहरे पर खुशहाली लाना ही दिवाली की सार्थकता है. इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने वनटांगिया गांवों के लिए 65.77 लाख रुपये की विकास परियोजनाओं (खड़ंजा, सामुदायिक शौचालय, पंचायत भवन, आंगनबाड़ी केंद्र) का लोकार्पण व शिलान्यास करने के साथ प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 10 लाभार्थियों को स्वीकृति पत्र, पुष्टाहार योजना के तहत 10 लाभार्थियों को ड्राई राशन पैकेट व वनटांगिया स्कूल के 10 बच्चों को अपने हाथों से स्कूल ड्रेस, स्वेटर वितरित किया.

भावुक हुए सीएम योगी
जंगल तिनकोनिया नम्बर तीन में अपने संबोधन के दौरान वनटांगियों के लिए अपने संघर्ष को याद कर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भावुक हो उठे. उन्होंने कहा कि देश को आजादी 1947 में ही मिल गई लेकिन वनटांगियों को वास्तविक आजादी पाने में उसके बाद भी सत्तर साल लग गए. यहां से जिला मुख्यालय पहुंचने में भले ही सत्तर मिनट से कम समय लगे लेकिन वनटांगिया लोगों को अपना हक पाने के लिए सत्तर साल का इंतज़ार करना पड़ा.

उन्होंने कहा कि वनटांगिया गांवों में लोग झोपड़ी में, ढिबरी की रोशनी में रहने को मजबूर थे. यहां सिर्फ दीनता दिखती थी. वह यहां की समस्याओं से वाकिफ थे. मुख्यमंत्री बनने के बाद इन वनवासियों को समाज की मुख्यधारा से जोड़ा गया. राजस्व ग्राम घोषित किया गया. प्रदेश की बागडोर मेरे हाथ में आई तो इन वनटांगिया गांवों में आज सड़क, बिजली, पानी, पक्के मकान, खेती, स्कूल, स्वास्थ्य सुविधा, आयुष्मान कार्ड। राशन कार्ड, पेंशन योजनाओं का लाभ आदि सबकुछ है.
पूर्व की सरकारों पर साधा निशाना



योगी आदित्यनाथ ने कहा कि विकास की योजनाओं का लाभ सभी तक पहुंचे, इसके लिए जनमानस को भी पूरी जानकारी होनी चाहिए. सरकार, अफसर, जनप्रतिनिधियों के साथ ही आमजन की नैतिक जिम्मेदारी है कि समाज में जो भी वंचित रह गया है, उसे सरकार द्वारा संचालित योजनाओं का लाभ दिलाएं. उन्होंने कहा कि उनकी सरकार ने बिना जाति, मजहब के भेदभाव के हर स्तर पर विकास का प्रयास किया है. इसमें पिक एंड चूज की गुंजाइश भी नहीं है. पूर्व की सरकारों में गरीब जिन सुविधाओं के बारे में सोच तक नहीं सकते थे, आज वह सभी सुविधाएं उनके अपने पास हैं.

एक दीया जलाएं देश की सुरक्षा में लगे जवानों के नाम
मुख्यमंत्री ने लोगों का आह्वान किया कि वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील पर चलने का संकल्प लेते हुए इस दिवाली एक दीया देश की सुरक्षा में लगे जवानों के नाम जरूर जलाएं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज