अपना शहर चुनें

States

Exclusive Interview: योगी आदित्यनाथ बोले- अवैध बूचड़खानों पर प्रतिबंध की वजह से यूपी में नहीं हुई मॉब लिंचिंग

अयोध्या के राम मंदिर ट्रस्ट समेत कई मुद्दों पर PM मोदी से करेंगे चर्चा (file photo)
अयोध्या के राम मंदिर ट्रस्ट समेत कई मुद्दों पर PM मोदी से करेंगे चर्चा (file photo)

2017 के अपने मैनिफेस्टो पर अमल करते हुए यूपी सरकार ने प्रदेश में अवैध पशु कटान और बूचड़खानों पर प्रतिबंध लगा दिया है. साथ ही गाय तस्करी पर भी रोक लगाई गई है. योगी आदित्यनाथ ने यह दावा न्यूज़18 के एडिटर इन चीफ राहुल जोशी के साथ एक खास इंटरव्यू में किया

  • Share this:
गोरखपुर.  मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने बुधवार को कहा कि यूपी में पिछले ढाई वर्षों में मॉब लिंचिंग (Mob Lynching) और दंगे की घटना इस वजह से नहीं हुई, क्योंकि यहां अवैध स्लॉटर हाउस (Illegal Slaughter House) पर प्रतिबंध लगाया गया. योगी आदित्यनाथ ने यह दावा न्यूज़18 के एडिटर इन चीफ राहुल जोशी के साथ एक खास इंटरव्यू में किया. जब उसने पूछा गया कि क्या मॉब लिंचिंग की घटना की वजह से प्रदेश में निवेश प्रभावित हुआ है तो उन्होंने कहा नहीं, ऐसा पहले हुआ करता था. पिछले ढाई सालों में एक भी दंगा नहीं हुआ. दूसरी बात यह कि यूपी में कोई मॉब लिंचिंग की घटना नहीं हुई क्योंकि हमने उन तत्वों पर प्रतिबन्ध लगाया जिसकी वजह से दंगे होते थे. हमने अवैध स्लॉटर हाउस पर प्रतिबंध लगा दिया.

बता दें 2017 के अपने मैनिफेस्टो पर अमल करते हुए सरकार ने प्रदेश में अवैध पशु कटान और बूचड़खानों पर प्रतिबंध लगा दिया है. साथ ही गाय तस्करी पर भी रोक लगाई गई है.





आवारा पशुओं की समस्याओं को भी लेकर हो रहा काम
मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार लोकसभा चुनावों के दौरान मुद्दा रहे आवारा पशुओं को भी लेकर काम कर रही है और कई कदम उठाए गए हैं. मुख्यमंत्री ने कहा, " हमने आवारा पशुओं को लेकर एक कैंपेन भी चलाया है. यह सफल भी हो रहा है. आज प्रदेश में करीब साढ़े तीन लाख के करीब आवारा पशु हैं. हम एक योजना लेकर आए हैं. अगर कोई व्यक्ति अपने घर में एक आवारा गाय को गोद लेता है तो उसे महीने 900 रुपए मिलेंगे. लेकिन इसकी शर्त यही है कि वह गाय की सेवा करे. हर महीने वह गाय को पशु चिकित्सक के पास लेकर जाए. हम इसके लिए भी भुगतान करेंगे."



दुधारू गाय के लिए हो रहा काम
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि यह एक समस्या है कि लोग गायों को छोड़ देते हैं जब वह दूध देना बंद कर देती है. मुख्यमंत्री ने कहा, " इस बहस के दो पहलु हैं. पहला आम व्यक्ति की आर्थिक स्थिति और दूसरी एक गाय जो 100-200 मिली लीटर दूध देती थी, लेकिन अब वह उपयोगी नहीं है. इस समस्या के संधान की दिशा में भी हमने काम करना शुरू किया है. हम कोशिश कर रहे हैं कि उच्च गुणवत्ता वाली गायों का संवर्धन हो.

ये भी पढ़ें:

सीएम योगी बोले- जनसंख्या कम होने के बावजूद मुसलमानों को योजनाओं का मिला ज्यादा लाभ

Exclusive: योगी आदित्यनाथ बोले- ढाई साल में हमने चुनौतियों को अवसर में बदला
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज