• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • गोरखपुर और पूर्वांचल की युवा पीढ़ी के लिए एक नजीर हैं IAS देशदीपक वर्मा: सीएम योगी

गोरखपुर और पूर्वांचल की युवा पीढ़ी के लिए एक नजीर हैं IAS देशदीपक वर्मा: सीएम योगी

पूर्वांचल की युवा पीढ़ी के लिए एक नजीर हैं IAS देशदीपक वर्मा

पूर्वांचल की युवा पीढ़ी के लिए एक नजीर हैं IAS देशदीपक वर्मा

गोरक्षनाथ मंदिर में आयोजित नर्सिंग कॉलेज के शपथ ग्रहण समारोह में शिरकत करने आये देशदीपक वर्मा ने कहा कि यहां की गलियों से बहुत कुछ सीखने को मिलता है.

  • Share this:
गोरखपुर. छोटे शहरों में रहकर भी बड़े सपनों को पूरा किया जा सकता हैं. इसी कड़ी में राज्यसभा के महासचिव आईएएस देशदीपक वर्मा इसके मिशाल बने हैं, पिछड़ा क्षेत्र माने जाने वाले पूर्वांचल के गोरखपुर (Gorakhpur) का एक युवा 70 के दशक में यहीं से इंटर पास कर इलाहाबाद आगे की पढ़ाई करने जाता है और फिर वहां से वापस आकर गोरखपुर में रहकर आईएएस की तैयारी करता है. पहले ही प्रयास में इंटरव्यू तक का सामना करते हैं और दूसरे प्रयास में वो सफल होकर देश के आईएएस बनते हैं.

गोरक्षनाथ मंदिर में आयोजित नर्सिंग कॉलेज के शपथ ग्रहण समारोह में शिरकत करने आये देशदीपक वर्मा ने कहा कि यहां की गलियों से बहुत कुछ सीखने को मिलता है. बहुत प्रेरणा मिलती थी, आईएएस में जब पहली बार कुछ नम्बर इंटरव्यू में कम हो मिले थे और जब दूसरी बार की तैयारी के लिए वापस गोरखपुर आया तो तो इन गलियों में घूमता था और कहता था तो मैं कहता था कि I Can Do It, I Will do it और दूसरी बार में मुझे सफलता मिली.

गोरक्षनाथ नर्सिंग कॉलेज के आयोजित शपथ ग्रहण समारोह में मुख्य अतिथ के रूप में शिरकत करने आये देश दीपक वर्मा ने छात्राओं को स्वामी विवेकानंद के जीवन से प्रेरणा लेकर आगे बढ़ने को कहा. वहीं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि देशदीपक वर्मा प्रशासनिक क्षेत्र में कई जगहों पर काम करने के बाद आज राज्यसभा के महासचिव है, गोरखपुर और पूर्वांचल के युवा पीढ़ी को इनसे सीख लेनी चाहिए, पूर्वांचल को लोग पिछड़ा क्षेत्र मानते हैं अगर देश दीपक वर्मा इसी पिछड़े क्षेत्र से आगे जाकर इस पद पर बैठ सकते हैं तो आप में से हर व्यक्ति में क्षमता होनी चाहिए.

सीएम योगी ने कहा कि आप सब में वो क्षमता है उसको पहचनाने की अवश्यकता है, बड़ा बनने के लिए बड़े घर में पैदा होना आवश्यक नहीं है, कोई भी बड़ा बन सकता है. लक्ष्य बड़ा हो तो प्रयत्न करने के तरीके भी बड़े हो. परिश्रम और पुरुषार्थ का कोई विकल्प नहीं है. हमें बेहतर प्रयास करना चाहिए​.

ये भी पढ़ें:

फर्रुखाबाद: 11 घंटे तक 23 बच्चों को बंधक बनाने वाले सिरफिरे सुभाष की पत्नी की भी मौत

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज