Gorakhpur news

गोरखपुर

अपना जिला चुनें

जानिए चुनाव के दौरान CM योगी किस 'टोटके' का करते हैं इस्तेमाल?

 मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

Lok Sabha Election 2019 - गोरखपुर सीट खासतौर से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के लिए प्रतिष्ठा का सवाल है. योगी यहां से 5 बार सांसद चुने जा चुके हैं, लेकिन वर्ष 2018 में हुए उपचुनाव में बीजेपी को हार का सामना करना पड़ा था.

SHARE THIS:
लोकसभा चुनाव 2019 के सातवें और अंतिम चरण के लिए रविवार को यूपी की 13 सीटों पर मतदान हुई. चुनाव के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ एक 'खास टोटके' का इस्तेमाल किया. हर बार की तरह गोरखपुर शहर में होने वाली उनकी आखिरी चुनावी सभा टाउन हॉल स्थित गांधी प्रतिमा के पास होती है, जिसे योगी आदित्यनाथ संबोधित करते हैं. इसी कड़ी में सातवें चरण के प्रचार के अंतिम दिन बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और सीएम योगी की सभा टाउन हॉल से शुरू हुई थी.

सीएम योगी द्वारा प्रचार के आखिरी दिन टाउन हॉल पर सभा करने के पीछे को एक टोटके से जोड़ा जाता रहा है. इसी कड़ी में मतदान के दिन सबसे पहले योगी आदित्यनाथ वोट करने पहुंचते हैं, जिसके पीछे की वजह भी पार्टी प्रत्याशी की जीत का 'टोटका' माना जाता है.

कब शुरू हुआ सिलसिला
यह सिलसिला साल 2002 से शुरू हुआ था, जब योगी ने भाजपा के प्रत्याशी और तीन बार के विधायक और वर्तमान में केंद्रीय मंत्री शिव प्रताप शुक्ल के खिलाफ हिंदू महासभा के बैनर से अपना उम्मीदवार लड़ाया और जिताया भी था. तब से हर चुनाव में योगी आखिरी सभा इसी गांधी प्रतिमा के पास करते हैं.

टाउन हॉल पर चुनावी सभा


गोरक्षनाथ पीठ का रहा है दबदबा
गोरखपुर सीट बीजेपी के लिए खासकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के लिए प्रतिष्ठा का सवाल है. सीएम योगी यहां से 5 बार सांसद चुने जा चुके हैं. वर्ष 1952 में पहली बार गोरखपुर लोकसभा सीट के लिए चुनाव हुआ और कांग्रेस ने जीत दर्ज की. इसके बाद गोरक्षनाथ पीठ के महंत दिग्विजयनाथ 1967 में निर्दलीय चुनाव जीता. उसके बाद 1970 में योगी आदित्यनाथ के गुरु अवैद्यनाथ ने निर्दलीय जीत दर्ज की.

निषाद कराएंगे बीजेपी की नैया पार?
पूर्वी उत्तर प्रदेश की कई सीटों पर निषाद वोटर्स का खासा असर माना जाता है, लेकिन प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की कर्मभूमि गोरखपुर में इस जाति के वोटों को लेकर कौतुहल सबसे अधिक है. साल 2018 में हुए उपचुनाव में भाजपा ने यह सीट गंवा दी थी और सपा-बसपा तथा निषाद पार्टी के संयुक्त प्रत्याशी प्रवीण निषाद विजयी हुए थे. वर्ष 2019 के चुनाव में अब सारा दामोदार निषाद वोटर्स पर आकर टिका है. इस सीट पर भोजपुरी फिल्मों के अभिनेता रवि किशन, सपा-बसपा गठबंधन के रामभुआल निषाद और कांग्रेस के मधुसूदन तिवारी चुनावी दंगल में हैं.

टाउन हॉल पर उमड़ी भीड़


5 विधानसभा सीटों पर बीजेपी का कब्ज़ा
गोरखपुर में 19 लाख मतदाताओं में से आधे से कुछ अधिक पिछड़ी जातियों के हैं. दलितों की भी गोरखपुर और फूलपुर दोनों में काफी संख्या है. वर्तमान समय में गोरखपुर में पड़ने वाली सभी 5 विधानसभा सीटों पर भाजपा का कब्ज़ा है. इसके अलावा योगी आदित्यनाथ की इस क्षेत्र में काफी पकड़ है. गोरखपुर के जातीय गणित को यदि देखा जाए तो यहां 19.5 लाख वोटरों में से 3.5 लाख वोटर निषाद समुदाय के हैं. इस संसदीय क्षेत्र में निषाद जाति के सबसे अधिक मतदाता हैं. वहीं, यादव और दलित मतदाता दो-दो लाख हैं. ब्राह्मण वोटर करीब डेढ़ लाख हैं.

ये भी पढ़ें:

लोकसभा चुनाव 2019: योगी के गढ़ गोरखपुर में मतदानकर्मी की मौत से मचा हड़कंप

गाजीपुर: माफिया डॉन मुख्तार अंसारी का बेटा अब्बास अंसारी नजरबंद

लोकसभा चुनाव 2019: वोट डालने स्वीडन से मऊ पहुंची ये महिला, बोलीं...

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

अब जाति, चेहरा और मजहब देखकर नहीं दिया जाता सरकारी योजनाओं का लाभ- सीएम योगी

UP: सीएम योगी ने कहा सभी के जीवन में खुशहाली लाने का प्रयास (File photo)

CM Yogi in Gorakhpur: योगी आदित्यनाथ ने कहा कि 1950 के दशक में सरकार का मानवीय चेहरा क्या हो, पंडित दीनदयाल उपाध्याय ने सरकार को झकझोरने के लिए जिन शब्दों का वर्णन किया, हो सकता है कि उस समय सरकारों ने उसे गंभीरता से न लिया हो.

SHARE THIS:

गोरखपुर. भारतीय जनसंघ के संस्थापक सदस्य पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने गोरखपुर विश्वविद्यालय स्थित उनकी प्रतिमा पर पुष्पांजलि कर उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि दी. इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि पंडित दीन दयाल उपाध्याय का स्पष्ट मत था कि हमारी योजनाओं का आधार समाज के सम्पन्न नहीं, अंतिम पायदान का व्यक्ति होना चाहिए. आज उनका यह सपना साकार हो रहा है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में हर गरीब को आवास, शौचालय, हर गरीब महिला को ऊर्जा के लिए ग्रीन एनर्जी के रूप में मुफ्त एलपीजी गैस कनेक्शन, हर गरीब को आयुष्मान योजना से पांच लाख रुपये तक स्वास्थ्य सुरक्षा कवर जैसी योजनाओं का लाभ मिल रहा है. इन योजनाओं का लाभ किसी का चेहरा, जाति, मजहब या क्षेत्र देखकर नहीं दिया जाता है. यह केंद्र व प्रदेश सरकार की ओर से अंत्योदय के लक्ष्य को प्राप्त करते हुए उनके जीवन में खुशहाली लाने का प्रयास है.

सीएम योगी ने कहा कि वैश्विक महामारी कोरोनाकाल के दौरान भी ऐसे कार्यक्रम प्रारम्भ हुए हैं जिसने लोक कल्याणकारी सरकार के मानवीय चेहरे को दुनिया के सामने रखा है. महामारी में बीमारी से तो मौतें होती हैं लेकिन बीमारी से अधिक मौतें भूख से होती हैं. एक लोक कल्याणकारी सरकार अपनी मानवीय संवेदनाओं को जनमानस के प्रति किस प्रकार व्यक्त करती है, इसका उदाहरण पूरी दुनिया ने देखा है. 2020 में आठ माह तक हर व्यक्ति को मुफ्त राशन दिया गया.

इस वर्ष मई से नवम्बर तक इसे फिर से प्रारम्भ किया गया. विगत 24 माह में 15 माह मुफ्त राशन दिया गया. उत्तर प्रदेश में 15 करोड़ लोग और देश में 80 करोड़ लोग इससे लाभान्वित हुए.

‘एक भारत श्रेष्ठ भारत’ की संकल्पना
योगी आदित्यनाथ ने कहा कि 1950 के दशक में सरकार का मानवीय चेहरा क्या हो, पंडित दीनदयाल उपाध्याय ने सरकार को झकझोरने के लिए जिन शब्दों का वर्णन किया, हो सकता है कि उस समय सरकारों ने उसे गंभीरता से न लिया हो. पर, 60 दशक बाद पंडित उपाध्याय का यह सपना पीएम मोदी के नेतृत्व में पूरा हो रहा है. यह एक भारत श्रेष्ठ भारत की संकल्पना को भी आगे बढ़ाने का माध्यम बनेगा. सीएम ने कहा कि पंडित दीनदयाल की जयंती पर आज हर ब्लॉक में गरीब कल्याण मेला का आयोजन किया जा रहा है. इस मेले में आरोग्य जांच होगी, दिव्यांग को उपकरण वितरण, किसानों को कृषि यंत्रों का वितरण भी किया जाएगा.

योगी का नाम लेते ही धड़कने लगता है अपराधियों का दिल: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह

Maharajganj: सेना को मुंहतोड़ जवाब देने की पूरी छूट

Maharajganj News: राजनाथ सिंह ने कहा कि अपनी एमएससी की पढ़ाई के दौरान मैंने डबल रोल वाली राम और श्याम फिल्म देखी थी. किसी एक्टर का डबल रोल तो देखा था लेकिन आज मैं योगी आदित्यनाथ को डबल नहीं मल्टीपल रोल में देखता हूं. यह अदभुत रोल है.

SHARE THIS:

महराजगंज. केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Defence Minister Rajnath Singh) ने कहा है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अगुवाई में उत्तर प्रदेश विकास के पथ पर तेजी से आगे बढ़ रहा है और इसे अब उत्तम प्रदेश बनने से कोई नहीं रोक सकता है. उन्होंने कहा कि कभी उत्तर प्रदेश में गुंडे वर्दी पर भारी पड़ते थे आज वर्दीधारी उन गुंडों पर भारी हैं. योगी सरकार ने अपराधियों की 18600 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त की है. अपराधियों का मनोबल तोड़ना और सज्जनों का मनोबल बढ़ाना ही सत्ता का धर्म है और सीएम योगी आदित्यनाथ यही कर रहे हैं.

राजनाथ सिंह शुक्रवार को महराजगंज के चौक बाजार स्थित गोरक्षपीठाधीश्वर महंत अवेद्यनाथ महाविद्यालय में राष्ट्रसंत गोरक्षपीठाधीश्वर ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ की भव्य प्रतिमा के अनावरण समारोह को बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रहे थे.

रक्षा मंत्री ने कहा कि नींद में भी उत्तर प्रदेश ही नहीं भारत का कोई मां का लाल यह नहीं कह सकता कि सीएम योगी के शासनकाल में भ्रष्टाचार की कहीं नींव रखी गई. यदि हम उत्तर प्रदेश को उत्तम प्रदेश बनाना चाहते हैं तो कानून व्यवस्था इसकी पहली शर्त है. इस सच्चाई को कोई भी नहीं नकार सकता, यहां तक हमारे विरोधी भी, कि यूपी में योगी आदित्यनाथ एक ऐसी शख्सियत हैं जिनका नाम लेते ही अपराधियों का दिल धड़कने लगता है. उन्होंने कहा कि पीएम मोदी की सूझबूझ देखिए 2017 में जब उत्तर प्रदेश की कमान सौंपने की बात आई तो उन्होंने योगी आदित्यनाथ को चुना जो सर्वस्वीकार्य हैं.

सेना को मुंहतोड़ जवाब देने की पूरी छूट
रक्षा मंत्री ने कहा कि आज भारत कमजोर नहीं दुनिया का ताकतवर देश है. सेना को हमने हिदायत दे रखी है कि पहला आक्रमण हम नहीं करेंगे. यह हमारे देश का प्राचीन इतिहास भी रहा है, लेकिन किसी ने भी आक्रमण करने की पहल की तो सेना को किसी का इजाजत लेने की जरूरत नहीं है. आक्रमण करने वालों को मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा. आज कोई भी हमारी एक इंच जमीन पर कब्जा नहीं कर सकता है.

मल्टीपल रोल वाले है योगी जी
राजनाथ सिंह ने कहा कि अपनी एमएससी की पढ़ाई के दौरान मैंने डबल रोल वाली राम और श्याम फ़िल्म देखी थी. किसी एक्टर का डबल रोल तो देखा था लेकिन आज मैं योगी आदित्यनाथ को डबल नहीं मल्टीपल रोल में देखता हूं. यह अदभुत रोल है.

पूर्व की सरकारें आतंकियों की पैरवी करती थीं, आज कोई ऐसी हिम्मत नहीं कर सकता: सीएम

महंत दिग्विजयनाथ की 52वीं और महंत अवेद्यनाथ की 7वीं पुण्यतिथि के मौके पर गोरखनाथ मंदिर में आयोजित 7 दिनों के श्रद्धांजलि समारोह के समापन पर मुख्यमंत्री भी शामिल हुए.

7 Days Tribute Ceremony : मुख्यमंत्री ने कहा कि ब्रह्मलीन महंतद्वय ने संपूर्ण धर्म व समाज के सामने मूल्यों व आदर्शों की स्थापना की. 50 वर्ष पूर्व जिसने भी गोरखपुर और गोरक्षपीठ को देखा होगा उसे यह पता है कि आज यहां जो कुछ भी है, वह उन्हीं गुरुजनों की प्रेरणा व आशीर्वाद से है.

SHARE THIS:

गोरखपुर. ब्रह्मलीन महंत दिग्विजयनाथ जी महाराज की 52वीं और ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ जी महाराज की 7वीं पुण्यतिथि के मौके पर गोरखनाथ मंदिर में आयोजित 7 दिनों के श्रद्धांजलि समारोह का समापन आज शुक्रवार को हुआ. समापन सत्र में सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में मिली सफलता से सभी वाकिफ हैं. उनके मार्गदर्शन में गृह मंत्री ने दृढ़ता से कश्मीर से धारा 370 समाप्त कर दी. पाकिस्तान, अफगानिस्तान, बांग्लादेश में प्रताड़ित हिंदुओं, सिखों, बौद्धों, जैनियों को कानून बनाकर नागरिकता दी. देश के बाहर संकट में फंसे भारतीयों का इस सरकार ने हाथ फैलाकर स्वागत किया. पहले की सरकारें ऐसा करने की हिम्मत नहीं जुटा पातीं. राष्ट्रीय हितों, देश के मानबिन्दुओं की पुनर्स्थापना को लेकर गोरक्षपीठ और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर कोई संदेह नहीं कर सकता है. आज जनता ने यशस्वी नेतृत्व दिया है तो पूरी दुनिया मे देश का डंका बज रहा है. पहले की सरकारों में आतंकवादियों के मुकदमे वापस होते थे, लेकिन आज आतंकियों के महिमामंडन की हिम्मत कोई नहीं कर सकता.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रभु श्रीराम की जन्मभूमि अयोध्या में बन रहे मंदिर, अयोध्याधाम के विकास व यहां आयोजित होने वाले दीपोत्सव का भावनात्मक उल्लेख करते हुए कहा कि अब अयोध्या सप्तपुरियों में पहली पुरी बन गई है. वहां के दीपोत्सव में एक-एक संत की भावना परिलक्षित होती है. जो संत अब भौतिक शरीर में नहीं हैं, वे भी सूक्ष्म शरीर से इसे देखकर प्रसन्न होते हैं. देश ही नहीं दुनिया भी इसकी भव्यता और दिव्यता की कायल है.

इसे भी पढ़ें : Mahant Suicide Case: पुराना है संपत्ति को लेकर बाघंबरी मठ में संतों का विवाद

सीएम योगी ने संतों के बीच कहा कि अयोध्या के श्रीराम मंदिर को लेकर गोरक्षपीठ के समर्पण को सब जानते हैं. जब मैं अयोध्या में होता हूं तो लगता ही नहीं कि गोरखपुर में नहीं हूं. 1947 में देश आजाद हुआ और 1949 में जन्मभूमि पर श्रीरामलला का प्रकटीकरण हो जाता है. उस दौरान वहां के मूर्धन्य संतों को गोरक्षपीठाधीश्वर ब्रह्मलीन महंत दिग्विजयनाथ का संरक्षण प्राप्त था. परमहंस जी ने महंत दिग्विजयनाथ की ही प्रेरणा से श्रीरामलला के मुकदमे को आगे बढ़ाया. महंत दिग्विजयनाथ के अभियान को ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ विस्तारित करते रहे. गोरक्षपीठ व संतों के नेतृत्व में अयोध्या के लिए क्या-क्या संघर्ष करना पड़ा. संघर्ष करने वालों में से किसी ने भी यह नहीं सोचा कि उनको क्या मिलेगा. वास्तव में जब चारों ओर से एक आवाज निकलती है तो संकल्प साकार होता है.

इसे भी पढ़ें : …तो इसलिए महंत नरेंद्र गिरि की मौत की गुत्‍थी सुलझाना CBI के लिए है बेहद जरूरी

सीएम योगी ने प्रयागराज के भव्य व दिव्य कुंभ के आयोजन का उल्लेख करते हुए कहा कि जितनी यूपी की आबादी है, उससे अधिक श्रद्धालु कुंभ में आए. अमूल्य धरोहर के रूप में प्रयागराज कुंभ को यूनेस्को से मान्यता मिली. सीएम ने कहा कि आज यूपी के बारे में लोगों की धारणा बदली है, जबकि पहले कुछ शहरों में यूपी के नाम पर लोगों को कमरा नहीं मिलता था. उन्होंने कहा कि यूपीवासी प्रभु श्रीराम, श्रीकृष्ण, काशी विश्वनाथ, गुरु गोरखनाथ, महात्मा बुद्ध, संतकबीर के प्रतिनिधि हैं और इस पर गर्व की अनुभूति करनी चाहिए.

इसे भी पढ़ें : Exclusive: महंत नरेंद्र गिरि ने बनवाई थी तीन वसीयत, हर बार बदला था उत्तराधिकारी

मुख्यमंत्री ने कहा कि 60 के दशक में ही गोरक्षपीठ ने आयुर्वेद को बढ़ावा देने की दिशा में कदम बढ़ा दिया था. मूलतः यह पीठ योग पीठ है. वैश्विक महामारी कोरोना के दौरान पूरी दुनिया ने आयुष और योग की ताकत को पहचाना. देश को पीएम मोदी को धन्यवाद देना चाहिए जिन्होंने आयुष और योग को वैश्विक मंच पर स्थापित किया. उनके ही प्रयास से 21 जून को विश्व योग दिवस मनाया जाने लगा है.

इसे भी पढ़ें : मौत से पहले महंत नरेंद्र गिरि के फोन पर आए थे 35 कॉल, जांच के घेरे में हरिद्वार के 2 बिल्डर

मुख्यमंत्री ने कहा कि ब्रह्मलीन महंतद्वय ने संपूर्ण धर्म व समाज के सामने मूल्यों व आदर्शों की स्थापना की. 50 वर्ष पूर्व जिसने भी गोरखपुर और गोरक्षपीठ को देखा होगा उसे यह पता है कि आज यहां जो कुछ भी है, वह उन्हीं गुरुजनों की प्रेरणा व आशीर्वाद से है. महंत दिग्विजयनाथ ने जो नींव रखी, महंत अवेद्यनाथ ने उसे भवन का रूप दिया. 21 जुलाई 1984 को गठित श्रीराम जन्मभूमि मुक्ति यज्ञ समिति के आजीवन अध्यक्ष रहे. गोरक्षपीठाधीश्वर ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ की 7वीं पुण्यतिथि पर उन्हें याद करते हुए योगी आदित्यनाथ ने कहा कि यह सौभाग्य की बात है कि जिस श्राद्ध पक्ष में हम अपने पितरों को श्रद्धांजलि देकर उनके विराट व्यक्तित्व से प्रेरणा लेते हैं. महंतद्वय ने उसी पक्ष में अपना भौतिक शरीर छोड़ा. उनका व्यक्तित्व व कृतित्व आज भी हमारे लिए प्रेरणास्रोत है.

गोरखपुर में चोर घुसे तो अमेरिका में बज उठा अलार्म, दो पकड़े गए - जानें पूरा माजरा

अमेरिका से मिली सूचना पर बड़हलगंज पुलिस तुरंत सक्रिय हो गई और मौके से दोनों चोरों को गिरफ्तार कर लिया.

CCTV camera : बढ़हलगंज के मदरहां इलाके के रहने वाले पुष्पेंद्र सिंह अब अमेरिका में रहते हैं. उन्होंने बढ़हलगंज स्थित अपने घर में सीसीटीवी कैमरा लगवा रखा है. जब चोर मंगलवार रात 2 बजे इस खाली मकान में घुसे, तो सेंसर तकनीक ने पुष्पेंद्र सिंह के मोबाइल का अलार्म बजा दिया.

SHARE THIS:

गोरखपुर. गोरखपुर के घर में चोर घुसे तो अमेरिका में रह रहे शख्स का मोबाइल अलार्म बज उठा. उसने तुरंत संबंधित थाने को फोन किया और पुलिसवालों ने घर में घुसे दोनों चोरों को मौके पर ही दबोच लिया. यह दिलचस्प मामला गोरखपुर जिले के बढ़हलगंज थाना क्षेत्र का है.

दरअसल, बढ़हलगंज के मदरहां इलाके के रहने वाले पुष्पेंद्र सिंह अब अमेरिका में रहते हैं. उन्होंने बढ़हलगंज स्थित अपने घर में सीसीटीवी कैमरा लगवा रखा है. इस घर में फिलहाल कोई नहीं रहता. तो जब चोर मंगलवार रात 2 बजे इस खाली मकान में घुसे, उस वक्त अमेरिका में दिन का समय था. चोरों के घर में घुसते ही पुष्पेंद्र सिंह के मोबाइल का अलार्म सेंसर तकनीक की वजह से बज उठा. उन्होंने अपने मोबाइल पर सीसीटीवी कैमरे के सॉफ्टवेयर के जरिए घर में घुसे चोरों को देख लिया. उन्होंने तुरंत इसकी सूचना बड़हलगंज पुलिस को दी. बढ़हलगंज पुलिस ने भी मुस्तैदी दिखाते हुए बताए गए पते पर दबिश दे दी तो मौके से दोनों चोर गिरफ्तार कर लिए गए. पुलिस का दावा है कि गिरफ्तार चोरों ने पहले भी इलाके में वारदात को अंजाम दिया है. हालांकि अमेरिका में रह रहे पुष्पेंद्र ने इस संबंध में कोई तहरीर नहीं दी है, जिसकी वजह से पुलिस आगे की कार्रवाई नहीं कर पाई है.

ग्रामीणों के मुताबिक पकड़े गए दोनों आरोपियों ने दो दिन पहले एक छात्र से 500 रुपये छीन लिए थे. इस पूरे प्रकरण के संबंध में बढ़हलगंज प्रभारी निरीक्षक मनोज कुमार राय का कहना है कि अमेरिका से पुष्पेंद्र सिंह के फोन पर मौके पर पुलिस गई थी, जहां से संदिग्ध युवक को हिरासत में लिया गया है. मामले में जांच के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी.

UP News: हाईकोर्ट ने की खारिज 2019 में बनी पुलिस इंस्पेक्टर की सीनियारिटी लिस्ट

हाईकोर्ट ने यूपी सरकार को आदेश दिया कि एक महीने के अंदर नई लिस्ट बनाई जाए.

Order-Order : हाईकोर्ट ने यूपी सरकार को आदेश दिया कि एक महीने के अंदर सिविल पुलिस और पीएसी में सिविल पुलिस के इंस्पेक्टर और पीएसी में उनके समकक्ष की एक ज्वॉइंट सीनियरिटी लिस्ट बनाकर प्रमोशन किए जाएं.

SHARE THIS:

गोरखपुर. पुलिस इंस्पेक्टर्स की सीनियरिटी लिस्ट और प्रमोशन को लेकर हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच के जस्टिस दिनेश कुमार सिंह ने अहम फैसला दिया है. पीएसी में इंस्पेक्टर के समकक्ष पद पर तैनात विजय कुमार सिंह ने 22 नवंबर 2019 को बनी पुलिस इंस्पेक्टर की सीनियारिटी लिस्ट को हाईकोर्ट लखनऊ बेंच में चुनौती दी थी. जिस पर हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच के जस्टिस दिनेश सिंह ने फैसला सुनाते हुए 22 जनवरी 2019 की सीनियरिटी लिस्ट को खारिज करने का आदेश दिया है.

याचिका में तर्क दिया गया था कि 22 नवंबर 2019 की सीनियरिटी लिस्ट सिर्फ सिविल पुलिस इंस्पेक्टर को लेकर बनाई गई थी, जबकि पीएसी में उनके समकक्ष को शामिल कर एक ज्वॉइंट सीनियरिटी लिस्ट बनाई जानी चाहिए थी. याचिका में कहा गया था कि 22 नवंबर 2019 की सीनियरिटी लिस्ट में सिर्फ सिविल पुलिस के इंस्पेक्टर्स को शामिल किया गया है, लिहाजा वह लिस्ट अवैध है.

इन्हें भी पढ़ें :
Hathras Rape Case: नाबालिग से बलात्कार और हत्या के आरोपी को फांसी की सजा
ATS स्पेशल कोर्ट ने मौलाना कलीम सिद्दीकी को 10 दिन की कस्टडी रिमांड पर भेजा

कोर्ट ने याची के इस कथन को तर्कसंगत माना और 22 नवंबर 2019 की सीनियरिटी लिस्ट खारिज करने का आदेश दिया. हाईकोर्ट ने सरकार को आदेश दिया कि एक महीने के अंदर सिविल पुलिस और पीएसी में सिविल पुलिस के इंस्पेक्टर और पीएसी में उनके समकक्ष की एक ज्वॉइंट सीनियरिटी लिस्ट बनाकर प्रमोशन किए जाएं. याची ने याचिका में दो डिप्टी एसपी को भी पक्षकार बनाया था, जिन्हें इंस्पेक्टर से प्रमोट कर डिप्टी एसपी बनाया गया था. फिलहाल कोर्ट ने उन दो डिप्टी एसपी को रिवर्ट करने का आदेश नहीं दिया है. इस फैसले से यूपी में इंस्पेक्टर्स के प्रमोशन को लेकर नई चर्चा शुरू हो गई है.

Gorakhpur: 8 महीने में 21 पुलिसकर्मी सस्पेंड, 39 लाइन हाजिर और तीन हुए बर्खास्त, पढ़िए खाकी की 'करतूतों' की कहानी

गोरखपुर में पुलिसकर्मियों की करतूतों से बदरंग हुई खाकी

Gorakhpur Police: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हर बार जनता दरबार में पुलिस को अपनी आदतों में सुधार लाने की हिदायत देते रहते हैं, लेकिन जनता को न्याय दिलाने में नाकाम पुलिस अपनी करतूतों से खाकी को दगादार कर रही है.

SHARE THIS:

गोरखपुर. सीएम सिटी गोरखपुर (Gorakhpur) में पुलिस (Police) की छवि इन दिनों बदरंग हो गई है. हैरानी की बात यह है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) की लाख कोशिशों के बावजूद पुलिस की छवि में सुधार नहीं आ रहा है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हर बार जनता दरबार में पुलिस को अपनी आदतों में सुधार लाने की हिदायत देते रहते हैं, लेकिन जनता को न्याय दिलाने में नाकाम पुलिस अपनी करतूतों से खाकी को दगादार कर रही है. जिसकी वजह से पुलिस के आलाधिकारियों के चौखट पर जनता की भीड़ बढ़ती जा रही है. न्याय की आस में जनता पुलिस के आलाधिकारियों से लेकर सीएम के दरबार में गुहार लगाने को बेबस है.

बीते दिनों पुलिसकर्मियों की करतूतों की वजह से सीएम सिटी की पुलिस का चेहरा बदनुमा हुआ है. इस साल की बात करें तो जनवरी 2021 से 31 अगस्त 2021 तक इस 8 महीनों के दौरान गोरखपुर में जहां भ्रष्टाचार और लापरवाह के आरोप में 21 पुलिसकर्मियों का निलंबित किया गया, वहीं 39 पुलिसकर्मियों को लाइन का रास्ता दिखाया गया. जबकि इस दौरान गंभीर मामलों में दोष सिद्ध होने पर तीन पुलिसकर्मियों को बर्खास्त भी किया गया. इतना ही नहीं, इस दौरान कई पुलिसकर्मियों पर आपराधिक मामलों में केस भी दर्ज किया गया, जबकि कुछ को जेल की यात्रा भी करनी पड़ी.

मामला नंबर एक- थाना खजनी
पहला मामला थाना खजनी का है जहां महुआडाबर चौकी इंचार्ज अभिजित कुमार ने धनउगाही नहीं होने से नाराज होकर युवक को जोरदार थप्पड़ रशीद कर दिया था. जिससे पीड़ित के कान का पर्दा फट गया था. इस मामले में युवक को थप्पड़ मारने का वीडियो वायरल होने पर एसएसपी ने चौकी इंचार्ज को लाइन हाजिर कर दिया। गौरतलब है कि दारोगा अभिजीत कुमार फिरौती मांगने के आरोप में जेल भी जा चुके हैं. तत्कालीन एसएसपी सत्यार्थ अनिरूध पंकज द्वारा युवक का अपहरण करके फिरौती मांगने के आरोप में दारोगा अभिजीत कुमार और रघुनंदन तिवारी को जेल भिजवाया था. बावजूद जेल से छूटने के बाद दोनों दारोगा की बहाली होने के साथ सीएम सिटी में फिर से तैनाती हो गयी.

मामला नंबर दो-थाना कोतवाली
बेनीगंज चौकी इंचार्ज बब्लू कुमार ने हिस्ट्रीशीटर रोहित यादव की जमकर पिटाई की थी. हालत गंभीर होने पर रोहित को अस्पताल में भर्ती कराया गया था. रोहित की बहन ने दारोगा बब्लू कुमार पर संगीन आरोप लगाते हुए उसके भाई को झूठे केस में फंसाने को लेकर पिटाई किये जाने की बात कही थी. इस मामले के तूल पकड़ने से पहले एसएसपी ने दारोगा को लाइन हाजिर करके किसी तरह मामले को शांत कराया.

मामला नंबर तीन- थाना-गोला
थाना गोला में शराब के नशे में धुत्त दीवान शैलेष सिंह द्वारा पब्लिक प्लेस में हंगामा करने की घटना का वीडियो वायरल हुआ था. मामला का संज्ञान लेते हुए एसएसपी ने उन्हें लाइन हाजिर किया। साथ ही सीओ को पूरे प्रकरण की जांच का आदेश एसएसपी ने दिया है.

मामला नंबर चार- थाना-शाहपुर
जहां प्लंबर से मामला मैनेज कराने की एवज में 12 हजार की रिश्वत मांगने के मामले में हेड कॉस्टेबल जितेन्द्र प्रधान को जहां एसएसपी ने सस्पेंड किया है, वहीं दारोगा राहुल सिंह  को लाइन हाजिर किया था. दिलचस्प है कि रिश्वत मांगने का ऑडियो  सामने आने पर हेड कॉस्टेबल और दारोगा पर कार्रवाई हुई थी.

मामला नंबर पांच- थाना-गुलरिहा
गुलरिहा थाने के दारोगा अजय वर्मा द्वारा महिला के चरित्र प्रमाण पत्र के सत्यापन की एवज में घूस मांगने की घटना सामने आई थी. हालांकि इस मामले में आईजीआरएस पर शिकायत भी की गयी थी. लेकिन गुलरिहा थाने की पुलिस द्वारा मनमाफिक रिपोर्ट लगाकर मामले की लीपापोती कर दी गयी.

छवि सुधारने में जुटे अधिकारी

निश्चित तौर पर ऊपर दर्शाये गये पुलिस केस ‌दागी खाकी की एक बानगी भर हैं. ऐसे सैकड़ों मामले हर रोज जिले के पुलिस थाने पर आते हैं, जहां पुलिस द्वारा उन मामलों में ही विशेष रूचि ली जाती है जिसमें कुछ आर्थिक लाभ उनका होता है. नाहीं तो थाने जाने वाले फरियादी की आत्मा ही उसकी आपबीती बेहतर बयां कर सकती है. दरअसल पुलिस और अपराध का नाता नया नहीं है. चंद दागी पुलिसकर्मियों के कारनामों की वजह से पूरे पुलिस महकमें की कार्यशैली सवालों के घेरे में रहती है. हालांकि दागियों की करतूतों को लेकर पुलिस अफसर सख्ती दिखाते हैं. और ऐसे पुलिसकर्मियों पर कठोर कार्रवाई भी कर रहे हैं. बावजूद इसके सीएम सिटी की पुलिस पर लगते दाग का सिलसिला फिलहाल कम होता नजर नहीं आ रहा है. वहीं इस मामले में एडीजी जोन अखिल कुमार ने कहा है कि जोन लेबल पर दागी और भ्रष्ट पुलिसकर्मियों की लिस्ट बनायी जा रही है, ताकि उन पर सख्त कार्रवाई करने के साथ ही विभाग की छवि को चमकाया जा सके.

CM योगी बोले- पहले मुख्यमंत्री बनने पर बनवाई जाती थीं हवेलियां, हमने 42 लाख गरीबों के घर बनाए

UP: हर दूसरे-तीसरे दिन हुआ करते थे साम्प्रदायिक दंगे (File photo)

UP News: सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पहले कुत्सित विचारों वाले विपक्षी दल अयोध्या जाने से डरते थे और हम पर तंज करते थे कि "मंदिर वहीं बनाएंगे पर तारीख नहीं बताएंगे".

SHARE THIS:

लखनऊ. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने कहा है कि 2017 से पहले यूपी में अपराधी और माफिया सत्ता के शागिर्द बनकर राज्य में भय, भ्रष्टाचार और अराजकता का माहौल खड़ा कर रहे थे और हर दूसरे-तीसरे दिन साम्प्रदायिक दंगे होते थे, लेकिन आज इनके खिलाफ हो रही कार्रवाइयों ने पूरे देश में एक मॉडल पेश किया है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यह भी कहा कि उनसे पहले के मुख्यमंत्रियों में अपनी हवेलियां बनाने की होड़ मचती थी, लेकिन हमने इस नए भारत के नए उत्तर प्रदेश में 42 लाख गरीबों के लिए आवास बनाए हैं. उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय पटल पर यूपी को लेकर परसेप्शन बदला है. शासन के प्रति जनता का भरोसा बढ़ा है और अब यही विश्वास 2022 के चुनाव में 350 सीटों के भारी बहुमत के साथ एक बार फिर हमारी जीत सुनिश्चित करेगा .

मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि उत्तर प्रदेश में पहले कोई भी पर्व शांति से नहीं हो पाता था लेकिन बीतेचार साल से कोई दंगा नहीं हुआ.इससे लोगों की धारणा बदली और निवेशकों को भय नहीं है. इसीलिए ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में यूपी नम्बर दूसरे पर है.

कोरोना प्रबंधन की तारीफ़
सीएम योगी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन में यूपी के कोरोना प्रबंधन के मॉडल को हर ओर सराहा जा रहा है. कोरोना काल में देश की पहली मोबाइल डिस्प्ले यूनिट यूपी में लगी और चीन से कारोबार खत्म कर भारत आई इस कम्पनी ने भारत में यूपी को चुना. उन्होंने कहा कि यह नया उत्तर प्रदेश निवेशकों की पहली पसंद है तो पर्यटकों के मन की चाह भी है. उन्होंने कहा, कि पहले कुत्सित विचारों वाले विपक्षी दल अयोध्या जाने से डरते थे और हम पर तंज करते थे कि “मंदिर वहीं बनाएंगे पर तारीख नहीं बताएंगे”. आज पूरी दुनिया अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण देख रही है.

Kushinagar News: आलू व्यापारी ने रची खुद के अपहरण की साजिश, पुलिस ने भेजा जेल

Kushinagar: पत्र भेजकर परिजनों से मांगी 10 लाख रुपए की फिरौती

Kidnapping case: पुलिस अधिक्षक सचिंद्र पटेल ने बताया की अपहरण की आशंका के कारण स्वाट, सर्विलांस और एसओजी टीम को इसकी जांच के लिए लगाया गया था.

SHARE THIS:

कुशीनगर. यूपी के कुशीनगर (Kushinagar) जिले में रहस्यमय स्थितियों में गायब हुए आलू व्यापारी को पटहेरवा थाने की पुलिस ने बरामद कर लिया है. आलू व्यापारी के गायब होने की जो कहानी सामने आई है वो हैरान करने वाली है. कर्ज से बचने के लिया व्यापारी ने अपने अपहरण की झूठी कहानी रची थी. गायब होने के बाद वह बस्ती जाकर छिपकर रहने लगा था. खुद उसने अपनी बाइक को लावारिश हालत में छोड़कर और एक पत्र भेजकर परिजनों ने 10 लाख रुपए की फिरौती भी मांगा था. अपहरण के घटना की जांच कर रही पटहेरवा थाने की पुलिस ने खुलासा करते हुए खुद के अपहरण की साजिश रचने वाले व्यापारी मोहन कुशवाहा को गिरफ्तार कर लिया है.

पटहेरवा थाने के रकबा राजा निवासी मोहन कुशवाहा के परिजनों ने बीते 3 सितंबर को थाने में तहरीर देकर मोहन के गायब होने की जानकारी दी. परिजनों ने मोहन के अपहरण की आशंका भी जाहिर की थी. इसके पांच दिन बाद मोहन की बाइक लावारिस हालत में मिली जिसपर मोहन का अपहरण करने और 10 लाख रुपए की फिरौती मांगने की बात लिखी गई थी. इसके बाद पटहेरवा थाने की पुलिस ने अपहरण का केस दर्ज करते हुए छानबीन शुरू किया तो कुछ गड़बड़ लगा. सर्विलांस टीम ने गहन छानबीन किया तो मोहन की लोकेशन बस्ती में मिली.

यह भी पढ़ें- UP Assembly Election: मेरठ की क्रांतिकारी धरती से प्रियंका गांधी शुरू करेंगी प्रतिज्ञा यात्रा, 29 सितंबर को होगी जनसभा

इसके बाद पुलिस ने मोहन को बस्ती से एक घर से बरामद किया. पुलिस की पूछताछ में मोहन ने बताया की उसने कई लोगों से कर्ज ले रखा था जिसे देने में वह असमर्थ था इसलिए उसने अपने अपहरण की झूठी कहानी रची थी. पुलिस ने मोहन कुशवाहा को पुलिस को गुमराह करने सहित कई धाराओं में जेल भेज दिया है. पुलिस अधिक्षक सचिंद्र पटेल ने बताया की अपहरण की आशंका के कारण स्वाट, सर्विलांस और एसओजी टीम को इसकी जांच के लिए लगाया गया था. जांच में ये बात सामने आई थी की मोहन का अपहरण नहीं हुआ बल्कि सारी कहानी फर्जी लगी. इसके बाद सक्रिय हुई टीम ने मोहन को बरामद कर लिया. खुद के अपहरण की साजिश रचने वाले मोहन को जेल भेजा जा रहा है.

सीएम योगी का सपा पर तंज, कहा- जब एक समय उत्तर प्रदेश बेहाल था और सैफई में होता था नाच-गाना!

UP: जब एक समय उत्तर प्रदेश बेहाल था और सैफई में होता था नाच-गाना! (File Photo)

UP Politics: पिछले साढ़े चार वर्षों में प्रदेश द्वारा की गयी प्रगति की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि लोग व अधिकारी कहते थे कि राम मंदिर पर फैसला आएगा ऐसा हो जाएगा, वैसा हो जाएगा. मैंने कहा कि देखना एक मच्छर भी नहीं मरेगा, मैं सब संभाल लूंगा.

SHARE THIS:

लखनऊ. प्रदेश की योगी सरकार (Yogi Government) के साढ़े चार साल रविवार यानी 19 सितंबर को पूरा हो गया. इससे पहले प्रदेश में पिछली सरकार का गुंडाराज समाप्त करके कानून का राज स्थापित होने के सम्बन्ध में मुख्यमंत्री आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने कहा कि प्रदेश में अब कोई माफिया किसी सरकारी या गरीब की जमीन पर कब्जा नहीं कर पा रहा है. प्रयागराज में 100 एकड़ भूमि हमारे सुपुर्द की गई है और गुंडे और अपराधी पस्त हो चुके हैं. बीते साढ़े चार वर्षों में यूपी में एक भी दंगा नहीं हुआ है. जनता ने हमें समर्थन दिया और हमने उन्हें सुरक्षा दी. समाजवादी सरकार पर तीखी टिप्पणी करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा एक वह भी समय था जब उत्तर प्रदेश बेहाल रहता था और सैफई में नाच-गाना होता रहता था.

मुख्यमंत्री ने बीजेपी प्रबुद्ध वर्ग सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए ये विचार व्यक्त किये. उन्होंने कहा कि पार्टी कार्यकर्ताओं के भरपूर परिश्रम से ही हम देश और प्रदेश में जन कल्याण का शासन दे रहे हैं. भाजपा जिन मूल्यों और आदर्शों को लेकर राजनीति में आई, लगातार उन्हीं का पालन किया जो हमारे का विषय होना चाहिए. उन्होंने कहा कि हमारे लिए व्यक्ति से बड़ा दल है और दल से बड़ा देश है. इसलिए भाजपा कार्यकर्ताओं का एकमात्र लक्ष्य सत्ता प्राप्ति और शासन करना नहीं है. सेवा समर्पण का भाव ही इस पार्टी को सबसे अलग करता है.

उन्होंने कहा कि जब हम 2017 में सरकार में आए तब प्रदेश के 75 जनपदों में से मात्र 12 जनपदों में मेडिकल कॉलेज थे और आधुनिक स्वास्थ्य सुविधाओं का भी अभाव था. अगर तब कोरोना महामारी आ गई होती तो प्रदेश की क्या हालत होती? उत्तर प्रदेश ने कोरोना प्रबंधन का मॉडल सेट किया और इतने कम समय में जनता के लिए स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध करवाएं. कांग्रेस का नाम लिए बगैर उन्होंने तंज किया कि इसके विपरीत देश में जब आपदा आती है तो एक पार्टी के लोग इटली भाग जाते हैं. उन्होंने कहा कि यूपी ने जिन लोगों को प्रधानमंत्री के पद तक पहुंचाया, वे लोग यूपी से बाहर जाते हैं तो यूपी की बुराई करते हैं. देश से बाहर देश पर टिप्पणी करते हैं, देवी-देवताओं पर टिप्पणी करना, राम और कृष्ण को नकारना उनकी प्रवृत्ति का हिस्सा है.

एक मच्छर भी नहीं मरेगा
पिछले साढ़े चार वर्षों में प्रदेश द्वारा की गयी प्रगति की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि लोग व अधिकारी कहते थे कि राम मंदिर पर फैसला आएगा ऐसा हो जाएगा, वैसा हो जाएगा. मैंने कहा कि देखना एक मच्छर भी नहीं मरेगा, मैं सब संभाल लूंगा और जब राम जन्म भूमि का फैसला आया तो उस दिन प्रदेश में राम राज्य था. सीएम योगी ने कहा की हमें गर्व होना चाहिए कि अयोध्या, मथुरा, काशी व गंगा, यमुना और सरस्वती, त्रिवेणी का संगम, प्रयागराज उत्तर प्रदेश में है. हमें इन आस्था केन्द्रों पर गौरव की अनुभूति होनी चाहिए.

Gorakhpur: सीएम योगी ने कहा - भारत का डीएनए एक, इसलिए पूरा भारत एक

गोरखपुर में महंत दिग्विजयनाथ और महंत अवैद्यनाथ की पुण्यतिथि पर आयोजित श्रद्धांजलि समारोह में सीएम योगी आदित्यनाथ.

Tribute Ceremony : सीएम योगी ने कहा कि आज दुनिया की तमाम जातियां अपने मूल में ही समाप्त होती गई हैं, जबकि भारत में फलफूल रही हैं. पूरी दुनिया को भारत ने ही वसुधैव कुटुंबकम का भाव दिया है, इसलिए वह श्रेष्ठ है.

SHARE THIS:

गोरखपुर. नई थ्योरी से पता चला है कि पूरे देश का डीएनए एक है. यहां आर्य-द्रविण का विवाद झूठा और बेबुनियाद रहा है. भारत का डीएनए एक है, इसलिए भारत एक है. ये बातें मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज शनिवार को गोरखपुर में कहीं. उन्होंने कहा कि आज दुनिया की तमाम जातियां अपने मूल में ही समाप्त होती गई हैं, जबकि भारत में फलफूल रही हैं. पूरी दुनिया को भारत ने ही वसुधैव कुटुंबकम का भाव दिया है, इसलिए वह श्रेष्ठ है.

सीएम योगी शनिवार को गोरखपुर में युगपुरुष ब्रह्मलीन महंत दिग्विजयनाथ की 52वीं व राष्ट्रसंत ब्रह्मलीन महंत अवैद्यनाथ की 7वीं पुण्यतिथि पर आयोजित सात दिवसीय श्रद्धांजलि समारोह की शुरुआत कर रहे थे. आयोजन के पहले दिन गोरखनाथ मंदिर के महंत दिग्विजयनाथ स्मृति सभागार में ‘एक भारत-श्रेष्ठ भारत की संकल्पना ही समर्थ भारत का मार्ग प्रशस्त करेगा’ विषय पर आयोजित संगोष्ठी में मुख्यमंत्री ने कहा कि कोई भी ऐसा भारतीय नहीं होगा जिसे अपने पवित्र ग्रंथों वेद, पुराण, उपनिषद, रामायण, महाभारत आदि की जानकारी न हो. हर भारतीय परंपरागत रूप से इन कथाओं को सुनते हुए, उनसे प्रेरित होते हुए आगे बढ़ता है.

इसे भी पढ़ें : प्रबुद्ध सम्मेलन के समापन कार्यक्रम में बोले CM योगी आदित्यनाथ- राहुल एक्सिडेंटल हिंदू

अंग्रेजों ने पढ़ाया कुटिल इतिहास

सीएम ने कहा कि कोई भी वेद, पुराण या हमारे अन्य ग्रंथ यह नहीं कहते कि हम बाहर से आए हैं. हमारे ग्रंथों में आर्य श्रेष्ठ के लिए और अनार्य दुराचारी के लिए कहा गया है. रामायण में माता सीता ने प्रभु श्रीराम को आर्यपुत्र कहकर संबोधित किया है. पर, कुटिल अंग्रेजों ने वामपंथी इतिहासकारों के माध्यम से इतिहास की पुस्तकों में यह पढ़वाया कि तुम आर्य बाहर से आए हो.

इसे भी पढ़ें : सीएम योगी ने कहा- राम मंदिर निर्माण से कुछ लोगों का राजनीतिक धंधा बंद

एक भारत-श्रेष्ठ भारत का आह्वान

मुख्यमंत्री ने कहा कि यही वजह रही कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक भारत-श्रेष्ठ भारत का आह्वान करना पड़ा. आज मोदी जी के विरोध के पीछे एक ही बात है. उनके नेतृत्व में अयोध्या में 500 वर्ष पुराने विवाद का समाधान हुआ है. मुख्यमंत्री ने कहा कि समाज जब विस्मृति के चंगुल में फंस जाता है तो वह फरेब का शिकार हो जाता है. भारतीयों के साथ भी यही हुआ. विवाद तो रामजन्मभूमि और ढांचे को लेकर भी खड़ा किया गया. ऐसे में भारतीयों को फरेब के चंगुल से बाहर निकालने को पीएम मोदी ने ‘सबका साथ-सबका विकास’ और ‘एक भारत-श्रेष्ठ भारत’ का मंत्र दिया.

इसे भी पढ़ें : संजय सिंह ने पूछा – कौन सी मशीन है कि सबका DNA चेक कर लेते हैं योगी

चीन को करारा जवाब

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि एक समय था जब चीन हमारी सीमाओं पर अतिक्रमण करता था और हम मौन रहते थे. आज सक्षम नेतृत्व ने डोकलाम में चीन को जो करारा जवाब दिया है, पूरा विश्व जनता है. आज प्रधानमंत्री जो कहते हैं उसके पीछे 135 करोड़ लोगों का व्यापक समर्थन होता है. ऐसे में दुनिया की कोई भी ताकत भारत के आगे ठहर नहीं पाएगी. आज नेतृत्व की तरह हर क्षेत्र और नागरिकों के आचरण में परिवर्तन देखने को मिलता है.

इसे भी पढ़ें : प्रियंका का योगी सरकार पर निशाना: NCRB के आंकड़ों से UP को बताया क्राइम में अव्वल

समाज को खुद भी आगे आना होगा

मुख्यमंत्री ने कहा कि सिर्फ सरकार के भरोसे जो समाज रहता है, वह स्वावलंबी और आत्मनिर्भर नहीं हो सकता. समाज को खुद भी आगे आना होगा. इस अवसर पर ब्रह्मलीन महंत दिग्विजयनाथ व ब्रह्मलीन महंत अवैद्यनाथ को याद करते हुए सीएम योगी ने कहा कि महंतद्वय ने राष्ट्र, धर्म व लोक कल्याण के लिए पूरा जीवन समर्पित कर दिया. उन्होंने कहा कि कहने को गोरक्षपीठ शैव परंपरा का पीठ है, लेकिन वैष्णव परंपरा के श्रीराम मंदिर निर्माण में भी गोरक्षपीठ ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई. महंतद्वय ने पीठ को सिर्फ उपासना तक सीमित नहीं रखा बल्कि लोक कल्याण के लिए समर्पित कर दिया.

सीएम योगी ने विपक्षियों पर साधा निशाना, कहा- राम मंदिर निर्माण होने से कुछ लोगों का राजनीतिक धंधा हो गया बंद

UP: भारत का डीएनए एक है इसलिए पूरा देश भी एक (File photo)

UP Politics: सीएम योगी ने कहा कि आज देश मे जीवन के सभी क्षेत्रों में परिवर्तन देखने को मिल रहा है. गोरक्षपीठ शैव परंपरा की पीठ है लेकिन वैष्णव परम्परा के श्रीराम मंदिर निर्माण में भी गोरक्षपीठ ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई.

SHARE THIS:

गोरखपुर. गोरखपुर के गोरखनाथ मंदिर में आयोजित महंत दिग्विजय नाथ और महंत अवैद्यनाथ के श्रद्धांजलि समारोह में बोलते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने विपक्षियों पर निशाना साधा. सीएम योगी ने कहा कि मोदी आए है जिसके कारण अयोध्या में राम मंदिर से संबंधित 500 साल के विवाद का समाधान हो गया. यही तो इनको समस्या थी. विवाद की आड़ में लोगों के खाने-कमाने का जो जरिया बंद हो गया और भारत को अपमानित करने का जो धंधा था वह बंद हो गया इसलिए उन्हें कैसे अच्छा लगेगा. सीएम योगी शनिवार को युगपुरुष ब्रह्मलीन महंत दिग्विजयनाथ की 52वीं व राष्ट्रसंत ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ की 7वीं पुण्यतिथि पर आयोजित साप्ताहिक श्रद्धांजलि समारोह का शुभारंभ कर रहे थे.

योगी ने कहा कि हर भारतीय वेद रामायण उपनिषद महाभारत के बारे में जानता है. इनमें वर्णित कथाएं और प्रसंग पढ़ने से हर भारतीय को अपने इतिहास को जानने की आवश्यकता नहीं पड़ती. हमारे वेद इस धरती के प्रति श्रद्धा का भाव बढ़ाने की प्रेरणा देते हैं. आज़ादी के पहले और बाद में जो बातें पढ़ाई गईं उसमें अंग्रेजों और वामपंथी इतिहासकारों के माध्यम से बताया कि हम आर्य बाहर से आये हैं. वामपंथी इतिहासकारों ने इस तरह के काले अध्याय को डालकर जो कुत्सित प्रयास किया उसका देश ने लंबे समय तक परिणाम भोगा.

राम मंदिर के सहारे सीएम योगी ने विपक्षियों पर साधा निशाना

राम मंदिर के सहारे सीएम योगी ने विपक्षियों पर साधा निशाना

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राममंदिर निर्माण में आ रही समस्या हल होने से कुछ लोगों का राजनीति का धंधा बंद हो गया. एक कालखंड ऐसा था कि अयोध्या में विवाद खड़ा कर दिया गया कि अयोध्या में राम मंदिर है कि विवादित ढांचा. नई डीएनए थ्योरी में पता चला है कि पूरे भारत का डीएनए एक है और इसीलिए भारत एक है. दुनिया की तमाम जातियां अपने मूल में समाप्त हो चुकी हैं पर भारत में फल फूल रही हैं. सीएम योगी ने कहा कि आज देश मे जीवन के सभी क्षेत्रों में परिवर्तन देखने को मिल रहा है. गोरक्षपीठ शैव परंपरा की पीठ है लेकिन वैष्णव परम्परा के श्रीराम मंदिर निर्माण में भी गोरक्षपीठ ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई. सरकार के भरोसे जो समाज रहता है वो स्वावलम्बी और आत्मनिर्भर नहीं बन सकता.

UP: सीएम योगी ने कानपुर और आगरा मेट्रो के प्रोटोटाइप ट्रेन का किया वर्चुअल अनावरण, PM मोदी करेंगे देश को समर्पित

UP: सीएम योगी ने कहा, 30 नवंबर के आसपास पीएम मोदी करेंगे देश को समर्पित (File photo)

Metro Project: मुख्यमंत्री ने आगरा व कानपुर मेट्रो के प्रथम प्रोटोटाइप ट्रेन के वर्चुअल अनावरण के दौरान वड़ोदरा से जुड़े सभी अधिकारियों व कर्मचारियों को इसके लिए बधाई भी दी.

SHARE THIS:

गोरखपुर. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने शनिवार को गोरखनाथ मंदिर के प्रांगण में बने अपने से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कानपुर और आगरा मेट्रो (Agra Metro) की प्रथम प्रोटोटाइप ट्रेन का अनावरण किया. इस मौके पर सीएम योगी ने कहा कि देश की सबसे बड़ी आबादी वाले राज्य उत्तर प्रदेश के चार शहरों लखनऊ, गाजियाबाद, नोएडा और ग्रेटर नोएडा में मेट्रो रेल का सफल संचालन किया जा रहा है. कानपुर और आगरा में मेट्रो का काम लगभग पूरा हो चुका है. इसके साथ ही पांच अन्य प्रमुख शहरों गोरखपुर, वाराणसी, प्रयागराज, मेरठ और झांसी में मेट्रो के लिए डीपीआर तैयार है या अंतिम चरण में है. उन्होंने कहा कि मेट्रो आज की आवश्यकता और पब्लिक ट्रांसपोर्ट का एक बेहतरीन माध्यम है.

सीएम योगी ने यह बातें शनिवार को गोरखनाथ मंदिर से कानपुर और आगरा मेट्रो की प्रथम प्रोटोटाइप ट्रेन का वर्चुअल अनावरण करते हुए कही. इस अवसर पर उन्होंने उन्होंने कहा कि आज हमारे लिए उल्लास का क्षण है. वास्तव में मेट्रो जैसा सुरक्षित और आरामदायक पब्लिक ट्रांसपोर्ट आज की आवश्यकता है. 30 नवंबर के आसपास हम कानपुर और आगरा मेट्रो को देश को समर्पित करने की स्थिति में होंगे. प्रयास होगा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों से इसका शुभारंभ कराया जाए.

मेट्रो आज की आवश्यकता और पब्लिक ट्रांसपोर्ट का एक बेहतरीन माध्यम

मेट्रो आज की आवश्यकता और पब्लिक ट्रांसपोर्ट का एक बेहतरीन माध्यम

उन्होंने इस बात पर खुशी जताई कि वड़ोदरा के उपक्रम में कोविडकाल की प्रतिकूल परिस्थितियों के बावजूद प्रथम प्रोटोटाइप ट्रेन को समय से पहले उपलब्ध कराया गया है. सीएम ने कहा कि इससे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आत्मनिर्भर भारत की परिकल्पना भी साकार हो रही है. मुख्यमंत्री ने आगरा व कानपुर मेट्रो के प्रथम प्रोटोटाइप ट्रेन के वर्चुअल अनावरण के दौरान वड़ोदरा से जुड़े यूपी मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन के प्रबंध निदेशक, मेसर्स एल्सटॉम इंडिया ट्रांसपोर्ट लिमिटेड के प्रबंध निदेशक समेत सभी अधिकारियों व कर्मचारियों को इसके लिए बधाई भी दी.

Deoria News: पत्नी के साथ यूपी पुलिस का दारोगा बनाता था अप्राकृतिक संबंध, गिरफ्तार

Deoria News: पत्नी के साथ यूपी पुलिस का दारोगा बनाता था अप्राकृतिक संबंध (सांकेतिक फोटो)

UP Police News: बता दें कि गोरखपुर शहर के शाहपुर थाना क्षेत्र के पादरी बाजार निवासी विजय कुमार तिवारी यूपी पुलिस में दारोगा के पद पर तैनात था. वर्तमान पोस्टिंग गोरखपुर में ट्रैफिक इंस्पेक्टर पद पर थी.

SHARE THIS:

देवरिया/ गोरखपुर. यूपी देवरिया (Deoria) जिले में शुक्रवार को बेहद चौंका देने वाला मामला सामने आया है. यहां दारोगा की पत्नी ने पति के खिलाफ अप्राकृतिक संबंध और दहेज उत्पीड़न का मुकदमा रामपुर कारखाना थाने में दर्ज कराया है. पुलिस ने आरोपी दारोगा को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया. बता दें कि गोरखपुर शहर के शाहपुर थाना क्षेत्र के पादरी बाजार निवासी विजय कुमार तिवारी यूपी पुलिस में दारोगा के पद पर तैनात था. वर्तमान पोस्टिंग गोरखपुर में ट्रैफिक इंस्पेक्टर पद पर थी. उनकी शादी देवरिया जिले के रामपुर कारखाना थाना क्षेत्र के एक गांव में हुई है. बताया जाता है कि पति-पत्नी के आपसी संबंध ठीक नहीं हैं.

दरअसल लगभग 3 माह पहले दारोगा की पत्नी ने पति के खिलाफ अप्राकृतिक दुष्कर्म करने एवं दहेज उत्पीड़न का मुकदमा रामपुर कारखाना थाने में दर्ज कराया था. पुलिस द्वारा मामले की विवेचना की जा रही थी. पुलिस ने आरोपी टीएसआई को गिरफ्तार कर गुरुवार को सीजेएम कोर्ट में पेश किया. सीजेएम ने टीएसआई को न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया.

यह भी पढ़ें- UP में आफत बनकर टूटी बारिश, लोगों के जनजीवन पर लगा ब्रेक, आज और कल प्रदेश में स्कूल-कॉलेज बंद

रामपुर कारखाना थाने के एसओ मनोज कुमार ने बताया कि दारोगा के खिलाफ उनकी पत्नी ने अप्राकृतिक रेप और दहेज उत्पीड़न का मुकदमा दर्ज कराया था. न्यायालय के आदेश पर आरोपी दारोगा को जेल भेज दिया गया है. उधर, दारोगा की गिरफ्तारी के बाद पुलिस महकमे में चर्चा बनी हुई है.

UP Weather Update: जानिए क्यों हो रही है ऐसी तूफानी बारिश? लखनऊ सहित कई जिलाें में टूटे रिकॉर्ड

UP: भारी बारिश के चलते लखनऊ के गोमतीनगर में बीच सड़क पर गिरा पेड़.

Lucknow News: लखनऊ स्थित मौसम विभाग के निदेशक जेपी गुप्ता ने बताया कि बारिश की ये रफ्तार आज गुरुवार को पूरे दिन जारी रहेगी. कई जिलों में तो इस मॉनसूनी सीजन की सबसे ज्यादा बारिश रिकार्ड की गयी है.

SHARE THIS:

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में पश्चिमी यूपी (Western UP) के कुछ जिलों को छोड़ दें तो पूरे सूबे में बारिश (Rainfall) का सिलसिला कमोबेश कल बुधवार से ही चल रहा है. बारिश का ज्यादा जोर लखनऊ (Lucknow) और इसके आसपास के जिलों में देखने को मिल रहा है. लखनऊ में तो बीती रात 12 बजे से ही बरसात थमी नहीं है. और तो और इसमें लगातार बढ़ोतरी ही देखने को मिल रही है. तेज हवाओं के साथ हो रही बारिश के कारण शहर में जगह जगह पेड़ भी गिर गये हैं.

प्रदेश के चार ऐसे जिले हैं जहां पिछले 24 घण्टों में 100 मिलीमीटर से ज्यादा बारिश हो चुकी है. लखनऊ में बुधवार से अभी तक 107 मिलीमीटर, रायबरेली में 186 मिमी, सुल्तानपुर में 118 मिमी और अयोध्या में 104 मिमी बारिश हो चुकी है. रायबरेली में तो स्कूलों में छुट्टी कर दी गयी है. इसके अलावा पिछले 24 घण्टों में गोरखपुर में 96.6 मिमी, वाराणसी में 88 मिमी, बाराबंकी में 94 मिमी और बहराइच में 30 मिमी बारिश दर्ज की गयी है.

लखनऊ स्थित मौसम विभाग के निदेशक जेपी गुप्ता ने बताया कि बारिश की ये रफ्तार आज गुरुवार को पूरे दिन जारी रहेगी. रात से या शुक्रवार की सुबह से इसकी तीव्रता थोड़ी कम हो सकती है. हालांकि इस पूरे हफ्ते छिटपुट बारिश जारी रहेगी. कई जिलों में तो इस मॉनसूनी सीजन की सबसे ज्यादा बारिश रिकार्ड की गयी है.

क्यों हो रही है ऐसी तूफानी बारिश?

निदेशक जेपी गुप्ता ने बताया कि मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में एक कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है. इसकी वजह से बंगाल की खाड़ी से आने वाली हवायें उस ओर बढ़ रही हैं. मॉनसूनी सीजन में हवा में नमी भरपूर हो रही है. बंगाल की खाड़ी से चलकर मध्यप्रदेश की ओर बढ़ने वाली नम हवाओं के कारण मध्य यूपी में जोरदार बारिश हो रही है. संभावना ये है कि कल शुक्रवार तक इसमें काफी कमी आ जायेगी. तेज हवायें भी थम जायेंगी.

लखनऊ में भारी बारिश से कई मुख्य रास्ते बंद, गोमतीनगर सहित तमाम इलाकों में भरा पानी

वैसे तो पश्चिमी यूपी के जिलों में भी हल्की बदली छायी हुई है लेकिन, ज्यादा बारिश की फिलहाल संभावना नहीं जताी गयी है. राजस्थान, हरियाणा और उत्तराखण्ड की सीमा से लगने वाले यूपी के जिलों में फिलहाल बारिश का ज्यादा जोर देखने को नहीं मिल रहा है.

बीती रात से अभी तक 7 की मौत

तेज हवाओं के साथ हो रही बारिश से जान- माल को भी काफी नुकसान पहुंचा है. न्यूज़ 18 को मिली जानकारी के मुताबिक बीती रात से अभी तक कुल 7 लोगों की मौत हो चुकी है. सभी लोगों की मौत कच्ची दीवार गिरने की चपेट में आने से हुई है.

हथिया नक्षत्र से पहले ही लखनऊ समेत कई इलाकों में जोरदार बारिश, ऑरेंज अलर्ट भी जारी

मिली जानकारी के अनुसार जौनपुर में 4, सीतापुर में 1, अयोध्या  में 1 और रायबरेली  में भी 1 की मौत हुई है. बारिश का सिलसिला ऐसे ही चलता रहा तो कई हादसों की आशंका बनी हुई है.

गोरखपुर में रामदास अठावले का बयान: UP में BJP से होगा गठबंधन, BSP का काटेंगे वोट

रामदास आठवले ने कहा कि विधानसभा चुनाव 2022 में उनकी पार्टी भाजपा के साथ मिलकर चुनाव लड़ेगी.

UP Assembly Elections 2022 : रिपब्लिकन पार्टी आफ इंडिया (आरपीआइ) के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं केंद्रीय राज्य मंत्री रामदास आठवले ने गोरखपुर में कार्यकर्ताओं के साथ बैठक की. उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव 2022 में उनकी पार्टी भाजपा के साथ मिलकर चुनाव लड़ेगी. वह बसपा के दलित वोट में सेंध लगाएंगे.

SHARE THIS:

गोरखपुर. यूपी विधानसभा चुनाव 2022 (UP Assembly Elections 2022) को लेकर सभी राजनीतिक दल अपनी गोटियां बिछाने लगे हैं. बीजेपी के सहयोगी दल भी यूपी विधानसभा चुनाव में ताल ठोकने की तैयारी में हैं. इसी कड़ी में बुधवार को रिपब्लिकन पार्टी आफ इंडिया (आरपीआइ) के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं केंद्रीय राज्य मंत्री रामदास आठवले (Ramdas Athawale) ने गोरखपुर में पार्टी कार्यकर्ताओं से मुलाकात कर प्रबुद्ध लोगों के साथ बैठक की. अठावले ने कहा कि विधानसभा चुनाव 2022 में उनकी पार्टी बीजेपी के साथ मिलकर चुनाव लड़ेगी. सीटों के बंटवारे को लेकर बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा एवं केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह से बातचीत चल रही है. वह यूपी में आकर बीएसपी के वोट में सेंध लगाएंगे.

अठावले ने ऐलान किया कि उनकी पार्टी पूरे प्रदेश में 26 सितंबर से बहुजन कल्याण यात्रा निकालेगी. यह यात्रा सहारनपुर से शुरू होगी और प्रदेश के सभी मंडल एवं जिलों में होते हुए 18 दिसंबर को लखनऊ पहुंचेगी. लखनऊ के रमाबाई अंबेडकर पार्क में विशाल जनसभा का आयोजन किया जाएगा. साथ ही रामदास आठवले ने कहा कि बीजेपी के साथ गठबंधन के बाद बसपा के वोट बैंक में सेंध लगाकर उसे नुकसान पहुंचाएंगे. इससे बीजेपी को काफी फायदा होगा. बहुजन कल्याण यात्रा के जरिए पार्टी अपनी ताकत दिखाएगी.

भाजपा से 10 से 12 सीटें मिलने की उम्मीद

अठावले ने उम्मीद जताई की भाजपा उन्हें 10 से 12 सीटें विधानसभा चुनाव में दे देगी. जिससे वो अनुसूचित जाति एवं मुस्लिम बहुल सीटों पर प्रत्याशी मैदान में उतार सकेंगे. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के कार्यकाल की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि उनके कार्यकाल में गुंडाराज खत्म हुआ है. सभी वर्गों के हित में काम किया गया है. उन्होंने कहा कि भाजपा व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मुस्लिमों के खिलाफ नहीं हैं. उनकी सरकार ने इस वर्ग के लिए बहुत कुछ किया है.

अठावले ने की अंतरजातीय विवाह की पैरवी

अठावले ने अंतरजातीय विवाह को बढ़ावा देने की जरूरत बताते हुए कहा कि अभी तक देश में करीब 1.25 लाख अंतरजातीय विवाह हो चुके हैं. साथ ही कहा कि प्रधानमंत्री किसानों के विरोधी नहीं हैं. आंदोलन कर रहे लोग तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग कर रहे हैं यह आसान नहीं है.

Gorakhpur News: कार को साइड नहीं देने पर लाठी-डंडे से पीटकर प्रधान की हत्या, 7 गिरफ्तार

 Gorakhpur News: कार को साइड नहीं देने पर लाठी-डंडे से पीटकर प्रधान की हत्या (File photo)

UP Crime News: दोनों को इलाज के लिए सीएचसी ठर्रापार ले जाया गया, जहां से डॉक्टरों ने जिला अस्पताल रेफर कर दिया. जिला अस्पताल में हालत गंभीर देख मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया गया.

SHARE THIS:

गोरखपुर. सीएम सिटी गोरखपुर (Gorakhpur News) में गाड़ी साइड करने को लेकर हुई कहासुनी से नाराज मनबढ़ों ने भाजपा नेता व सेमराडाढ़ी गांव के प्रधान जेडी रंजन की जमकर पिटाई कर दी. इस दौरान बीच-बचाव करने पर प्रधान के साले और बेटे को भी दबंगों ने पीटा है. वहीं गंभीरता हालत में प्रधान को होने पर मेडिकल कालेज में भर्ती कराया गया. जहां भाजपा नेता की सोमवार सुबह मौत हो गई. जिस पर एहतियातन गांव में पुलिस फोर्स तैनात कर दी गई है. पुलिस ने इस मामले में नामजद सभी सातों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है.

मामला सहजनवां थाना क्षेत्र के सेमराडाढ़ी गांव का है. जहां वर्तमान प्रधान भाजपा नेता जेडी रंजन अपने साले मिथिलेश के साथ गांव में बन रहे पंचायत भवन के लिए आए सामान को उतरवा रहे थे. आरोप है कि उसी दौरान गांव का चिन्ता अपने तीन बेटों के साथ कार से घर जा रहा था. पंचायत भवन का सामान लेकर आई गाड़ी को रास्ते से हटाने को लेकर प्रधान और चिंता के बीच कहासुनी हो गई. आरोप है कि यह विवाद इतना बढ़ गया कि चिंता और उसके तीनों बेटों ने लाठी-डंडे से भाजपा नेता जेडी रंजन तथा उनके साले की बुरी तरह से पिटाई कर दी. सिर में चोट लगने से भाजपा नेता गंभीर रूप से घायल हो गए.

गोरखपुर पुलिस ने सातों आरोपियों को किया गिरफ्तार

गोरखपुर पुलिस ने सातों आरोपियों को किया गिरफ्तार

दोनों को इलाज के लिए सीएचसी ठर्रापार ले जाया गया, जहां से डॉक्टरों ने जिला अस्पताल रेफर कर दिया. जिला अस्पताल में हालत गंभीर देख मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया गया. मेडिकल कॉलेज में जेडी रंजन की मौत हो गई. मामले में एसएसपी डॉ विपिन टाडा का कहना है कि गांव के ही पाटीदारों से वाहन खड़ा करने को लेकर प्रधान का विवाद हुआ था. जिस पर दोनों पक्षों में मारपीट में प्रधान की अस्पताल में मौत हुई है. फिलहाल पुलिस ने आरोपी सभी सातों नामजद आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है.

गोवंश की तस्करी पर CM योगी का बड़ा एक्शन, UP में 150 से ज्यादा अवैध स्लाटर हाउस को किया बंद

UP: गोवंश की तस्करी पर CM योगी का बड़ा एक्शन (File photo)

UP News: पुलिस विभाग के जुलाई तक के आंकड़ों के मुताबिक पिछले साढ़े चार साल में 319 गो तस्कर माफिया को गिरफ्तार किया गया है. साथ ही दो आरोपियों की कुर्की और 14 पर रासुका लगाया गया है.

SHARE THIS:

लखनऊ. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने प्रदेश में गोवंश संरक्षण और संवर्धन का एक तरफ जहां बीड़ा उठा रखा है. वहीं, सख्ती से गो तस्करी (Cow Smugglers) और अवैध स्लाटर हाउस के संचालन पर रोक लगा रखी है. प्रदेश में 150 से ज्यादा अवैध स्लाटर हाउस को बंद कराया गया है. इसके अलावा 356 गौ तस्कर माफिया को चिह्नित करते हुए 1823 आरोपियों के खिलाफ मुकदमा किया गया है. प्रदेश में पहली बार 68 गो तस्कर माफिया की गैंगेस्टर एक्ट के तहत 18 करोड़ से ज्यादा की संपत्ति जब्त की गई है.

प्रदेश में पिछली सरकारों में गो तस्करी बड़ा मुद्दा था, जिसे लेकर आए दिन हिंसा और बवाल हुआ करते थे. सपा सरकार के दौरान गो तस्करी का कारोबार अपने चरम पर था और स्लाटर हाउस के संचालन को लेकर भी मानकों की अनदेखी भी की जाती थी. इस दौरान नए स्लाटर हाउस खोलने की अनुमति भी दी गई थी, लेकिन प्रदेश में सरकार बदलने के बाद सीएम योगी ने इस पर सख्ती से रोक लगाने के निर्देश दिए. सीएम के निर्देश पर सुप्रीम कोर्ट के आदेश और केंद्र सरकार की गाइड लाइन का अक्षरश: पालन कराया गया. नगर विकास विभाग के मुताबिक जिलों में संचालित रोजाना तीन सौ, चार सौ और पांच सौ पशुओं के कटान की क्षमता वाले 150 से अधिक मानकों के विपरीत स्लाटर हाउस को बंद करा दिया है. फिलहाल, प्रदेश में मानकों के आधार पर 35 स्लाटर हाउस संचालित हैं.

319 गो तस्कर गिरफ्तार, 14 पर NSA
प्रदेश में गो तस्करी पर रोक लगाने के लिए पहली बार बड़े पैमाने पर सख्त कार्यवाही की गई है. पुलिस विभाग के जुलाई तक के आंकड़ों के मुताबिक पिछले साढ़े चार साल में 319 गो तस्कर माफिया को गिरफ्तार किया गया है. साथ ही दो आरोपियों की कुर्की और 14 पर रासुका लगाया गया है. इसके अलावा 280 आरोपियों पर गैंगेस्टर, 114 पर गुंडा एक्ट और 156 आरोपियों की हिस्ट्रीशीट खोली गई है.

सीएम योगी ने 2018 के एक्ट में किया संशोधित
सीएम योगी ने सरकारी स्लाटर हाउस के संचालन को लेकर आ रही दिक्कतों को देखते हुए 2018 में एक्ट संशोधित किया, जिसमें नगर निकाय को किसी भी प्रकार के स्लाटर हाउस के संचालन और स्थापना से मुक्त कर दिया गया. नगर निकाय एक्ट में प्रावधान था कि निकाय खुद स्लाटर हाउस चलाएंगे. अब निजी रूप से मानकों के आधार पर कोई भी स्लाटर हाउस संचालित कर सकता है, लेकिन अनुमति के लिए निर्णय नगर विकास विभाग की स्टेट लेवल कमेटी लेगी.

UP: योगी सरकार का ऐलान, लखनऊ, अयोध्‍या समेत 4 जिलों में खिलाड़ियों के लिए बनेगा मल्‍टीपर्पज हॉल

लखनऊ, अयोध्‍या समेत 4 जिलों में खिलाड़ियों के लिए बनेगा मल्‍टीपर्पज हॉल (File photo)

Sports News: युवा कल्‍याण विभाग की ओर से 16 सितम्‍बर से ग्रामीण इलाकों में जोनल स्‍तर की प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाएगा, जो 30 सितम्‍बर तक चलेंगी.

SHARE THIS:

लखनऊ. टोक्‍यो ओलंपिक (Tokyo Olympic) व पैरा ओलंपिक में खिलाड़ियों के शानदार प्रदर्शन के बाद खेल के प्रति युवाओं में रूझान बढ़ा है. वहीं, प्रदेश सरकार छोटे शहरों के होनहारों को बढ़ा मंच दे रही है. युवा ग्रामीण खिलाड़ियों को सुविधाओं के साथ खेल के मैदान व उपकरण मुहैया कराए जा रहे हैं. खिलाड़ियों की प्रतिभा निखारने के लिए विभिन्‍न जनपदों में 21 मल्‍टीपर्पज हाल बनाए जा रहे हैं. इसमें 6 महीने के अंदर लखनऊ, मेरठ, सोनभद्र और अयोध्‍या में मल्‍टीपर्पज हॉल बनकर तैयार हो जाएंगे. जहां खिलाड़ी अभ्‍यास कर सकेंगे. मल्‍टीपर्पज हॉल में खिलाडि़यों को रनिंग ट्रैक के साथ दूसरी सुविधाएं मिलेंगी.

युवा कल्‍याण विभाग की ओर से खेलो इंडिया योजना के तहत ग्रामीण परिवेश के खिलाड़ियों को उच्‍च स्‍तर की सुविधा दिए जाने का काम किया जा रहा है. इसी कड़ी में लखनऊ के मोहनलालगंज विकास खंड में मल्‍टीपर्पज हॉल निर्मित किया जा रहा है. इसमें खिलाड़ियों के अभ्‍यास के लिए रनिंग ट्रैक व नेचुरल कोर्ट की सुविधा होगी. अयोध्‍या के मिल्‍कीपुर में भी मल्‍टीपर्पज हॉल का निर्माण कार्य कराया जा रहा है. वहीं, मेरठ के पंचाली खुर्द और सोनभद्र के नगवां में मल्‍टीपर्पज इंडोर हॉल का निर्माण गांव के युवा खिलाड़ियों को आगे बढ़ने में मदद करेगा. मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने 6 महीने में इन चारों मल्‍टीपर्पज हॉल के निर्माण कार्य को पूरा करने के निर्देश दिए हैं.

ग्रामीण युवाओं को मिलेगी परवाज
युवा कल्‍याण विभाग की ओर से ग्रामीण युवाओं की खेल प्रतिभाओं को निखारने का काम किया जा रहा है. युवाओं में स्‍टेट ऑफ फिटनेस बनाए रखने के लिए खेल सुविधाओं में इजाफा किया जा रहा है. खेल इंडिया योजना के तहत गांवों में 20 ग्रामीण मिनी स्‍टेडियम और 21 मल्‍टीपर्पज हॉल का निर्माण कराया जा रहा है. साथ ही कर्न्‍वेजेंस के जरिए ओपन जिम और खेल के मैदानों का विकास कराया जा रहा है.

गांव में हो रहा प्रतियोगिताओं का आयोजन
युवा कल्‍याण विभाग की ओर से 16 सितम्‍बर से ग्रामीण इलाकों में जोनल स्‍तर की प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाएगा, जो 30 सितम्‍बर तक चलेंगी. इसके बाद अक्‍तूबर में राज्‍य स्‍तर की प्रतियोगिताएं आयोजित की जाएंगी. इसमें खिलाडि़यों के बीच एथलेटिक्‍स, वॉलीबॉल, कबड्डी, कुश्‍ती व भारोत्‍तोलन प्रतियोगिताएं होंगी.

UP: CM योगी का विपक्ष पर 'प्रहार', कहा- अब्बाजान कहने वाले हजम कर जाते थे गरीबों का राशन

सीएम योगी ने कहा कि पहले अब्बाजान कहने वाले हजम कर जाते थे गरीबों का राशन.

Uttar Pradesh News: CM Yogi Adityanath ने पूर्व की कांग्रेस, सपा-बसपा की सरकारों पर जमकर हमला बोला. उन्होंने कहा कि आज हर गरीब को मुफ्त राशन मिल रहा है. 2017 के पहले अब्बाजान कहने वाले गरीबों का राशन हजम कर जाते थे. उनके चेलों में बंटकर यह राशन नेपाल व बांग्लादेश चला जाता था.

SHARE THIS:

गोरखपुर. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने रविवार को भगवान बुद्ध की महापरिनिर्वाण स्थली कुशीनगर (Kushinagar) जिले के कप्तानगंज और सेवरही में विकास परियोजनाओं का लोकार्पण-शिलान्यास किया. इस दौरान उन्होंने पूर्ववर्ती कांग्रेस, सपा-बसपा की सरकारों पर जमकर हमला बोला. उन्होंने कहा कि आज हर गरीब को मुफ्त राशन मिल रहा है. 2017 के पहले अब्बाजान कहने वाले गरीबों का राशन हजम कर जाते थे. उनके चेलों में बंटकर यह राशन नेपाल व बांग्लादेश चला जाता था. आज कोई गरीबों का राशन निगलने की कोशिश करेगा तो निगल भले न सके, लेकिन जेल जरूर चला जाएगा. उन्होंने कहा कि कुशीनगर का मेडिकल कॉलेज भगवान बुद्ध को समर्पित होगा और इसका शिलान्यास जल्द होगा. हवाई अड्डे का भी शुभारंभ शीघ्र किया जा जाएगा.

मुख्यमंत्री ने कुशीनगर के कप्तानगंज व सेवरही में आयोजित कार्यक्रम के दौरान जनपदवासियों को करीब 421 करोड़ रुपये से अधिक की विकास परियोजनाओं की सौगात दी. उन्होंने कप्तानगंज में 310.44 करोड़ रुपये की लागत वाली 96 विकास परियोजनाओं का शिलान्यास व 14.17 करोड़ रुपये की 11 विकास परियोजनाओं का लोकार्पण किया. सेवरही में सीएम योगी ने 95.99 करोड़ रुपये की लागत वाली 30 विकास परियोजनाओं का लोकार्पण व शिलान्यास किया.

कप्तानगंज में आयोजित समारोह में मुख्यमंत्री ने कहा कि 2014 से देश को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का यशस्वी नेतृत्व मिला है जिन्होंने राजनीतिक एजेंडे को बदला है. पहले देश की राजनीति वंशवाद, जातिवाद, क्षेत्रवाद में सीमित थी. आज सबका विकास हो रहा है. तब दंगे, भ्रष्टाचार, आतंकवाद, अराजकता, अन्याय और अत्याचार दिखते थे, लेकिन आज सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास का राज है. आज देश पर कोई विपत्ति आती है तो कांग्रेस नेता फुर्र से इटली पहुंच जाते हैं. सपा वाले सैफई से आगे नहीं देख पाते. जबकि पीएम मोदी ने देश के लोगों को कोरोना से भी बचाया और भूख से भी बचाने का काम किया है.

बिना रुके, बिना थके कर रहे जनता की सेवा: मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि देश में सात सालों से अधिक समय से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और प्रदेश में साढ़े चार सालों से वह बिना रुके, बिना थके, बिना डिगे, बिना झुके जनता की सेवा कर रहे हैं. उन्होंने जनता से अगले छह माह भाजपा के कल्याणकारी अभियानों से जुड़ने की अपील करते हुए कहा कि भाजपा है तो विकास के साथ आस्था का भी सम्मान है.

UP: सीएम योगी का माफियाओं को संदेश, बोले- अगर गरीब, किसान का जीना हराम करेगा, तो हमारी सरकार उसका जीना हराम कर देगी

अगर गरीब, किसान का जीना हराम करेगा, तो हमारी सरकार उसका जीना हराम कर देगी (File photo)

Sant Kabir Nagar News: उन्होंने कहा कि पूर्व की सरकारें विकास को लेकर कभी गंभीर नहीं रहीं. भाई भतीजावाद, जाति- पाति और दबंगई चरम पर थी, लेकिन जब से यूपी में भाजपा की सरकार बनी तब से विकास की गति तेज हुई है.

SHARE THIS:

संतकबीरनगर. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने रविवार को संतकबीरनगर (Sant Kabir Nagar) जिले के नव निर्मित जिला कारागार परिसर में जिला कारागार का लोकार्पण और अन्य योजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास किया. इस दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जनसभा को संबोधित करते हुए पूर्ववर्ती सरकार में माफिया को मिले सत्ता के संरक्षण पर जमकर निशाना साधा. सीएम योगी ने कहा कि माफिया के लिए हमारा संदेश बिलकुल स्पष्ट है. माफिया यदि गरीब, किसान, व्यापारी का जीना हराम करेगा तो हमारी सरकार उसका जीना हराम कर देगी. सरकार ने यह करके दिखाया भी है. मुख्यमंत्री ने कहा कि संतकबीरनगर में जिला कारागार बन जाने से अब यहां के कैदियों को बस्ती नहीं भेजना पड़ेगा. उन्होंने उम्मीद जताई कि यह कारागार सुधारगृह के रूप में आदर्श कारागार बनेगा.

योगी ने कहा कि सूबे के सभी जिलों में मेडिकल कॉलेज की स्थापना होगी. कई जिलों में मेडिकल कॉलेज शुरू हो गए हैं. जिन जिलों में अभी इसकी शुरूआत नहीं हुई है वहां भी पीपीपी मॉडल से मेडिकल कॉलेज स्थापित किया जाएगा. इसके साथ ही गोरखपुर में एम्स बनकर तैयार हो गया है, जिसका लोकार्पण शीघ्र ही किया जाएगा. उन्होंने कहा कि पूर्व की सरकारें विकास को लेकर कभी गंभीर नहीं रहीं. भाई भतीजावाद, जाति- पाति और दबंगई चरम पर थी, लेकिन जब से यूपी में भाजपा की सरकार बनी तब से विकास की गति तेज हुई है.

बखिरा का बर्तन उद्योग करेगा पूरी दुनिया में नाम
इसमें संतकबीरनगर जिला भी शामिल है. उन्होंने कहा कि खलीलाबाद को रेडीमेड का हब बनाने की अपार संभावना है. इसके लिए संसाधन उपलब्ध कराने और मार्केट की व्यवस्था करने के लिए सरकार ने प्रयास किए हैं. आने-वाले दिनों में बखिरा का बर्तन उद्योग भी पूरी दुनिया में अपनी पहचान कायम करेंगे. इसके लिए कलस्टर योजना शुरू की गई है. सीएम योगी ने कहा कि अब समय बदल चुका है साढ़े चार साल पहले जो सरकार थी वो भाई- भतीजावाद और वंशवाद करती थी तुष्टीकतरण के नाम पर आप के हक पर डकैती डालने का काम करती थी.

अपना घर को जरूर नीलाम करवा देगा…
गुंडागर्दी और दंगा प्रदेश की पहचान बन चुका था, नौजवानों की नौकरी को इन के द्वारा नीलाम कर दिया जाता था. जब नौकरी निकलती थी एक परिवार के लोग नौकरी लेकर जगह-जगह वसूली करने निकल पड़ते थे, आज अगर कोई नौकरी नीलाम करने का प्रयास करेगा तो नौकरी तो नहीं नीलाम कर पाएगा अपने घर को जरूर नीलाम करवा देगा.

सपा-बसपा और कांग्रेस पर किया प्रहार
सीएम ने कहा कोरोना को लेकर सरकार ने अच्छा काम किया. कल्पना करिए सपा, बसपा और कांग्रेस के समय में यह महामारी आई होती तो क्या होता. जैसे आज केरल, महाराष्ट्र और दिल्ली के अंदर हुआ अगर वैसी स्थिति आती तो क्या होता उत्तर प्रदेश में कितने लोग मरते, जिन लोगों ने अपने परिवार को खोया है उन के प्रति हमारी संवेदना है, हर पीडित परिवार के साथ सरकार खड़ी है, जो बच्चे निराश्रित हुए उन बच्चों के लालन पालन की जिम्मेदारी उत्तर प्रदेश सरकार ने ली है, 4 हजार रूपए उन बच्चों को हर महीने सरकार दे रही है.

Load More News

More from Other District