• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • सीएम योगी का विपक्ष पर वार, कहा- जो कभी 'राम' का नाम नहीं लेते थे आज वो लगा रहे हैं अयोध्या के चक्कर

सीएम योगी का विपक्ष पर वार, कहा- जो कभी 'राम' का नाम नहीं लेते थे आज वो लगा रहे हैं अयोध्या के चक्कर

UP: वह केरल में जाकर गाली देते हैं, इसे यूपी कैसे भूल सकता है.(File photo)

UP: वह केरल में जाकर गाली देते हैं, इसे यूपी कैसे भूल सकता है.(File photo)

UP News: अयोध्या के ही संदर्भ में सीएम योगी ने एआईएमआईएम नेता असदुद्दीन ओवैसी को नसीहत देते हुए कहा कि अयोध्या, अयोध्या ही रहेगी, हैदराबाद भाग्यनगर जरूर बनेगा.

  • Share this:

गोरखपुर. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने गोरखपुर में न्यूज 18 की तरफ से आयोजित ‘एजेंडा पूर्वांचल’ (Agenda Purvanchal) कार्यक्रम में विपक्ष की मंशा पर करारा प्रहार किया. राहुल गांधी द्वारा एक ट्वीट में योगी आदित्यनाथ को संत न मानने की टिप्पणी पर सीएम योगी ने कहा कि राहुल जी को स्वयं पता नहीं होता कि वह क्या बोलने वाले हैं. जिस यूपी ने उनकी तीन पीढ़ियों को सत्ता के शीर्ष पर पहुंचाया, उस यूपी को वह केरल में जाकर गाली देते हैं, इसे यूपी कैसे भूल सकता है. अयोध्या में प्रभु श्रीराम के मंदिर को लेकर सुप्रीम कोर्ट में कांग्रेस की टिप्पणी को कोई कैसे भूल सकता है. जो लोग राम-कृष्ण को नहीं छोड़ते, वे मेरे खिलाफ बोलें तो कौन सी बड़ी बात है. वास्तव में कांग्रेस को रसातल में ले जाने के लिए ‘भाई-बहन’ (राहुल गांधी-प्रियंका गांधी वाड्रा) की जोड़ी ही पर्याप्त है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि आज अयोध्या जाकर प्रभु श्रीराम को अपना बताने की विपक्षी दलों के नेताओं में होड़ है. यह वहीं लोग हैं जो कभी प्रभु श्रीराम को काल्पनिक बताते थे. यह हमारी वैचारिक विजय है. अयोध्या के ही संदर्भ में सीएम योगी ने एआईएमआईएम नेता असदुद्दीन ओवैसी को नसीहत देते हुए कहा कि अयोध्या, अयोध्या ही रहेगी, हैदराबाद भाग्यनगर जरूर बनेगा. अलग-अलग सवालों पर सीएम योगी ने पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह व सपा से अलग होकर अपनी पार्टी बनाने वाले शिवपाल सिंह यादव की तारीफ की.

Lakhimpur Violence: लखीमपुर में प्रशासन ने फिर बंद की इंटरनेट सेवा

उन्होंने कहा कि अमरिंदर सिंह साफगोई से अपनी बात रखने व जनाधार वाले नेता हैं. वहीं सपा के लिए शिवपाल सिंह यादव के योगदान को नकारा नहीं जा सकता. लखीमपुर जाने की ही बात है तो शिवपाल के साथ करीब पांच हजार लोग थे जबकि अखिलेश यादव के साथ बमुश्किल तीन सौ. जहां पिता और चाचा का सम्मान नहीं, वहां पार्टी सदस्यों व जनता के साथ कैसा व्यवहार होगा?

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज