Home /News /uttar-pradesh /

cm yogi effects loudspeaker sound of mosques very low after seeing gorakhnath temple in gorakhpur upns

गोरखनाथ मंदिर की राह पर गोरखपुर के धार्मिक स्थल, मस्जिदों के लाउडस्पीकर की आवाज हुई कम

सीएम योगी के निर्देशों के बाद कई जिलों में धार्मिक स्थलों के प्रबंधकों ने स्वयं ही लाउडस्पीकर या तो हटा लिए हैं या उनकी आवाज धीमी कर ली है. (File pic)

सीएम योगी के निर्देशों के बाद कई जिलों में धार्मिक स्थलों के प्रबंधकों ने स्वयं ही लाउडस्पीकर या तो हटा लिए हैं या उनकी आवाज धीमी कर ली है. (File pic)

गोरखनाथ मंदिर के सचिव द्वारिका तिवारी कहते हैं कि आवाज को लेकर कभी भी अगल-बगल के मोहल्लों से कोई शिकायत नहीं आई है जबकि बड़ी संख्या में दूसरे समुदाय के लोग मंदिर के आसपास रहते हैं. मंदिर द्वारा यह हमेशा कोशिश रही है कि भजन और आरती से लोगों को आनंद मिले ना कि उसके तेज आवाज से किसी प्रकार का कष्ट हो.

अधिक पढ़ें ...

गोरखपुर. सभी धार्मिक आयोजनों और धार्मिक स्थलों में शांति बनाए रखने के लिए बिना अनुमति के कोई भी धार्मिक जुलूस नहीं निकाला जाना चाहिए और ऐसे आयोजन स्थलों में लाउडस्पीकर के इस्तेमाल से दूसरों को असुविधा नहीं होनी चाहिए. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की ओर से दिए गए इन निर्देशों का पालन करते हुए गोरखनाथ मंदिर परिसर के लाउडस्पीकर की आवाज बहुत धीमी कर दी गई है. सीएस योगी की यह आदत रही है, कि जब वह कोई फैसला लागू करते हैं या उसको लागू करने के बारे में सोचते हैं. बता दें कि प्रदेश में लाउडस्पीकर को लेकर एक अघोषित घमासान मचा हुआ है.

बताया जाता है कि गोरखनाथ मंदिर में पहले से ही इतनी ही आवाज में माइक बजाया जाता था कि मंदिर परिसर से आवाज बाहर नहीं जाती थी. अब और भी बदलाव कर दिए गए हैं. वहीं दूसरी तरफ गोरक्षनाथ पीठ हमेशा से एक नजीर रही है. मंदिर प्रांगण से बाहर कभी भी भजन या पूजा- पाठ की आवाज बाहर नहीं गई. सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइन का पालन करते हुए हमेशा मंदिर परिसर के अंदर लाउडस्पीकर बजाया जाता था. इन दिनों जब यह बहस तेज हुई की आवाज में धार्मिक स्थानों के लाउडस्पीकर से कितनी आवाज हो तो सबसे पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ में अपनी पीठ जिसके वह पीठाधीश्वर हैं. उसके लाउडस्पीकर की आवाज बेहद कम करा दिया, जिससे अब आवाज मुख्य मंदिर से बाहर ही नहीं सुनाई पड़ रही है.

तेज आवाज में कार्यक्रम नहीं होते
गोरखनाथ मंदिर के सचिव द्वारिका तिवारी कहते हैं कि आवाज को लेकर कभी भी अगल-बगल के मोहल्लों से कोई शिकायत नहीं आई है, जबकि बड़ी संख्या में दूसरे समुदाय के लोग मंदिर के आसपास रहते हैं. मंदिर द्वारा यह हमेशा कोशिश रही है कि भजन और आरती से लोगों को आनंद मिले ना कि उसके तेज आवाज से किसी प्रकार का कष्ट हो. पुरोहित अरविंद चतुर्वेदी का कहना है कि हमने कभी भी मंदिर प्रांगण में तेज आवाज में कार्यक्रम होते नहीं देखा और सुना है.

मुस्लिम समुदाय ने कही ये बात
गोरखनाथ मंदिर के बगल में रहने वाले मुस्लिम समुदाय के लोगों का कहना है कि मंदिर की आवाज कभी भी इतनी तेज नहीं हुई कि वह परिसर से बाहर आए. कभी भी भजन कीर्तन को लेकर कोई परेशानी किसी को नहीं हुई. इन दिनों मंदिर की आवाज और भी धीमा कर दिया गया है, जिसके बाद से हम लोगों ने अपने मस्जिदों की आवाज को भी धीमा कर दिया है.

Tags: CM Yogi, Gorakhnath Temple, Gorakhpur news, Loudspeaker free shrines, UP Police उत्तर प्रदेश, Yogi government

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर