गोरखपुर पहुंचे सीएम योगी आदित्यनाथ, वन टांगिया समाज के साथ मनाएंगे दिवाली

सीएम योगी ने बड़ा फैसला लिया है.
सीएम योगी ने बड़ा फैसला लिया है.

जैसे ही योगी आदित्यानाथ (Yogi Adityanath) मुख्यमंत्री (CM) बने इन लोगों के अच्छे दिन आ गये. आज महिलाएं कहती है कि सीएम योगी उनके लिए भगवान हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 14, 2020, 12:08 PM IST
  • Share this:
अयोध्या. राम की नगरी अयोध्या (Ayodhya) में भव्य दीपोत्सव (Ayodhya Deepotsav 2020) कार्यक्रम में हिस्सा लेने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Chief Minister Yogi Adityanath) गोरखपुर (Gorakhpur) पहुंच चुके है. वह गोरखपुर में शनिवार को गोरखनाथ मंदिर में पूजन के बाद वनटंगिया समाज के लोगों के साथ दीपावाली मनाएंगे. आज शाम को उनका गोरखनाथï मंदिर में पूजा भी करने का कार्यक्रम है. इससे पहले सीएम योगी ने साथ ही कारसेवक पुरम पहुंचकर ट्रस्ट के पदाधिकारी और साधु संतों से मुलाकात की. सीएम योगी ने महंत नृत्य गोपाल दास के उत्तराधिकारी कमल नयन दस से मुलाकात कर राम की पैड़ी का निरीक्षण किया. शुक्रवार की शाम रामनगरी अयोध्या का नजारा देखने लायक था.

वनटांगिया कौन कहलाते हैं?
इसके बाद अंग्रेजों ने जंगल लगाने और उसकी रखवाली करने के लिए जंगलों के बीच में कुछ लोगों को बसा दिया.ये लोग वहीं पर रहते थे, जंगल लगाते थे और किसी तरह से जीवन यापन करते थे. बाहरी दुनिया से इनका कोई मतलब नहीं था. इनके वनटांगिया कहलाने के पीछे की कहानी ये है कि जंगल क्षेत्र में पौधों की देखरेख करने के लिए मजदूर रखे गये थे. इसके लिए 1920 में म्यांमार में आदिवासियों द्वारा पहाड़ों पर जंगल तैयार करने के साथ ही खाली स्थानों पर खेती करने की पद्धति 'टोंगिया' को आजमाया गया, इसलिए इस काम को करने वाले श्रमिक वनटांगिया कहलाए. वनटांगिया श्रमिक भूमिहीन थे. वो अपने परिवार के साथ जंगलों में रहते थे. इसिलए दूसरी पीढ़ी के लोगों का अपने मूल स्थान से कटाव हो गया और वो जंगल के होकर रह गये.

योगी आदित्यानाथ ने सीएम बनते ही बदल दी गांव की तस्वीर
जैसे ही योगी आदित्यानाथ मुख्यमंत्री बने इन लोगों के अच्छे दिन आ गये. आज महिलाएं कहती है कि सीएम योगी उनके लिए भगवान हैं. महिलाओं का कहना है कि सीएम योगी ने इस गांव पीने के लिए शुद्ध पानी, चलने के लिए सड़क, रहने के लिए मकान, शौचालय, बिजली, गैस, स्कूल, राशनकार्ड सहित विकास की जितनी भी योजनाएं होती हैं सारी योजनाएं दीं. गांव आज विकास की नई कहानी लिख रहा है. 2007 से लगातार योगी आदित्यनाथ इस गांव में आकर दीपावली मनाते रहे हैं. इस बार गांव की महिलाएं सीएम का इंतजार कर रही हैं. महिलाओं का कहना है कि अगर सीएम योगी गांव में नहीं आयेंगे तो उनके घरों में दीपावली का दिया नहीं जलेगा. बाबा हमारे भगवान हैं. हमारा हक हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज