UP: सीएम योगी आदित्यनाथ बोले- अब कोई मजदूर फुटपाथ पर सोने को मजबूर नहीं होगा

अब कोई मजदूर फुटपाथ पर सोने को मजबूर नहीं होगा (File photo)

अब कोई मजदूर फुटपाथ पर सोने को मजबूर नहीं होगा (File photo)

सीएम योगी (CM Yogi) गोरखपुर के मानबेला में प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के लाभार्थियों को आवास प्रमाण पत्र सौंपने के लिए आयोजित समारोह को संबोधित कर रहे थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 29, 2021, 1:04 PM IST
  • Share this:
लखनऊ/गोरखपुर. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्ग दर्शन में 2022 तक उत्तर प्रदेश में हर गरीब के पास सिर ढकने को अपना आवास होगा. जीवन की सुगमता में आवास, बिजली, शुद्ध पेयजल, अच्छी स्वास्थ्य सुविधाएं, अच्छी स्कूली शिक्षा, नजदीकी रोजगार की आवश्यकता को पूरा करने की दिशा में केंद्र और प्रदेश की सरकारें तेजी से कार्य कर रही हैं. अब कोई मजदूर फुटपाथ पर सोने को मजबूर नहीं होगा. उसे अपने मकान में सम्मान के साथ भोजन मिलेगा. पीएम आवास योजना से लाखों लोगों के जीवन में सुखद परिवर्तन लाने में मदद मिली है. जल जीवन मिशन भी इसी तरह की महत्वपूर्ण योजना है, जिससे लोगों को शुद्ध पेयजल की सुविधा उपलब्ध होगी.

सीएम योगी गोरखपुर के मानबेला में प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के लाभार्थियों को आवास प्रमाण पत्र सौंपने के लिए आयोजित समारोह को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना एक सफलतम योजना है. इसमें शहरी क्षेत्र के पात्र लोगों को ढाई लाख रुपए दिए जाते हैं. डेढ़ लाख केंद्र सरकार देती है और एक लाख राज्य सरकार. प्रदेश में गत चार साल में जनता की मांग के अनुरूप पर्याप्त संख्या में आवास उपलब्ध कराए जा रहे हैं.

UP News: सैफई में सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने जमकर खेली होली, सामने आई तस्वीर

उन्होंने बताया कि शहरी क्षेत्र में 18 लाख और ग्रामीण क्षेत्र में 22 लाख, कुल 40 लाख आवास दिए गए हैं. इसमें व्यक्तिगत लाभार्थियों को भी 2.5 लाख रुपए मिल रहे हैं. सीएम ने कहा कि पत्रकारों, अधिवक्ताओं, शिक्षकों आदि के साथ कामगारों को भी आवास की सुविधा से लाभान्वित किया जा रहा है. योगी ने मानबेला के लोगों से खुद को जोड़ते हुए कहा कि मानबेला के आंदोलन से जुड़े कई लोग यहां उपस्थित हैं. सबको सम्मानजनक मुआवजा दिया गया है. अब यहां पीएम आवास योजना के तहत 1500 आवास बन गए हैं. यहीं पत्रकारों के लिए भी सस्ते दर पर मकान उपलब्ध कराए गए हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज