पूजा-पाठ तक सीमित न रहें मंदिर, राष्ट्रवाद की भावना से करें जनकल्याण: CM योगी

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Aditya Nath) ने गुरुवार को कहा कि मंदिरों और मठों को सिर्फ पूजा-पाठ तक ही सीमित रहने के बजाय राष्ट्रवाद की भावना के साथ जनकल्याण के कार्यों में भी भूमिका निभानी चाहिये.

News18 Uttar Pradesh
Updated: September 12, 2019, 9:03 PM IST
पूजा-पाठ तक सीमित न रहें मंदिर, राष्ट्रवाद की भावना से करें जनकल्याण: CM योगी
योगी ने 'संत समाज और पुनर्जागरण' विषय पर आयोजित संगोष्ठी में कहा, 'मंदिरों और मठों के केवल पूजा-पाठ तक ही सीमित नहीं रहना चाहिये
News18 Uttar Pradesh
Updated: September 12, 2019, 9:03 PM IST
गोरखपुर. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Aditya Nath) ने गुरुवार को कहा कि मंदिरों और मठों को सिर्फ पूजा-पाठ तक ही सीमित रहने के बजाय राष्ट्रवाद की भावना के साथ जनकल्याण के कार्यों में भी भूमिका निभानी चाहिये. योगी ने 'संत समाज और पुनर्जागरण' विषय पर आयोजित संगोष्ठी में कहा, 'मंदिरों और मठों को केवल पूजा-पाठ तक ही सीमित नहीं रहना चाहिये, बल्कि उन्हें राष्ट्रवाद की भावना के साथ जनकल्याणकारी कार्यों में भी भाग लेना चाहिये.' उन्होंने कहा कि भारत में संतों की परंपरा अत्यंत समृद्ध रही है. संतों ने हमेशा समाज को जगाने और सही रास्ता दिखाने की कोशिश की.

सीएम योगी ने पुरातन भारतीय संस्कृति का उदाहरण देते हुए कहा कि भारतीय ऋषि परम्परा ने राष्ट्रधर्म को सभी धर्मो से बड़ा माना है. अपनी आध्यात्मिक चेतना से संत-समाज राष्ट्र को सुषुप्त अवस्था से जागृत अवस्था में लाने के लिए सदैव प्रयत्नरत रहा है. इसी परम्परा में महाराणा प्रताप शिक्षा परिषद, विश्वविद्यालय एवं संस्कृत विद्यालय की स्थापना के साथ-साथ स्वास्थ्य, शिक्षा एवं सेवा के विभिन्न कल्याणकारी आयाम गोरक्षपीठ द्वारा चलाए जा रहें हैं.

(भाषा से इनपुट के साथ)
ये भी पढ़ें:

सवाल पूछने वाले पत्रकारों पर लगातार हमले कर रही योगी सरकार: प्रियंका गांधी

अखिलेश का रामपुर कूच 13 सितंबर को, आजम के हमसफर रिसॉर्ट में गुजारेंगे रात

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गोरखपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 12, 2019, 8:50 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...