लाइव टीवी

सीएम सिटी में चर्चा का केंद्र बना 'कड़कनाथ' मुर्गा, गोरखपुर के बाजारों में बढ़ी डिमांड

News18Hindi
Updated: February 16, 2019, 10:08 AM IST
सीएम सिटी में चर्चा का केंद्र बना 'कड़कनाथ' मुर्गा, गोरखपुर के बाजारों में बढ़ी डिमांड
गोरखपुर में चिकन शॉप की दुकान

मुन्नू कहते हैं कि इसकी खासियत है कि इसके गोश्त में फैट नहीं होता है. ये प्रोटीन और आयरन से भरपूर होता है. वहीं इसमें प्रोटीन प्रचुर मात्रा में होता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 16, 2019, 10:08 AM IST
  • Share this:
सीएम सिटी गोरखपुर में आजकल 'कड़कनाथ' मुर्गा काफी चर्चाओं में है. मध्य प्रदेश के आदिवासी बहुल इलाके में मिलने वाला ये मुर्गा अब गोरखपुर के बाजारों में भी उपलब्ध है. 'कड़कनाथ' की कीमत 1200 रुपये है. एक मुर्गे में करीब डेढ़ किलो गोश्त निकलेगा. 'कड़कनाथ' को 'कालीमासी' भी कहते हैं. बता दें कि 'कड़कनाथ' की मांग सर्दियों के दिनों में देश ही नहीं, विदेशों में भी होती है. हमेशा याद रहने वाले लजीज स्वाद आदि के लिए पहचाने जाने वाले कड़कनाथ प्रजाति के मुर्गों की मांग काफी बढ़ गई है. बता दें कि 'कड़कनाथ' मुर्गे की चोंच, कलंगी, जुबान, टांगे, नाखून चमड़ी सभी काले होते है.

शहर के रेती चौक मदीना मस्जिद के पास फैमिली चिकन शॉप की दुकान चालने वाले जियाउल्लाह उर्फ मुन्नू ने न्यूज18 से बातचीत में बताया कि मध्य प्रदेश से 'कड़कनाथ' मुर्गा गोरखपुर शहर में पहली बार मंगाया गया है. मुन्नू कहते हैं कि इसकी खासियत है कि इसके गोश्त में फैट नहीं होता है. ये प्रोटीन और आयरन से भरपूर होता है. वहीं इसमें प्रोटीन प्रचुर मात्रा में होता है. यही वजह है कि इसे औषधीय गुणों वाला मुर्गा माना जाता है. बीमार और ऐसे लोग जिन्हें डॉक्टर ने फैटी मांस खाने से मना किया है, वे इसे खा सकते हैं.

'कड़कनाथ' मुर्गा


उन्होंने बताया कि 'कड़कनाथ' की मांग सर्दियों के दिनों में देश ही नहीं, विदेशों में भी होती है. हमेशा याद रहने वाले लजीज स्वाद आदि के लिए पहचाने जाने वाले कड़कनाथ प्रजाति के मुर्गों की मांग काफी बढ़ गई है. वे कहते हैं कि देखते हैं गोरखपुर में इसकी डिमांड बढ़ गई है. जियाउल्लाह उर्फ मुन्नू ने बताया कि जितने भी मुर्गे पहले मंगाए गए थे वो सब बिक गए. ग्राहकों की बढ़ती डिमांड को देखते हुए दोबारा ऑर्डर  दिया गया है.

जियाउल्लाह बताते हैं कि कड़कनाथ मुर्गे की प्रजाति के तीन रूप होते हैं. पहला जेड ब्लैक होता है. इसके पंख पूरी तरह से काले होते हैं. इस मुर्गे का आकार पेंसिल की तरह होता है. इस शेड में कड़कनाथ के पंख पर नजर आते है. गोल्डन कड़कनाथ मुर्गे के पंख पर गोल्डन छींटे दिखाई देती हैं. उन्होंने बताया कि उनके यहां 'बटेर' भी तीन रंग में बिक रही है. एक बटेर की कीमत ₹70 है. इसे बरेली से मंगवाया जा रहा है.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

ये भी पढ़ें:
Loading...

पुलवामा आतंकी हमला: चंदौली पहुंचा शहीद अवधेश यादव का शव, पत्नी ने दी श्रद्धांजलि

लोकसभा चुनाव से पहले यूपी में 64 आईएएस और 11 आईपीएस अफसरों के तबादले

सुर्खियां: पाक को PM मोदी की चेतावनी, 'आपने बहुत बड़ी गलती की', शहीद की पत्नी बोलीं- खून का बदला खून

पुलवामा अटैक: शहीद के घर पहुंचे अखिलेश बोले, इंटेलिजेंस फेल्योर का जिम्मेदार कौन?

पुलवामा हमले के बाद कश्‍मीरी छात्र ने लिखा- How's the Jaish, AMU ने निकाला

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गोरखपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 16, 2019, 10:05 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...