CM योगी आदित्यनाथ के शहर गोरखपुर में गिरा अपराध का ग्राफ

एसएसपी शलभ माथुर का दावा है कि पिछले एक साल में गोरखपुर जिले में बढ़ते अपराध पर अंकुश लगा है. एसएसपी के मुताबिक पिछले एक साल में अब तक 85 इनामी बदमाशों में से 58 की गिरफ्तारी की गई है.

Anil kumar singh | News18 Uttar Pradesh
Updated: August 20, 2018, 2:55 PM IST
CM योगी आदित्यनाथ के शहर गोरखपुर में गिरा अपराध का ग्राफ
गोरखपुर एसएसपी शलभ माथुर
Anil kumar singh | News18 Uttar Pradesh
Updated: August 20, 2018, 2:55 PM IST
प्रदेश की सत्ता पर सीएम योगी के काबिज होने के बाद से सूबे में अपराध पर अंकुश लगाने के लिए ताबड़तोड़ एनकाउंटर का दौर जारी है. ऐसे में अगर बात करें सीएम सिटी गोरखपुर की तो यहां भी पुलिस की सक्रियता से बदमाशों पर नकेल कसा गया है. खासकर लुटेरों, भूमाफिया, शराब माफिया और वन माफियाओं के खिलाफ पिछले एक साल में पुलिस ने सख्त कार्रवाई की है. मौजूदा वक्त में शहर के कुख्यात या तो जेल में हैं, या फिर प्रदेश छोड़कर जा चुके हैं. पिछले एक साल में पुलिस की सक्रियता से प्रदेश के साथ सीएम सिटी गोरखपुर का भी माहौल बदला है.

गोरखपुर पूर्वांचल का वो शहर है जो माफियाओं के गढ़ के तौर पर जाना जाता रहा है. यहां कभी हरिशकंर तिवारी, विरेन्द्र शाही, राजन तिवारी से लेकर कुख्यात श्रीप्रकाश शुक्ला की तूती बोलती थी. रेलवे के टेंडर को मैनेज करने को लेकर कई बार खून-खराब हुआ. लेकिन समय के साथ पुराने माफिया या तो पुलिस की गोली का शिकार हुये या गैंगवार में मारे गए. फिर भी गोरखपुर की धरती से अपराध कभी भी कम नहीं हुआ. लूट-हत्या और रंगदारी की घटनाओं से शहरवासियों में भय का माहौल था. लेकिन बीजेपी की योगी सरकार के सत्ता पर काबिज होने के बाद से प्रदेश के साथ सीएम सिटी गोरखपुर का भी माहौल बदला है.

दरअसल, सूबे में अपराधियों पर अंकुश लगाने को लेकर प्रदेश सरकार की सख्त संदेश का असर देखने को मिला है. पिछले एक साल में पुलिस ने मुठभेड़ के दौरान कई शातिर बदमाशों को गिरफ्तार किया है. एसएसपी शलभ माथुर का दावा है कि पिछले एक साल में गोरखपुर जिले में बढ़ते अपराध पर अंकुश लगा है. एसएसपी के मुताबिक पिछले एक साल में अब तक 85 इनामी बदमाशों में से 58 की गिरफ्तारी की गई है. जबकि बाकी के बदमाशों ने पुलिस के खौफ से कोर्ट में सरेंडर किया है. एसएसपी ने बताया कि इस साल 32 पुलिस मुठभेड़ के दौरान बदमाशों को गिरफ्तार किया गया है. जबकि 25 कुख्यात बदमाशों की हिस्ट्रीशीट खोली गई है. 23 बदमाशों की जमानत को निरस्त कराया गया है. इसके आलावा आधा दर्जन बदमाशों पर रासुका और 34 पर गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई की गई है.

उन्होंने कहा कि शातिर बदमाश पवन सिंह की 12 करोड़ की संपत्ती जब्त की गई है. एसएसपी ने बताया कि करीब 55 लोगों के शस्त्र लाइसेंस निरस्तीकरण की संस्तुति की गई है. इसके साथ ही तस्करी की करीब 14 हजार लीटर अंग्रेजी शराब जब्त करने, 56 हजार लीटर कच्ची शराब बरामद करने के साथ 170 कुंतल लहन को नष्ट किया गया है. 850 शराब माफियाओं के खिलाफ केस दर्ज करने के साथ ही 924 शराब कारोबारियों की गिरफ्तारी की गई है. एसएसपी ने जोर देकर कहा है कि भयमुक्त वातावरण बनाने को लेकर लगातार पुलिस फुट पेट्रोलिंग के साथ ही महिलाओं की सुरक्षा को लेकर प्रयासरत है. इसके साथ ही जेल से छूटकर बाहर आने वाले बदमाशों की हिस्ट्री खोली जा रही है.

निश्चित तौर पर सीएम सिटी गोरखपुर में गिरते अपराध के ग्राफ के पीछे प्रदेश के मुखिया सीएम योगी आदित्यनाथ का सख्त संदेश रहा है. जिसमें उन्होंने कहा है कि अपराधियों को उनकी ही भाषा में जवाब देना है.

शहर में अपराध पर नकेल को लेकर स्थानीय निवासी विनोद दुबे ने कहा कि मौजूदा समय में आम लोगों और व्यापारियों के लिए गोरखपुर काफी सुरक्षित जोन हो गया है. गोरखपुर का जनमानस इस समय काफी राहत की सांस ले रहा है. जो भी संगठित माफिया थे वे आज जेल में हैं.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर