लाइव टीवी
Elec-widget

गोरखपुर में डेंगू का कहर, मरीजों का आंकड़ा पहुंचा 135 पार

News18 Uttar Pradesh
Updated: November 12, 2019, 3:14 PM IST
गोरखपुर में डेंगू का कहर, मरीजों का आंकड़ा पहुंचा 135 पार
गोरखपुर में डेंगू का कहर

कागजों में पंचायती राज विभाग जमकर फॉगिंग करा रहा है, जबकि नगर निगम इलाके में सबसे अधिक डेंगू के मरीज सामने आये हैं. यहां पर बिलन्दपुर के लोगों का कहना है कि नगर निगम के अधिकारी कागजों में ही फागिंग करा रहे हैं.

  • Share this:
गोरखपुर. गोरखपुर (Gorakhpur) में एक बार डेंगू (Dengu) ने अपने पांव तेजी से पसारे हैं, पिछले एक सप्ताह में गोरखपुर जिले में 59 मरीजों में डेंगू की पुष्टि हुई है. जहां लगातार डेंगू के नए मरीज सामने आ रहे हैं. स्वास्थ्य विभाग के दावे के बाद भी लगातार मरीजों के सामने आने से यही लगता है कि वो दावा सिर्फ कागजी बनकर रह गया है. गोरखपुर के अलीनगर और शेखपुर में सबसे अधिक डेंगू के मरीज सामने आये हैं, जिला अस्पताल में अभी तक 350 के करीब जांच हुई है, इसमें से 135 मरीजों में डेंगू की पुष्टि हुई है, इनमें अधिकतर मरीज कुशीनगर, देवरिया, महराजगंज और बिहार के सिवान के हैं.

400 से अधिक मरीज पॉजिटिव

उधर, बीआरडी मेडिकल कॉलेज की बात करें तो यहां पर रैपिड कार्ड में 400 से अधिक मरीज पॉजिटिव मिले हैं, जिसके बारे में सीएमओ एस के तिवारी का कहना है कि रैपिड कार्ड से जांच में जो मरीज सामने आ रहे हैं, उन्हे वास्तव में डेंगू नहीं हो रहा है. कार्ड की जांच के बाद लैब में जांच हो रही है उसी से डेंगू की पुष्टि हो रही है. कार्ड से जितने डेंगू के मरीज सामने आ रहे है जब उनकी जांच लैब में हो रही है तो संख्या दस प्रतिशत से भी कम सामने आ रही है.

भगवान भरोसे हैं सफाई व्यवस्था 

मेडिकल कालेज में कार्ड से पिछले 15 दिन में ही 40 मरीजों में डेगू की पुष्टि हुई है, अगर इस साल की बात करें तो इसकी संख्या 300 के करीब है. सीएमओ का कहना है कि अब डेंगू के मामले अपने घटाव पर हैं, पिछले दिनों हवा में नमी बनी रही जिसके कारण डेंगू की बीमारी सामने आयी, आने वाले सप्ताह में अब डेंगू के मरीज सामने नहीं आयेंगे. वहीं जिला अस्पताल में इलाज करा रहे चंद्रकेश का कहना है कि वो तारामंडल में रहते हैं, और वहीं की सफाई व्यवस्था भगवान भरोसे हैं, फांगिग कभी होती ही नहीं है.

कागजों में पंचायती राज विभाग जमकर फॉगिंग करा रहा है, जबकि नगर निगम इलाके में सबसे अधिक डेंगू के मरीज सामने आये हैं. यहां पर बिलन्दपुर के लोगों का कहना है कि नगर निगम के अधिकारी कागजों में ही फागिंग करा रहे हैं, जबकि जमीन पर छह महीने में एक बार भी फागिंग हो जाए तो ये बड़ी बात है.

डेंगू से कैसे बचे
Loading...

डेंगू बुखार एडिज एजिप्टाइज मच्छर के काटने से होता है. यह मच्छर साफ पानी में ही अंडे देते हैं, यह मच्छर दिन में ही काटता है. कूलर गमले, औवरहेट टैंक, टायर के रुके पानी में इनके लार्वा अधिक मिलते हैं. डॉक्टरों का कहना है कि लोगों को डेंगू के बचाव के लिए दिन में भी पूरी बांह की पैंट शर्ट पहननी चाहिए. घरों में मच्छरों से बचाव के लिए मच्छरदानी का प्रयोग करना चाहिए, बुखार होने पर दवा के प्रयोग में सतर्कता बरतनी चाहिए और डॉक्टरों से तुरंत संपर्क करना चाहिए. अगर घर में किसी भी व्यक्ति को डेंगू हो गया हो तो उसे बिना मच्छरदानी के न रहे दें.

ये भी पढ़ें:

27 वर्षों से साइकिल पर घूम-घूमकर लगाते हैं पाठशाला...

रायबरेली: छात्रों ने बाल कल्याण अधिकारी को पीटा, CCTV में कैद हुई वारदात

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गोरखपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 12, 2019, 3:12 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com