लाइव टीवी

CM योगी के शहर में गाय के गोबर से बने गणेश और श्रीराम, गांधी जी दे रहे हैं स्वस्छता का संदेश
Gorakhpur News in Hindi

Ram Gopal Dwivedi | News18 Uttar Pradesh
Updated: January 14, 2020, 11:12 AM IST
CM योगी के शहर में गाय के गोबर से बने गणेश और श्रीराम, गांधी जी दे रहे हैं स्वस्छता का संदेश
CM योगी के शहर गोरखपुर में गाय के गोबर से बने गणेश और श्रीराम

दुकानदार विनय श्रीवास्तव ने बताया कि इन आकृतियों को बनाने के लिए देसी गाय के गोबर का इस्तेमाल होता है. गोबर के पेस्ट को सांचों में ढालकर आकृति बनती है. फिर इस पर पेंट लगाकर सुंदरता बढ़ाई जाती है. देसी गाय के गोबर की खासियत है कि वह विभिन्न प्रकार के रेडिएशन कम करता है.

  • Share this:
गोरखपुर. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Chief Minister Yogi Adityanath) के जनपद गोरखपुर (Gorakhpur) में आयोजित गोरखपुर महोत्सव (Gorakhpur Mahotsava) में गोबर से कमल खिला हुआ है, तो महात्मा गांधी स्वच्छता संदेश दे रहे हैं. गोबर के गणेश जी मौजूद है तो भगवान राम के साथ स्वास्तिक भी है, ये कला कृतियां देशी गायों के महत्व को तो बता ही रही है, साथ ही किसानों की आमदनी को बढ़ाने में भी सहायक साबित हो रही है.

गोरखपुर महोत्सव में लगे स्टालों में एक स्टाल नागपुर के गौ विज्ञान अनुसंधान देवलापार का लगा हुआ है. इस स्टाल पर पहुंचते ही बरबस लोग रूक जाते हैं, क्योंकि यहां पर मौजूद हैं भगवान गणेश, भगवान श्रीराम, माता सीता सहित कई देवी देवताओं की आकृति है. साथ ही ॐ और कमल का फूल भी आकर्षण का केंद्र बना हुआ है. ये सभी देशी गाय के गोबर की बनी हुई है. इस स्टाल पर गोबर से बनी तस्वीर स्वछता का संदेश भी दे रही है.

गौ विज्ञान अनुसंधान देवलापार नागपुर के कलाकारों ने गोबर को ही कलाकृति का रूप दिया है. दुकानदार विनय श्रीवास्तव ने बताया कि इन आकृतियों को बनाने के लिए देसी गाय के गोबर का इस्तेमाल होता है. गोबर के पेस्ट को सांचों में ढालकर आकृति बनती है. फिर इस पर पेंट लगाकर सुंदरता बढ़ाई जाती है. देसी गाय के गोबर की खासियत है कि वह विभिन्न प्रकार के रेडिएशन कम करता है. इसके प्रयोग से कैंसर जैसी घातक बीमारी के कीटाणु भी मर जाते हैं. इसलिए हर शुभ कार्य में गाय के गौरी-गणेश भी बनाए जाते हैं

विनय कहते हैं कि मोबाइल के रेडिएशन का इफेक्ट हो या कैंसर पीड़ितों के उपचार का मामला, देसी गाय का गोबर हर मामले में लाभकारी है. गोरखपुर महोत्सव में 150 रुपए में गणेश की मूर्ति, सवास्तिक 400 रुपए, श्रीराम 2100, कमल का फूल 2500, मोबाइल स्टैंड 300, गणपति दरबार 500, पेन स्टैंड 250 रुपए में मिल रहा है. चाबी रिंग सहित कई वस्तुएं उपलब्ध हैं.

देशी गाय के गोबर को इनकी संस्था 10 रुपये किलो किसानों से खरीदती है साथ ही किसानों को गाय से कलाकृतियां बनाने की ट्रेनिंग भी दी जाती है, जिससे किसान खुद आत्मनिर्भर हो सके, नागपुर में 400 से अधिक किसानों को इसकी ट्रेनिंग दी जा चुकी है, किसानों को देशी गाय पालने के लिए प्रोत्साहित भी किया जाता है.

ये भी पढ़ें:

कमिश्नर सिस्टम पर बोले केशव मौर्य, लखनऊ और नोएडा के साथ अन्य शहरों में भी सफल होगी सेवा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गोरखपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 14, 2020, 11:12 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर