गोरखपुर केस: पांच बहनों का इकलौता भाई था बलराम, बहनों ने कहा- सजा नहीं दे सकते तो हत्यारों को उनके हवाले कर दे सरकार
Gorakhpur News in Hindi

गोरखपुर केस: पांच बहनों का इकलौता भाई था बलराम, बहनों ने कहा- सजा नहीं दे सकते तो हत्यारों को उनके हवाले कर दे सरकार
गोरखपुर में फिरौती के लिए अपहरण और हत्या के शिकार हुए किशोर की बहनों का रो-रो कर बुरा हाल है

मृतक के पिता का कहना है कि सरकार ने जो पांच लाख रुपये दिये है उसकी हमें जरूरत नहीं है, पैसों से मेरा बच्चा वापस नहीं मिलेगा लेकिन दोषियों और साजिशकर्ताओं को फांसी की सजा दी जाए.

  • Share this:
गोरखपुर. सीएम सिटी गोरखपुर (CM City Gorakhpur) में फिरौती के लिए किशोर के अपहरण और निर्मम हत्या (Kidnapping and Murder) के बाद एक तरफ लोगों का गुस्सा उबाल पर है, विपक्षी दल योगी सरकार (Yogi Government) पर पिछले कुछ समय से सिलसिलेवार वारदातों को लेकर लगातार हमलावर है. वहीं मारे गए किशोर की बहनों व मां-बाप का रो-रो कर बुरा हाल है. रक्षा बंधन का त्योहार (Festival of Raksha Bandhan) आने वाला है बहनों ने भाई के लिए नए कपड़े और राखी खरीदी थी. बहनों व मां की हालत देख कर कठोर दिल वाले का भी कलेजा पसीज जाएगा. बावजूद इसके आज वारदात के 36 घंटे बाद जिलाधिकारी व एसपी ने पीड़ित परिवार से मुलाक़ात की रस्म अदायगी की.

रक्षा बंधन की तैयारियां कर रही थीं बहनें
बता दें कि पिपराइच थाना क्षेत्र के जंगल छत्रधारी के रहने वाले 14 साल के किशोर बलराम का अपहरण कर हत्या कर दी गयी. पांच बहनों में इकलौते भाई की हत्या पर बहनों का रो-रोकर बुरा हाल है. बहने बार-बार कह रही हैं कि रक्षा बंधन का त्योहार आने वाला है हम लोगों ने भाई के लिए नया कपड़ा खरीदा था. उसके लिए ऊं लिखा ब्रेसलेट भी लाये थे. भाई ने कहा था कि रक्षाबंधन पर पहनाना. इन बहनों की सरकार से मांग है कि हत्यारों को जल्द से जल्द फांसी की सजा दी जाए. उन्होंने कहा अगर सरकार उन्हे फांसी पर न लटका पाये तो उनके हवाले कर दे वो उन्हें उनके किए की सजा दे देंगी. मृतक के पिता का कहना है कि सरकार ने जो पांच लाख रुपये दिये है उसकी हमें जरूरत नहीं है, पैसों से मेरा बच्चा वापस नहीं मिलेगा लेकिन दोषियों और साजिशकर्ताओं को फांसी की सजा दी जाए. पीड़ित परिवार का कहना है कि अगर पुलिस ने समय से कार्रवाई की होती तो उनका बच्चा आज जिंदा होता.

ये भी पढ़ें- गोरखपुर कांड के बाद योगी सरकार पर हमलावर हुआ विपक्ष, अखिलेश यादव ने कहा 'No More BJP'



ये भी पढ़ें- UP में हर दिन गुंडाराज का रिकॉर्ड बन रहा, क्या प्रदेश के मुखिया ने खबरें देखना बंद कर दिया है: प्रियंका गांधी

वहीं जिला मुख्यालय से मात्र 20 किमी दूर स्थित पीड़ित के घर तक डीएम और एसएसपी 36 घंटे के बाद पहुंचे, मंगलवार दोपहर में डीएम और एसएसपी ने पीड़ित परिजनों से मुलाकात की और स्थानीय विधायक की मौजूदगी में पांच लाख रुपये का चेक सौंपा. बता दें कि इस मामले पर सीएम योगी ने अपराधियों पर रासुका के तहत कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं. जब एसएसपी से News 18 संवाददाता ने मामले के बारे में और पुलिस की लापरवाही पर सवाल किए तो वो इस मामले के खुलासे पर अपनी पीठ थपथपाते नजर आये. उनका कहना था कि पुलिस ने रिकार्ड समय में आरोपियों को गिरफ्तार करके मामले का खुलासा किया. जब उनसे लापरवाह पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा एक दारोगा और दो सिपाहियों को सस्पेंड किया गया है. जांच की जा रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading