Gorakhpur News: CM योगी ने रंगकर्मियों को दी बड़ी सौगात, अत्याधुनिक प्रेक्षागृह का किया लोकार्पण

साथ ही मुख्यमंत्री ने कहा कि जुलाई में खाद कारखाने का लोकार्पण हो जायेगा.

साथ ही मुख्यमंत्री ने कहा कि जुलाई में खाद कारखाने का लोकार्पण हो जायेगा.

सीएम योगी (CM Yogi) ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री वीर बहादुर सिंह ने गोरखपुर में 1985 में प्रेक्षागृह का शिलान्यास किया था. लेकिन सरकारों की नकारात्मक सोच के चलते प्रेक्षागृह खंडहर हो गया.

  • Share this:
गोरखपुर. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Chief Minister Yogi Adityanath) ने रविवार को गोरखपुर (Gorakhpur)  के साथ- साथ पूर्वांचल के लोगों को बड़ी सौगात दी है. रामगढ़ताल के किनारे बने प्रेक्षागृह का लोकार्पण किया. 52 करोड़ की लागत से बना ये प्रेक्षागृह अतिअधुनिक है. इस मौके पर सीएम योगी ने कहा कि पूर्ववर्ती सरकारों की नकारात्मक सोच के कारण प्रेक्षागृह (Auditorium) के लिए गोरखपुरवासियों को 4 दशकों का इंतजार करना पड़ा. सीएम ने कहा कि सांस्कृतिक कार्यक्रमों के लिए मंच को लेकर पिछले चार दशक से संघर्ष कलाकारों द्वारा किया जा रहा था. बतौर सांसद 1998 से 2017 तक इसकी मांग मुझसे भी होती रही और मैंने इसका मुद्दा संसद में भी उठाया. आज इसका लोकार्पण कर मुझे आपार खुशी हो रही है.

सीएम योगी ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री वीर बहादुर सिंह ने गोरखपुर में 1985 में प्रेक्षागृह का शिलान्यास किया था. लेकिन सरकारों की नकारात्मक सोच के चलते प्रेक्षागृह खंडहर हो गया. बल्कि उस जमीन पर कब्जे की कोशिश भी हुई. हमने उससे अच्छी जगह पर प्रेक्षागृह बनवाया है. रामगढ़झील क्षेत्र में अच्छी पार्किंग है. सीएम योगी ने कहा कि प्रेक्षागृह के रखरखाव और संचालन के लिए गोरखपुर विकास प्राधिकरण और संस्कृति विभाग को अतिरिक्त फंड का इंतजाम करना होगा. जिससे इसके संचालन और रखरखाव में किसी प्रकार की दिक्कत न हो. साथ ही सीएम योगी ने ऐलान किया कि अगले हफ्ते गोरखपुर के चीड़ियाघर का भी लोकार्पण कर दिया जायेगा.

अड्डा हुआ करता था पर अब तस्वीर बदल गयी है

साथ ही मुख्यमंत्री ने कहा कि जुलाई में खाद कारखाने का लोकार्पण हो जायेगा. जिसके बाद यहां के लोगों को रोजगार मिलेगा ही साथ किसानों को भी सहूलियत होगी. सरकार में आने से पहले बीआरडी मेडिकल कॉलेज जर्जर हो चुका था. मेडिकल कॉलेज में सुविधाएं तो बढ़ाई ही गईं साथ ही इंसेफेलाइटिस का समाधान भी कर दिया गया. इंसेफेलाइटिस हमारे लिए राजनीतिक मुद्दा नहीं जीवन मरण का मुद्दा था. पीएम मोदी की सोच से गोरखपुर में एम्स भी बन कर तैयार है. एम्स गोरखपुर की विकास और सकारात्मक सोच का प्रतीक है. अच्छे इलाज का केन्द्र बिंदु है. रामगढ़ताल इलाका पहले अपराधियों का अड्डा हुआ करता था पर अब तस्वीर बदल गयी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज