Gorakhpur News: गोरखपुर में टीचर का वीडियो वायरल, कहा- बच्चों के भविष्य से न हो खिलवाड़

जैसे ही ये वीडियो सोशल मीडिया (Social Media) पर वायरल हुआ प्रशासन में हड़कंप मच गया.

जैसे ही ये वीडियो सोशल मीडिया (Social Media) पर वायरल हुआ प्रशासन में हड़कंप मच गया.

टीचर (Teacher) कहता है कि पिछले साल भी यही हुआ था कि एक सप्ताह के लिए बंद किया गया था. लेकिन इसके बाद पूरे एक साल तक विद्यालय बंद कर दिया गया.

  • Share this:
गोरखपुर. उत्तर प्रदेश के गोरखपुर (Gorakhpur) में इन दिनों एक वीडियो वायरल (Viral) हो रहा है, जिसमें एक शिक्षक छात्रों से कह रहा है कि आज 23 मार्च है और भारत सरकार के तुगलगी फरमान फिर जारी हुआ है. ऐसे में आप सब बच्चों का स्कूल फिर बंद किया जा रहा है, क्योंकि कोरोना बढ़ रहा है. विद्यालय आज से 31 मार्च तक बंद रहेगा. टीचर (Teacher) कहता है कि पिछले साल भी यही हुआ था कि एक सप्ताह के लिए बंद किया गया था. लेकिन इसके बाद पूरे एक साल तक विद्यालय बंद कर दिया गया. इससे आपकी पढ़ाई का ज्यादा नुकसान हुआ. साथ ही टीचर सरकार से अपील कर रहा है कि वो लोग इस बार विद्यालय को बंद न करें नहीं तो मजबूरन उसे स्कूल के स्टाप और बच्चों को साथ धरना देना पड़ेगा.

स्कूल की मान्यता रद्द की जा रही है

जैसे ही ये वीडियो सोशल मीडिया (Social Media) पर वायरल हुआ प्रशासन में हड़कंप मच गया. इसके बाद बीएसए ने एक जांच कमेटी उस स्कूल पर भेज दिया, जहां का ये वीडियो है. ये वीडियो डॉ. भीमराव अम्बेडकर पूर्व माध्यमिक विद्यालय कोटियामान सिंह, बांसगांव गोरखपुर का है. और वीडियो में बोलने वाले व्यक्ति का नाम दीपक कन्नौजिया है. जब न्यूज 18 की टीम ने दीपक से संपर्क करने की कोशिश की तो उनका फोन स्वीच ऑफ आ रहा था. इस मामले में बीएसए का कहना है कि स्कूल की मान्यता रद्द की जा रही है. साथ ही उनपर जो भी विधिक कार्रवाई (Legal Action) होगी वो की जायेगी.

प्राइवेट स्कूलों में काम करने वाले स्टाप का क्या होगा
दरअसल, अध्यापक इस बात को लेकर चिंतित हैं कि कहीं एक बार फिर से स्कूल को कोरोना के कारण बंद कर दिया जायेगा तो बच्चों की पढ़ाई के साथ- साथ प्राइवेट स्कूलों में काम करने वाले स्टाप का क्या होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज