गोरखपुर: सादे कागज़ पर लिखा तलाक, फिर पति के सामने ही थाने में प्रेमी संग लिए सात फेरे

सरिता ने पति को तलाक देकर प्रेमी संग रचाई शादी

Gorakhpur News: सरिता का कहना है कि शादी से पहले ही उसका प्रेम संबंध गगहा थाना क्षेत्र के करवल मंझगावां निवासी छोटेलाल के पुत्र रंजीत से चल रहा था. प्रेम संबंध की जानकारी दोनों परिवारों को थी. शादी की बात भी चली पर किन्हीं कारणों से विवाह न हो सका.

  • Share this:
गोरखपुर. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के गोरखपुर (Gorakhpur) जनपद में एक शादीशुदा युवती द्वारा अपने पति को सादे कागज पर तलाक (Divorce) देने के बाद मंदिर में प्रेमी संग विवाह करने का दिलचस्प मामला सामने आया है. हैरानी की बात यह है कि पुलिस (Police) के पास युवती के ससुराल और मायके पक्ष के लोग मामले के निस्तारण को लेकर पहुंचे थे, लेकिन वहां युवती ने अपने पति को तलाक देकर थाना परिसर में स्थित मंदिर में शादी रचा ली.

दरअसल शादी के पहले से ही युवती का प्रेम संबंध चल रहा था. बावजूद इसके दोनों की शादी नहीं हो पायी थी. हालांकि शादी के बाद भी युवती अपने प्रेमी के संपर्क मे थी. इस बात की जानकारी पति को होने से दोनों में अनबन के बाद से युवती मायके आकर रहने लगी थी. मामला जिले के बड़हलगंज कोतवाली का है, जहां एक अजीब नजारा देखने को मिला। दरअसल परिवार और गांव के कुछ लोगों की उपस्थिति में एक युवती ने सादे कागज पर समझौता लिख अपने पति को तलाक दे दिया. इसके तुरंत बाद थाना परिसर मे बने मंदिर में भगवान को साक्षी मानकर उसने प्रेमी से विवाह कर लिया. यह घटना क्षेत्र में चर्चा का विषय बनी हुई है.

शादी से पहले ही चल रहा था प्रेम प्रसंग
गौरतलब है कि थाना क्षेत्र के गांव नरहरपुर निवासी परमहंस की बेटी सरिता का विवाह दो वर्ष पूर्व इसी थाना क्षेत्र के गांव पिड़हनी निवासी श्रीकांत के पुत्र राम भुआल से हुआ था. सरिता का कहना है कि शादी से पहले ही उसका प्रेम संबंध गगहा थाना क्षेत्र के करवल मंझगावां निवासी छोटेलाल के पुत्र रंजीत से चल रहा था. प्रेम संबंध की जानकारी दोनों परिवारों को थी. शादी की बात भी चली पर किन्हीं कारणों से विवाह न हो सका. फिर सरिता का विवाह उसके परिवार वालों ने राम भुआल के साथ कर दिया. सरिता विवाह के बाद ससुराल तो गयी पर प्रेमी से संपर्क न तोड़ सकी. दोनों आपस में मिलते रहे. इस बात की जानकारी परिवार को हुई तो कलह बढ़ने लगा. ऐसे में सरिता मायके चली आयी और पति के साथ न जाकर प्रेमी के साथ घर बसाने का निश्चय किया.

समझौते के बाद हुआ विवाह
प्रेमी भी सरिता को अपने घर ले जाने को तैयार था. विदाई को लेकर मामला थाने पहुंचा जहां तीनों परिवारों के लोग पहुंचे। सरिता व उसका प्रेमी रंजीत भी थाने पहुंचा. काफी देर तक गहमा-गहमी व वार्तालाप के बाद तीनों पक्ष राजी हुए व एक सादे कागज पर समझौता पत्र लिखा गया. जिसके तहत सरिता व उसके पति रामभुआल में तलाक हुआ तो थाने के मंदिर में दोनों पक्ष के परिजनों व ग्रामीणों की उपस्थिति में सरिता व रंजीत का विवाह हुआ. अब रंजीत सरिता को उसके मायके से विदा करा अपने घर ले जाएगा. इस वाकये से जहां पति राम भुआल के चेहरे पर मायूसी थी, तो सरिता व रंजीत के चेहरे पर मिलन की खुशी दिखाई पड़ रही थी. थाने में हुई इस शादी की चर्चा नगर और आसपास के इलाके मे खूब हो रही है. वहीं इस मामले में बड़हलगंज थानेदार मनोज राय का कहना है कि दोनों पक्षों और स्थानीय लोगों की सहमति से मामले का समाधान कराया गया है.