फिर शर्मसार हुई यूपी पुलिस, थाने में घूस लेने का वीडियो वायरल

आरोपी सिपाही शिव सिंह यादव और रणविजय सिंह

अपने कारनामों से सुर्खियों में रहने वाली गोरखपुर पुलिस की एक बार फिर नई करतूत सामने आई है. दरअसल जिले की सहजनवां थाने में पुलिस ने मामला मैनेज करने को लेकर सीआरपीएफ जवान के भाई से एक लाख रूपये की वसूली की है.

  • Share this:
अपने कारनामों से सुर्खियों में रहने वाली गोरखपुर पुलिस की एक बार फिर नई करतूत सामने आई है. दरअसल जिले की सहजनवां थाने में पुलिस ने मामला मैनेज करने को लेकर सीआरपीएफ जवान के भाई से एक लाख रूपये की वसूली की है. इतना ही नहीं पैसा नहीं देने पर पीड़ित को फर्जी मामले में फंसाकर पुलिस ने जेल भेजने का खौफ भी दिखाया.

मामला सामने तब आया जब पीड़ित ने थाने परिसर में सिपाहियों के पैसा लेने का वीडिया बना लिया और उसे वायरल कर दिया. इतना ही नहीं वीडियो में युवक को सिपाहियों द्वारा पैसा नहीं दिये जाने पर डराया-धमकाया भी जा रहा है.

इस बीच ईटीवी/प्रदेश18 पर प्रमुखता से खबर दिखाये जाने के बाद प्रभारी एसएसपी हेमराज मीणा ने आरोपी दोनों सिपाहियों- शिव सिंह यादव और रणविजय सिंह -को लाइन हाजिर कर दिया है. साथ ही पूरे प्रकरण की विभागीय जांच कराये जाने की बात एसएसपी ने कही है.

लेकिन हैरानी की बात ये है कि इस पूरे प्रकरण में सहजनवां थानेदार ब्रजेश यादव को आलाधिकारियों ने क्लीन चिट दी है.

आपको बता दें कि पूरा मामला जिले के सहजनवां थाना का है. जहां पिछले माह पुलिस ने बाइक चोरी के मामले में कस्बे के महेश को पूछताछ के लिए थाने पर लायी थी. जिसके बाद पुलिस ने महेश को फर्जी मामले में जेल भेजे जाने का खौफ दिखाकर एक लाख रूपये ऐेंठ लिया. लेकिन महेश ने चालाकी दिखाते हुए सिपाहियों को पैसा देने की वीडियो रिकार्डिंग कर ली. फ़िलहाल पीड़ित का भाई जो कि सीआरपीएफ में तैनात है, उसने इस पूरे मामले में अधिकारियों से न्याय की गुहार लगायी है.

फिलहाल वर्दी पर लगे दाग को धोने को लेकर एसएसपी ने सिपाहियों को लाइन हाजिर कर दिया है, लेकिन इस प्रकरण में दोषी थानेदार ब्रजेश यादव पर किसी तरह की कार्रवाई नहीं करना पुलिस महकमे में व्यापत भ्रष्टाचार को बयां करता है.