अक्षय तृतीया पर गोरखपुर में सैकड़ों शादियां कैंसिल, करीब 100 करोड़ का कारोबार प्रभावित

कोरोना के चलते अक्षय तृतीया पर इस बार गोरखपुर में सैंकड़ों शादियों का आायेजन कैंसिल कर दिया गया है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Gorakhpur News: गोरखपुर मैरेज हाल एसोसिएशन के लोगों का कहना है कि कोरोना का खौफ इस बार काफी अधिक है. ऐसे में न तो परिवार वाले शादी करने को तैयार हो रहे हैं, न ही शादियों में काम करने वाले कारीगर मिल रहे हैं.

  • Share this:
गोरखपुर. दो साल पहले कोविड-19 (COVID-19) का जब संकट नहीं आया था तब 2019 तक अक्षय तृतीया (Akshay Tritiya) का इंतजार सभी को रहता था. बाजार गुलजार रहते थे. सर्राफा दुकानों में भीड़ रहती थी और इसी इस दिन हजारों शादियां (Marriage) हो जाया करती थीं. लेकिर अब हर तरफ सन्नाटा है, बेबसी है. गोरखपुर में इस बार अक्षय तृतीया के दिन करीब 1500 शादियां होनी थीं, जिसमें से अधिकतर की  या तो डेट बढ़ा दी गयी, उनका आयोजन कैंसिल कर दिया गया या फिर बहुत ही सादगी से कोविड प्रोटोकाल का पालन करते हुए शादी हुई.

गोरखपुर शहर में ही अक्षय तृतीया पर 500 शादियां होनी थी. जिसके लिए शहर के सभी मैरेज हाल, और होटल पहले से ही बुक थे, पर जैसे ही कोरोना का संक्रमण बढ़ा वैसे ही लोग शादियों को टालने लगे. लॉकडाउन लगने के बाद करीब 90 फीसदी बुकिंग कैंसिल कर दी गयी. शहर में जो शादियां हो भी रही हैं, वो सभी सादगी से हुईं.

गोरखपुर मैरेज हाल एसोसिएशन के लोगों का कहना है कि कोरोना का खौफ इस बार काफी अधिक है. ऐसे में न तो परिवार वाले शादी करने को तैयार हो रहे हैं, न ही शादियों में काम करने वाले कारीगर मिल रहे हैं. वेडिंग प्लानर का कहना है कि सिर्फ अक्षय तृतीया के दिन ही शादी नहीं होने से करीब 15 करोड़ रुपये का कारोबार फंस गया. वर और वधू पक्ष के लोग कम से कम 20 लाख रुपये खर्च करते. यह रकम किसी न किसी रूप से मार्केट में आती. बैंड़ बाजा, हलवाई, फूल, पार्लर, कपड़ा, आभूषण से लेकर अन्य सामानों पर ये रकम खर्च होती. वहीं फर्नीचर के आर्डर बड़ी संख्या में कैंसिल हो गये, जिससे इनका लाखों का आर्डर फंस गया.

सर्राफा कारोबारियों को धनतेरस के बाद अक्षय तृतीया का इंतजार रहता है. शादियों के टलने से इनका कारोबार प्रभावित तो है ही साथ ही अक्षय तृतीया के दिन भी मार्केट बंद रहने से करीब 25 करोड़ रुपये कारोबार प्रभावित हुआ. सर्राफा एसोसिएशन के लोगों का कहना है कि इस बार तो पूरा कारोबार तबाह हो गया.