• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • Flood in UP: इतिहास के पन्नों में दर्ज हुआ गोरखपुर का जगदीशपुर गांव, राप्ती नदी में हुआ विलीन

Flood in UP: इतिहास के पन्नों में दर्ज हुआ गोरखपुर का जगदीशपुर गांव, राप्ती नदी में हुआ विलीन

Flood in UP: इतिहास के पन्नों में दर्ज हुआ गोरखपुर का जगदीशपुर गांव

Flood in UP: इतिहास के पन्नों में दर्ज हुआ गोरखपुर का जगदीशपुर गांव

Gorakhpur News: हालांकि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने पहले ही गांववालों को कई अन्य जगह बसाने के निर्देश दे दिये थे. साथ ही शासन ने इसके लिए पैसा भी जारी कर दिया गया था.

  • Share this:

गोरखपुर. उत्तर प्रदेश की कई नदियां पानी का जलस्तर (Water Level) बढ़ने से खतरे के निशान से काफी ऊपर बह रही हैं. इसी कड़ी में गोरखपुर (Gorakhpur) में राप्ती नदी (River Rapti) ने ऐसा कहर बरपाया कि जगदीशपुर गांव का अस्तित्व मिट गया. तकरीबन डेढ़ दशक से इस गांव पर कहर बरपा रही राप्ती नदी ने पिछले एक माह के भीतर शेष बचे 35 घरों को भी अपनी धारा मे समेट लिया. इसी साल एक गांव अब इतिहास बन गया. बड़हलगंज का जगदीशपुर गांव में दस साल पहले रौनक हुआ करती थी, लोग अपने घरों में रहते थे पर आज उस गांव का आस्तित्व ही खत्म हो गया है.

बता दें कि 2011 की जनगणना में गांव की जनसंख्या 653 थी और गांव में 119 घर से थे, पर आज पूरा का पूरा गांव राप्ती नदी के कटान में समा गया. अब गांव के लोग खानाबदोश बनकर रह गये हैं. जिनके सिर पर पक्की छत हुआ करती थी वो आज अपने परिवार वालों के साथ खुले आसमान के नीचे रहने को मजबूर हैं. राप्ती नदीं पिछले 10 सालों से गांव में कटान कर रही थी. धीरे- धीरे करके एक एक घर राप्ती में समा रहे थे. पर इस साल आयी बाढ़ के कारण पिछले पांच दिनों में ही कई घर राप्ती में समा गये. जिसके बाद ये गांव अब इतिहास के पन्नों में दर्ज हो गया.

यह भी पढ़ें- Ganesha Chaturthi: आगरा में PM मोदी के कंधे पर विराजमान हुए भगवान गणेश, मूर्ति बनी आकर्षण का केंद्र

2007 में राप्ती नदी ने अपना रूख आबादी की तरफ किया था. जिसके बाद सबसे पहले खेती योग्य जमीन नदी में समाती चली गयी. 2013 नें जब नदी की कटान तेज हुई तो हाहाकार मच गया. एक दर्जन से अधिक मकान राप्ती में समा गये. उसके बाद 2014 में भी दो दर्जन से अधिक घर राप्ती के कटान में समा गये. फिर 2017 में भी राप्ती नदी में दो दर्जन गांव राप्ती नदी में विलीन हो गए. हालांकि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पहले ही गांववालों को कई अन्य जगह बसाने के निर्देश दे दिये थे. साथ ही शासन ने इसके लिए पैसा भी जारी कर दिया गया था. 54 लाख रुपया आ गया है और अब जमीन खरीद की प्रक्रिया भी तेजी से चल रही है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज