• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • GORAKHPUR MANY COLONIES OF GORAKHPUR SUBMERGED AFTER HEAVY RAINFALL COROPORATER STARTED JAL SATYAGRAHA UPAS

गोरखपुरः दो दिन की बारिश ने खोली नगर निगम की पोल, कई कॉलोनियां जलमग्न, पार्षद जल सत्याग्रह पर बैठे

गोरखपुर में जलभराव से तंग आगर पार्षद करने लगे जल सत्याग्रह

Gorakhpur News: गोरखपुर में दो दिन की बारिश के बाद कई जगह जलभराव की समस्या खड़ी हो गई है. स्थानीय पार्षद विश्वजीत त्रिपाठी गुरुवार को जलभराव की समस्या से तंग आकर अपने साथियों के साथ इसी नाले के गंदे पानी में जल सत्याग्रह करने बैठ गए.

  • Share this:
गोरखपुर. उत्तर प्रदेश के गोरखपुर (Gorakhpur) में पिछले 2 दिनों से हो रही बरसात की वजह से शहर के तमाम इलाके जलमग्न हो गए. बेतियाहाता दक्षिणी सहित शहर की कई कॉलोनियों में सड़क पर पानी भर गया. बेतियाहाता दक्षिणी में नाले का पानी बारिश से उफनकर सड़कों पर घुटनों तक बहने लगा. यहां जलभराव की वजह से सैकड़ों लोग 2 दिनों से अपने घरों में ही कैद होकर रहने को मजबूर हो गए हैं. नगर निगम की लापरवाही की वजह से हुए इस जलभराव की समस्या से तंग आकर स्थानीय पार्षद नाले के गंदे पानी में ही अपने साथियों के साथ जल सत्याग्रह करने बैठ गए.

बता दें कि इस इलाके में सड़क ऊंची कराने और नाले की सफाई को लेकर स्थानीय पार्षद विश्वजीत त्रिपाठी ने नगर निगम के अधिकारियों और मेयर से कई बार लिखित शिकायत की, लेकिन कोई काम नहीं हो पाया. इस वजह से पार्षद को सत्याग्रह पर बैठना पड़ा.



अभी जलभराव का ये हाल, तो बारिश में क्या होगा
पार्षद का कहना है कि जनसुविधाओं को लेकर जवाबदेही उनके ऊपर है और वह जब यहां की समस्या को नगर निगम के अधिकारियों तक ले जाते हैं उनकी बात सुनने को तैयार ही नहीं होता है. स्थानीय लोग भी इस जलभराव की वजह से काफी परेशान हैं. लोगों का कहना है कि अभी बरसात के पहले की दो दिन की बारिश में यह स्थिति है तो पूरे बरसात के मौसम में उनको कितना कष्ट झेलना पड़ेगा, इसका सहज अंदाजा लगाया जा सकता है. वहीं पार्षद के पानी में धरने पर बैठने की सूचना के नगर के अधिकारी वहां पर पहुंचे और जल्द से जल्द कॉलोनी से पानी निकासी की व्यवस्था करने का आश्वासन दिया. साथ ही, बारिश बाद एक बार फिर से नालों की गहराई से सफाई कराने की बात कही.

24 घंटे में 100 मिमी पानी गिरा
मौसम वैज्ञानिक कैलाश पांडेय का कहना है कि पिछले 24 घंटे में 100 MM से अधिक बारिश हुई है. वहीं बारिश होने से शहरी जीवन जहां अस्त-व्यस्त हो गया वहीं दूसरी तरफ लोगों को गर्मी से भी राहत मिल गयी है. किसानों के लिए ये बारिश फायदेमंद साबित हो रही है.