सिद्धार्थनगर में राशन वितरण में धांधली, कार्डधारकों को भी नहीं मिल रहा राशन

सरकार ने गरीबी रेखा के नीचे रहने वालों के लिए कम दर पर राशन की व्यवस्था की है. हालांकि इसमें धांधली की वजह से राहत की बजाए कमजोर तबके की परेशानी बढ़ी है.

News18 Uttar Pradesh
Updated: August 31, 2018, 1:56 PM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: August 31, 2018, 1:56 PM IST
उत्तरप्रदेश के सिद्धार्थनगर में राशन कोटे में घपले का सिलसिला लंबे समय से चल रहा है. जरूरतमंदों को राशन नहीं मिल रहा तो मृत व्यक्तियों के नाम पर भी कोटेदार राशन उठा रहे हैं.

बांसी तहसील के मिठवल विकास खण्ड के कोटेदार राशन वितरण में आनाकानी कर रहे हैं. गौरतलब है कि सरकार ने गरीबी रेखा के नीचे रहने वालों के लिए कम दर पर राशन की व्यवस्था की है. इससे राहत की बजाए कमजोर तबके की परेशानी बढ़ रही है. खासकर सिद्धार्थनगर में कोटेदार काफी घपले कर रहे हैं. मिठवल ब्लाक के ग्राम छरहटा में ग्रामीणों ने कोटेदार पर दो वर्षो से तो कुछ ने तीन महीने से राशन कार्ड होने के बावजूद राशन वितरण न करने का आरोप लगाया है. ग्राम प्रधान ने आरोप लगाते हुए कहा कि उनके गांव में 254 राशन कार्ड है जिसमें 54 फर्जी नाम भी शामिल हैं ताकि राशन कमजोर तबके के अलावा भी बांटा जा सके. कई मृत लोगों के नाम भी राशन कार्ड से हटाए नहीं गए हैं तो उनके हिस्से आने वाला राशन कोटेदार की मार्फत कहीं और जा रहा है. इसकी शिकायत भी कई बार संबंधित अधिकारियों से की गई लेकिन कभी कोई कदम नहीं उठाया गया.

वहीं इस बारे में पूछने पर बांसी तहसील के उपजिलाधिकारी ने कोई भी जानकारी होने से इन्कार कर दिया. उपजिलाधिकारी प्रबुद्ध सिंह का कहना है कि उन्हें लिखित या मौखिक में भी कोई जानकारी नहीं दी गई. जानकारी मिलने पर संबंधित अधिकारियों के जरिए जांच होगी और अनावश्यक नाम सूची से हटाए जाएंगे. राशन कार्ड में गड़बड़ी की पुष्टि होने पर दोषियों के खिलाफ उचित कार्रवाई भी की जाएगी.

ये भी पढ़ें-

बॉलीवुड के शाहरुख-काजोल को टक्कर देती है भोजपुरी सिनेमा की ये जोड़ी

कोटेदारों ने यूपी में 3550 क्विंटल राशन डकारा, 12 कोटेदारों पर केस दर्ज
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर