लाइव टीवी

अयोध्या मामला: सुप्रीम कोर्ट के आने वाले फैसले को लेकर भगवान श्री राम की ससुराल में भी हाई अलर्ट

Ram Gopal Dwivedi | News18 Uttar Pradesh
Updated: November 8, 2019, 6:45 PM IST
अयोध्या मामला: सुप्रीम कोर्ट के आने वाले फैसले को लेकर भगवान श्री राम की ससुराल में भी हाई अलर्ट
नेपाल में है भगवान राम की ससुराल.

Supreme Court Ayodhya Verdict: अयोध्या विवाद (Ayodhya Dispute) पर सुप्रीम कोर्ट के आने वाले फैसले के कारण ना सिर्फ देश में हाई अलर्ट है, बल्कि पड़ोसी देश नेपाल (Nepal) ने भी अपने 13 जिलों में हाई अलर्ट (High Alert) घोषित कर दिया है.

  • Share this:
गोरखपुर. अयोध्या विवाद (Ayodhya Dispute) को लेकर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) से आने वाले फैसले के कारण ना सिर्फ पूरे देश में हाई अलर्ट है, बल्कि सभी मजहब के लोगों से शांति और धैर्य रखने की अपील की जा रही है. जबकि नेपाल (Nepal) ने एक बार फिर अपने अच्छे पड़ोसी होने का फर्ज निभाया है. पड़ोसी देश ने भी अपने 13 जिलों में हाई अलर्ट घोषित कर दिया है, जिसमें जनकपुर, रुपंदेही और कृष्णानगर को अतिसंवेदनशील माना गया है.

नेपाल में है भगवान राम की ससुराल
नेपाल के जनकपुर में भगवान राम की ससुराल है और नेपाल में लाखों राम भक्त रहते हैं, तभी तो भारत के साथ नेपाल का रोटी और बेटी का संबंध है. ये संबंध और मजबूत हों, इसके लिए कोई भी आवांछित तत्व गड़बड़ी न फैला पाए इसके लिए नेपाल पुलिस भी सक्रिय हो गयी है.

भारत और नेपाल के अधिकारियों में हुई बातचीत

भारत और नेपाल की खुली सीमा होने की वजह से देश विरोधी गतिविधियों में शामिल लोगों की आवाजाही होने की आशंका बनी रहती है. इसको देखते हुए भारतीय प्रशासनिक अधिकारियों ने भी नेपाली अधिकारियों के साथ बैठक कर साझा रणनीति तैयार की है. जबकि अयोध्या में आने वाले फैसले के दिन पूरे नेपाल सीमा पर चौकसी और कड़ी कर दी जाएगी. महराजगंज और सिद्धार्थनगर में बॉर्डर पर पुलिस के अधिकारी और नेपाल पुलिस के अधिकारी बात कर आपसी तालमेल को और बेहतर बना रहे हैं. अयोध्या और जनकपुर में एक तरह से समानता भी है. अयोध्या जहां भगवान राम का जन्मस्थान है तो वहीं जनकपुर माता सीता का जन्म स्थान. इस कारण जितनी सुरक्षा अयोध्या को चाहिए,उतनी ही सुरक्षा जनकपुर को भी. लिहाजा भारत के साथ-साथ नेपाल के सुरक्षाबल भी तैयार हैं, ताकि किसी भी हालत में आवंछित तत्व अपने इरादे में सफल ना हो सकें.

ये भी पढ़ें-

1528 में मस्जिद निर्माण से 2019 में कोर्ट की सुनवाई तक, अयोध्या जमीन विवाद की पूरी कहानी
Loading...

2022 के विधानसभा चुनाव में प्रियंका गांधी के दम पर विरोधियों को टक्‍कर देगी कांग्रेस, ये है वजह

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गोरखपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 8, 2019, 6:37 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...