Home /News /uttar-pradesh /

Maha Shivratri: सीएम योगी ने लोक कल्याण की कामना के साथ किया रूद्राभिषेक

Maha Shivratri: सीएम योगी ने लोक कल्याण की कामना के साथ किया रूद्राभिषेक

रुद्राभिषेक करते हुए सीएम योगी

रुद्राभिषेक करते हुए सीएम योगी

सीएम योगी (Yogi Adityanath)ने श्रद्धा एवं विधि-विधान के साथ महाशिवरात्रि (Maha Shivratri) पर्व पर भगवान शिव का महाभिषेक किया और सम्पूर्ण मानव जाति के कल्याण, उद्धार, समृद्धि एवं शांति के लिए प्रार्थना की.

गोरखपुर. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) शुक्रवार को महाशिवरात्रि (Maha Shivratri) के पर्व पर गोरखनाथ पीठ के महंत की भूमिका में नजर आए.  बता दें कि योगी आदित्यनाथ सूबे के मुखिया होने के साथ-साथ नाथ पीठ के सबसे बड़े महंत भी हैं, वो गोरक्षपीठाधीश्वर हैं. महाशिवरात्रि के मौके पर गोरक्षपीठ में मौजूद योगी आदित्नयाथ ने सुबह गायों को गुड़ खिलाया उसके बाद गोरखनाथ मंदिर (Gorakhnath Temple) स्थित अपने आवास के प्रथम तल पर दुर्गा मंदिर में भगवान शंकर का रूद्राभिषेक किया.

विधि-विधान से हुआ रुद्राभिषेक

सीएम योगी ने श्रद्धा एवं विधि-विधान के साथ महाशिवरात्रि पर्व पर भगवान शिव का महाभिषेक किया और सम्पूर्ण मानव जाति के कल्याण, उद्धार, समृद्धि एवं शांति के लिए प्रार्थना की. रुद्राभिषेक में योगी आदित्यनाथ ने 11 लीटर दूध, 5 लीटर गंगा जल, दही, घी, शर्करा, मधु से भगवान शंकर के मंत्रोच्चार के साथ अभिषेक किया. इसके बाद औषधियों-गन्ने के रस, कुशा के रस, दूब, गुरुच के रस से अभिषेक किया. इस अभिषेक में कुल 25 लीटर महाद्रव्य भगवान पर चढ़ाया गया. रुद्राभिषेक के दौरान मंदिर के पुरोहित के साथ-साथ गोरक्षनाथ मंदिर के प्रधान पुजारी कमलनाथ सहित अन्य योगी भी शामिल हुए.

पितेश्वरनाथ शिव मंदिर में जलाभिषेक कर पूजा अर्चना

सुबह गोरखनाथ पीठ में पूजन-अर्चन के बाद दोपहर में सीएम योगी ने पीपीगंज के भरोहिया गांव स्थित पितेश्वरनाथ शिव मंदिर में जलाभिषेक कर पूजा अर्चना की. यहां उन्होंने पाण्डव कालीन शिव मंदिर में भगवान शिव का जलाभिषेक कर पूजा-अर्चना की. बता दें कि गोरक्षपीठाधीश्वर के लिए महाशिवरात्रि का दिन बेहद अहम माना जाता है. भगवान शिव लोकमंगल और कल्याण के देवता हैं साथ ही वह विनाश के भी देवता माने जाते हैं. वह अतृप्त आत्माओं और पशु-पक्षियों के भी देवता हैं.

नाथपंथ की परम्परा में गुरु गोरखनाथ भगवान शिव के अवतार माने जाते हैं. नाथ संप्रदाय उन्हें अपना आदिनाथ स्वीकार करता है. इसलिए ही गोरखनाथ मंदिर लोक कल्याण और लोक मंगल की भावना से संचालित होता है. ऐसे में मंदिर के हर पीठाधीश्वर के लिए महाशिवरात्रि महत्वपूर्ण होती है.

ये भी पढ़ें- 

सोनभद्र की तरह ललितपुर में भी है सोने का भंडार, कनाडा की एजेंसी ने की है पुष्टि...

Tags: Gorakhnath, Gorakhnath mandir, Maha Shivaratri, Yogi adityanath

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर