Home /News /uttar-pradesh /

बड़ी खबर: महाराजगंज से 686 करोड़ की प्रतिबंधित नशीली दवाएं बरामद, हुए कई चौंकाने वाले खुलासे

बड़ी खबर: महाराजगंज से 686 करोड़ की प्रतिबंधित नशीली दवाएं बरामद, हुए कई चौंकाने वाले खुलासे

पुलिस और एसएसबी ने महाराजगंज से करोड़ों रुपये की ड्रग बरामद की है.

पुलिस और एसएसबी ने महाराजगंज से करोड़ों रुपये की ड्रग बरामद की है.

Maharajganj News: सशस्त्र सीमा बल (SSB) और महाराजगंज पुलिस ने 686 करोड़ रुपये की प्रतिबंधित नशीली दवाएं (Banned Drugs) बरामद की हैं, जोकि काफी बड़ी सफलता मानी जा रही है. यही नहीं, इस मामले में एक आरोपी को गिरफ्तार किया गया है, तो कुछ फरार हो गए हैं. पुलिस ने एनडीपीएस एक्ट, कॉपीराइट एक्ट और भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है.

अधिक पढ़ें ...

    महाराजगंज. उत्‍तर प्रदेश के महाराजगंज (Maharajganj) में भारत-नेपाल बॉर्डर (Indo-Nepal Border) के तूतीबाड़ी थाना क्षेत्र में बुधवार को जमुई कला गांव के एक गोदाम से सशस्त्र सीमा बल (SSB) और स्थानीय पुलिस की संयुक्त छापेमारी में करीब 686 करोड़ रुपये की प्रतिबंधित नशीली दवायें (Banned Drugs) बरामद की गई हैं. पुलिस सूत्रों के मुताबिक, कई वर्षों से नशीली दवाओं का धंधा चल रहा था. यही नहीं, पुलिस ने इस मामले में एक आरोपी को गिरफ्तार किया है, तो कुछ अन्‍य फरार हो गए हैं.

    इस बाबत जिलाधिकारी डॉ उज्जवल कुमार, पुलिस अधीक्षक प्रदीप गुप्ता और एसएसबी कमांडेंट मनोज कुमार ने एक संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस में दावा किया कि एसएसबी और स्थानीय पुलिस की संयुक्त टीम की छापेमारी के दौरान जिले में भारत-नेपाल बॉर्डर पर तूतीबाड़ी थाना क्षेत्र के जमुई कला गांव में रमेश कुमार गुप्ता के गोदाम से 686 करोड़ रुपये की प्रतिबंधित नशीली दवायें बरामद की गई हैं. उन्होंने बताया कि पुलिस ने 55 वर्षीय रमेश कुमार गुप्ता को गिरफ्तार कर लिया है. जबकि अन्य आरोपी गोविंद गुप्ता की तलाश की जा रही है.

    धंधेबाजों का ये था प्‍लान
    पुलिस के मुताबिक, प्रतिबंधित दवाओं को नेपाल भेजने के लिए गोदाम में रखा गया था. पुलिस ने एनडीपीएस एक्ट, कॉपीराइट एक्ट और भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है. जबकि पुलिस ने 104 इंजेक्शन, 18782 सिरप की बोतलें, 313384 कैप्सूल, 124897 टैबलेट और 134460 मुद्रित लेबल (पुराना लेबल निकाल कर अधिक मूल्य का लेबल चस्पा करने के लिये) बरामद किए हैं.

    ये भी पढ़ें- UP News: सीएम योगी की दो टूक, बोले- भगवान श्रीराम हमारे पूर्वज, जो नहीं मानते उनके DNA पर शक

    जिला अधिकारी ने कही ये बात
    महाराजगंज के जिला अधिकारी डॉ उज्जवल कुमार ने कहा कि जिले में अवैध ड्रग्स के व्यापार के खिलाफ यह एक बड़ी सफलता है और पूरी टीम ने सराहनीय काम किया है. जांच के दौरान पता चला कि गिरोह नेपाल में ड्रग्स भेजता था. पुलिस मामले की जांच कर रही है और दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. वहीं, पुलिस अधीक्षक प्रदीप गुप्ता ने कहा कि भारी मात्रा में नशीले पदार्थों की बरामदगी से पता चलता हैं कि कि भारत-नेपाल बॉर्डर पर कई वर्षों से नशीली दवाओं का धंधा चल रहा था. पुलिस के मुताबिक, वह सीधे कंपनी से सप्लाई मंगाते थे. इसके बाद स्थानीय मेडिकल स्टोरों सहित नेपाल भेजने का काम करते थे. जबकि बॉर्डर के तरफ के दोनों देशों के युवा इन नशीली इंजेक्शन की लत में हैं.

    Tags: Drugs case, Drugs mafia, Drugs Peddler, Drugs trade, Indo-Nepal Border, SSB, UP police

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर