केन्द्र ने माना योगी का सुझाव, दिमागी बुखार पर रिसर्च के लिए बनेगा केन्द्र

भाषा
Updated: August 13, 2017, 9:09 PM IST
केन्द्र ने माना योगी का सुझाव, दिमागी बुखार पर रिसर्च के लिए बनेगा केन्द्र
Baba Raghav Das Medical College Hospital (Photo : PTI)
भाषा
Updated: August 13, 2017, 9:09 PM IST
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा पुरजोर वकालत किए जाने के बाद केन्द्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने गोरखपुर में हर साल सैकड़ों बच्चों की मौत का सबब बनने वाले दिमागी बुखार पर गहन अनुसंधान के लिए एक ‘रीजनल वायरस रिसर्च सेंटर’ की स्थापना का ऐलान किया है.

केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री जे.पी. नड्डा ने रविवार को संवाददाताओं से बातचीत में इसकी घोषणा करते हुए बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मांग पर गोरखपुर में दिमागी बुखार रोग पर गहराई से रिसर्च के लिए एक रीजनल वायरस रिसर्च सेंटर (क्षेत्रीय वायरस अनुसंधान केन्द्र) स्थापित किया जाएगा. केन्द्र सरकार इसके लिए 85 करोड़ रुपए देगी.

उन्होंने कहा कि योगी इंसेफ्लाइटिस के खात्मे के लिए संवेदनशील हैं. उनके ही प्रयास से राष्ट्रीय टीकाकरण अभियान में इंसेफ्लाइटिस रोधी टीकाकरण को जोड़ा गया है. गोरखपुर में रिसर्च सेंटर बन जाने से इस बीमारी पर रोक लगाने में सफलता मिलेगी. यह केंद्र पूर्ण विकसित होगा, जिससे बच्चों में होने वाले अन्य रोगों के निदान में भी मदद मिलेगी.

नड्डा का यह बयान मुख्यमंत्री योगी की प्रेस कांफ्रेंस में की गई उस टिप्पणी के बाद आया है, जिसमें उन्होंने गोरखपुर में पूर्णकालिक वायरस रिसर्च सेंटर की स्थापना की पुरजोर वकालत की थी.

इसके पूर्व, मुख्यमंत्री ने संवाददाताओं से कहा कि पूर्वी उत्तर प्रदेश की बनावट ऐसी है कि हम संचारी रोगों से लड़ाई को तब तक नहीं जीत सकते जब तक यहां पूर्णकालिक वायरस रिसर्च सेंटर नहीं बन जाता. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गोरखपुर को एम्स दिया है, लेकिन यहां पूर्णकालिक वायरस रिसर्च सेंटर भी होना चाहिए.

इंसेफ्लाइटिस का जिक्र करते हुए भावुक हुए योगी

योगी ने इंसेफ्लाइटिस के खिलाफ अपनी लड़ाई के बारे में भावुक अंदाज में जिक्र करते हुए कहा कि उन्होंने बच्चों को मरते हुए देखा है. उन्होंने कहा कि इस मुद्दे पर मुझसे अधिक संवेदनशील और कौन हो सकता है. मैंने इस मुद्दे को सड़क से संसद तक उठाया है. इस बीमारी की पीड़ा मुझसे ज्यादा और कौन समझेगा.

गलत रिपोर्टिंग ना करे मीडिया : योगी

Photo : PTI


योगी ने यह भी बताया कि प्रदेश के 35 जिलों में 90 लाख से ज्यादा बच्चों के टीकाकरण का सघन अभियान शुरू किया गया है. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री बनने के बाद गोरखपुर मेडिकल कॉलेज का यह उनका चौथा दौरा है.

उन्होंने मेडिकल कॉलेज में 30 बच्चों की मौत की घटना के विषय में मीडिया की ओर इंगित करते हुए गलत रिपोर्टिंग ना करने की सलाह दी.

योगी ने बताया कि प्रदेश के मुख्य सचिव और केन्द्रीय सचिव इस घटना की जांच करके रिपोर्ट देंगे. दिल्ली की हाई लेवल टीम भी पूरे मामले की जांच कर रही है. रिपोर्ट आते ही घटना में संलिप्त लोगों के खिलाफ कठोर कार्रवाई होगी. जिम्मेदारों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जाएगा.

दिल्ली के स्पेशलिस्ट डॉक्टर गोरखपुर पहुंचे

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में हाल में बड़ी संख्या में बच्चों की मौत की घटना पर अफसोस जाहिर करते हुए कहा कि इसकी पड़ताल के लिए दिल्ली के स्पेशलिस्ट डॉक्टर गोरखपुर पहुंच चुके हैं. वह घटना और मौतों के कारणों की जानकारी प्राप्त कर रहे हैं.

मेडिकल कॉलेज अस्पताल में तीन दिन पहले 30 बच्चों की मौत की घटना के बाद रविवार को मुख्यमंत्री आदित्यनाथ और केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री नड्डा अस्पताल पहुंचे. दोनों ने अस्पताल में भर्ती मरीजों और उनके परिजनों से मुलाकात करके इलाज, दवा आदि के बारे में पूछताछ की. मुख्यमंत्री ने 10 तथा 11 अगस्त के दिन अस्पताल की व्यवस्थाओं के बारे में भी जानकारी ली.

मेडिकल कॉलेज अस्पताल में मुख्यमंत्री और केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने अस्पताल प्रशासन और जिला प्रशासन के अधिकारियों और दिल्ली एवं राज्य सरकार से आए अधिकारियों के साथ चर्चा की.
First published: August 13, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर