गोरखपुर: छात्रसंघ चुनाव प्रचार के दौरान जमकर मारपीट, पुलिस ने भांजी लाठियां

बताया जा रहा है कि विधि विभाग के एक प्रोफेसर से भी एक छात्रनेता ने बदसलूकी की है. जिसके बाद छात्रों के दो गुट वर्चस्व कायम करने को लेकर आपस में भिड़ गए.

Anil Singh | News18 Uttar Pradesh
Updated: September 11, 2018, 1:01 PM IST
गोरखपुर: छात्रसंघ चुनाव प्रचार के दौरान जमकर मारपीट, पुलिस ने भांजी लाठियां
पुलिस ने भांजी लाठियां
Anil Singh | News18 Uttar Pradesh
Updated: September 11, 2018, 1:01 PM IST
गोरखपुर विश्वविद्यालय में मंगलवार को छात्रसंघ चुनाव के प्रचार को लेकर अध्यक्ष पद के दो प्रत्याशी आपस में भिड़ गए. इस दौरान एबीवीपी प्रत्याशी रंजीत सिंह श्रीनेत और निर्दल प्रत्याशी अनिल दुबे के समर्थकों के बीच जमकर मारपीट हुई है. सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने छात्रों पर जमकर लाठियां बरसाई. घटना के बाद विश्वविद्यालय परिसर में भारी तादाद में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है.

बताया जा रहा है कि विधि विभाग के एक प्रोफेसर से भी एक छात्रनेता ने बदसलूकी की है. जिसके बाद छात्रों के दो गुट वर्चस्व कायम करने को लेकर आपस में भिड़ गए. इस बात को लेकर आज विश्वविद्यालय के मुख्य द्वारा पर छात्रसंघ प्रत्यशियों के समर्थकों में मारपीट हो गई. हैरानी की बात ये है कि छात्रहितों की बात करने वाले ये तथाकथित छात्रनेता शातिर गुंडों की तरह मारपीट करते नजर आए.

तोड़ी गाड़ी


चौकाने वाली बात ये है कि छात्रों के उपद्रव के जानकारी होने के बाद भी प्रॉक्टर और चुनाव अधिकारी ने मौके पर जाकर मामला शांत करना मुनासिब नहीं समझा. वहीं मौके पर पुलिस ने बवाल कर रहे छात्रों पर लाठीचार्ज किया है. साथ ही आधा दर्जन उपद्रवी छात्रों को हिरासत में लिया है. मौके पर कई थानों की पुलिस फोर्स के साथ एसपी सिटी ने पहुंच कर उपद्रवी छात्रों पर काबू पाया है.

आपस में भिड़े छात्र


गौरतलब है कि आगामी 13 सितम्बर को छात्रसंघ चुनाव को लेकर मतदान होना है. ऐसे में छात्र अपनी जीत के साथ वर्चस्व कायम करने को लेकर किसी भी स्तर पर उतरने को आमदा है. चिंता की बात ये है कि अगर समय रहते पुलिस ने उपद्रवी छात्रों पर कड़ी कार्रवाई नहीं की तो चुनाव के दौरान खून-खराबा होने से इंकार नहीं किया जा सकता है. हालंकि एसपी सिटी विनय कुमार सिंह ने कहा है कि बवाल करने वाले उपद्रवियों से सख्ती से निपटा जायेगा.

ये भी पढ़ें:

पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों के लिए कांग्रेस और बीजेपी बराबर की जिम्मेदार: मायावती

अखिलेश यादव को ताकत का एहसास कराना चाहते हैं सपा के 'बागी' शिवपाल!

गोरखपुर: संदिग्ध परिस्थितियों में ब्यूटी पार्लर संचालिका की हत्या
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर