गोरखपुर विवि के शोध छात्र ने खाया जहर, दो शिक्षकों पर प्रताड़ना का आरोप

बता दें, विभागध्यक्ष और डीन के खिलाफ शोध छात्र ने कुलपति को लिखित शिकायत की थी. जिसमें दीपक ने खुद के साथ हो रही घटना का जिक्र करते हुए अपनी पीड़ा बताई थी.

News18 Uttar Pradesh
Updated: September 20, 2018, 10:09 PM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: September 20, 2018, 10:09 PM IST
उत्तर प्रदेश के गोरखपुर विश्वविद्यालय में दर्शनशास्त्र विभाग के एससी-एसटी वर्ग के एक शोधार्थी छात्र दीपक कुमार ने विभागाध्यक्ष और डीन की प्रताड़ना से तंग आकर जहर खा लिया. छात्र ने सुसाइड की कोशिश से पहले बकायदा सेल्फी मोड में खुद का वीडियो भी बनाया. जिसे छात्र ने सोशल मीडिया पर डाल दिया, जो वायरल हो गया है. छात्र को गंभीर हालत में मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया है, जहां उसका इलाज चल रहा है.

वीडियो में छात्र दीपक कुमार ने दर्शनशास्त्र विभाग के विभागध्यक्ष प्रोफेसर द्वारिका नाथ और डीन प्रोफेसर चंद प्रकाश श्रीवास्तव पर प्रताड़ित करने के साथ कई संगीन आरोप लगाए हैं. शोध छात्र का कहना है कि पिछले तीन महिनों से उसे जाति सूचक शब्दों के साथ ही आए दिन बेइज्जत किया जा रहा था.

बता दें, विभागध्यक्ष और डीन के खिलाफ शोध छात्र ने कुलपति को लिखित शिकायत की थी. जिसमें दीपक ने खुद के साथ हो रही घटना का जिक्र करते हुए अपनी पीड़ा बताई थी.

इस प्रकरण को संज्ञान में लेते हुए कुलपति ने चीफ प्रॉक्टर प्रोफेसर गोपाल प्रसाद को चिठ्ठी लिखी थी. जिसमें पूरे प्रकरण की जांच करने के बाद उन्हें अवगत कराना था. लेकिन छात्र दीपक कुमार ने बगैर विभागीय जांच पूरी हुए गुरुवार को अपने किराए के मकान में जहर खा लिया. छात्र को गंभीर हालत में मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया है, जहां उसका इलाज चल रहा है.

वहीं इस प्रकरण में गोरखपुर विश्वविद्यालय के चीफ प्रॉक्टर प्रोफेसर गोपाल प्रसाद ने शोध छात्र द्वारा कुलपति को लिखे गए शिकायती पत्र का जिक्र करते हुए कहा है कि दीपक कुमार ने दर्शनशास्त्र विभाग में हो रहे प्रताड़ना का जिक्र किया था. लेकिन अभी इस मामले की पड़ताल होने से पहले ही शोध छात्र ने जहर खाकर जान देने की कोशिश की है. फिलहाल इस पूरे प्रकरण की जानकारी कैंट पुलिस को दे दी गई है. वहीं इस प्रकरण में डीन और विभागाध्यक्ष कुछ भी कहने से बच रहे हैं.
First published: September 20, 2018, 9:57 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...