छात्रवृत्ति को लेकर जंग के मैदान में तब्दील हुआ समाज कल्याण विभाग का ऑफिस, प्राइवेट ITI मैनेजर के खिलाफ मुकदमा दर्ज

समाज कल्याण विभाग के अधिकारी ने आईटीआई प्रबंधक के खिलाफ केस दर्ज कराया है.

समाज कल्याण विभाग के अधिकारी ने आईटीआई प्रबंधक के खिलाफ केस दर्ज कराया है.

गोरखपुर (Gorakhpur) के विकास भवन में स्थित समाज कल्याण विभाग में छात्रवृत्ति को लेकर आईटीआई प्रबंधक और समाज कल्याण अधिकारी के हाथापाई का मामला सामने आया है. हालांकि इस मामले में पुलिस ने आईटीआई प्रबंधक के मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है.

  • Share this:
गोरखपुर. उत्‍तर प्रदेश के गोरखपुर (Gorakhpur) के विकास भवन में स्थित समाज कल्याण विभाग (Social Welfare Department) का ऑफिस उस वक्त जंग के मैदान में तब्दील हो गया जब एक आईटीआई प्रबंधक और समाज कल्याण अधिकारी के बीच छात्रवृत्ति (Scholarship) को लेकर हाथापाई होने लगी. इसके बाद टेबल पर रखी फाइल फट गयी, तो कुर्सियां भी इधर उधर हो गईं. इस मामले में जिला समाज कल्याण अधिकारी अलख निरंजन मिश्रा की तहरीर पर कैंट थाना में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है.

बता दें कि प्राइवेट आइटीआई मैनेजमेंट एसोसिएशन के मंडल अध्यक्ष सीपी सिंह अपने मंडल मंत्री के साथ समाज कल्याण अधिकारी के कार्यालय में बुधवार दोपहर बाद गये. उन्होंने प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे छात्रों की छात्रवृत्ति निरस्त करने पर आपत्ति जताई और इसी बात पर प्रबंधक की विभाग के अधिकारी से कहासुनी होने लगी. इसके बाद मामला मारपीट तक पहुंच गया.

प्रबंधक के खिलाफ दर्ज हुआ मामला

इस मामले में प्रबंधक पर हाथापाई करने का आरोप लगा है. हालांकि इस घटना के बाद एक वीडियो वायरल हुआ जिसमें टेबल पर रखी फाइल फटी दिखने के अलावा कुर्सियां बिखरी पड़ी हैं. जबकि दूसरे वीडियो में कुछ लोग बीच बचाव कर रहे हैं, लेकिन वीडियो में चेहरा साफ नहीं दिख रहा है. यही नहीं, बुधवार को देर शाम समाज कल्याण अधिकारी ने जिलाधिकारी से पूरी घटना के बारे में मिलकर बताया जिसके बाद डीएम के आदेश पर कैंट थाने में पुलिस ने आईपीसी की धारा 332, 353. 323, 504 और 506 में मुकदमा दर्ज कर लिया है. वहीं, प्राइवेट आईटीआई मैनेजमेन्ट एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने प्रेस नोट में आरोप लगाया है कि समाज कल्याण अधिकारी द्वारा छात्रवृति के लिए प्रत्येक आइटीआई संस्थान से 25 हजार रुपये की डिमांड की जा रही थी. पैसा नहीं दिये जाने पर उस संस्थान की छात्रवृति निरस्त करने की धमकी दे रहे थे. उसी पर बात करने पहुंचे तो जिला समाज कल्याण अधिकारी द्वारा अभद्रता की गयी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज