लाइव टीवी

Lockdown: मुंबई से गोरखपुर के लिए चली श्रमिक स्पेशल ट्रेन पहुंची राउरकेला, कांग्रेस के इस नेता ने ली चुटकी
Gorakhpur News in Hindi

News18Hindi
Updated: May 23, 2020, 4:55 PM IST
Lockdown: मुंबई से गोरखपुर के लिए चली श्रमिक स्पेशल ट्रेन पहुंची राउरकेला, कांग्रेस के इस नेता ने ली चुटकी
एक जून से यूपी के कई शहरों को यात्री ट्रेनें मिलने जा रही हैं. (सांकेतिक तस्वीर)

पश्चिमी रेलवे (Western Railway) ने इस लापरवाही पर सफाई देते हुए कहा कि बड़ी संख्या में श्रमिक ट्रेनों (Shramik Special Train) के चलने की वजह से जलगांव-भुसावल-खंडवा-इटारसी-जबलपुर रुट पर काफी ट्रैफिक था. इसलिए बिलासपुर रुट से गोरखपुर (Gorakhpur) जाने के लिए ट्रेन को डाइवर्ट किया गया

  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय रेल (Indian Railway) की तरफ से बड़ी लापरवाही सामने आई है. 21 मई को महाराष्ट्र के वसई से गोरखपुर (Gorakhpur) के लिए निकली श्रमिक स्पेशल ट्रेन (Shramik Special Train) ओडिशा के राउरकेला पहुंच गई. पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के नेता आरपीएन सिंह (RPN Singh) ने रेलवे की इस लापरवाही पर निशाना साधा है. आरपीएन सिंह ने ट्वीट कर लिखा, ‘मुंबई से गोरखपुर जाने के लिए निकली श्रमिक स्पेशल ट्रेन राउरकेला, ओडिशा पहुंच गई है क्योंकि ड्राइवर रास्ता भूल गया.'

ट्रेन को पहुंचना था गोरखपुर
वसई से गोरखपुर के लिए निकली श्रमिक स्पेशल ट्रेन का रूट डाइवर्ट होने को लेकर पश्चिम रेलवे की तरफ से सफाई आई है. रेलवे ने कहा है कि बड़ी संख्या में श्रमिक ट्रेनों के चलने की वजह से जलगांव-भुसावल-खंडवा-इटारसी-जबलपुर रुट पर काफी ट्रैफिक था. इसलिए बिलासपुर रुट से गोरखपुर जाने के लिए ट्रेन को डाइवर्ट किया गया. रुट बदलने के चलते ओडिशा में ट्रेन के पहुंचने के बाद यात्रियों ने हंगामा किया था, जिसके बाद पश्चिम रेलवे की तरफ से यह सफाई जारी की गई है.





रेलवे ने दी यह सफाई
बता दें कि यह श्रमिक स्पेशल ट्रेन 21 मई की शाम सात बजकर 20 मिनट पर मुंबई के वसई स्टेशन से चली थी. इसे 22 मई को गोरखपुर पहुंचनी थी, लेकिन गोरखपुर ना पहुंचकर ट्रेन ओडिशा के राउरकेला पहुंच गई. वसई से गोरखपुर की दूरी तकरीबन 1,500 किलोमीटर है, जबकि वसई से राउरकेला करीब 1,600 किलोमीटर दूरी है. प्रवासी मजदूरों में इस बात को लेकर गुस्सा था कि 24 घंटे सफर कर वो गलत स्टेशन, राउरकेला आए हैं. और अब राउरकेला से गोरखपुर का सफर करने में आठ से 10 घंटे बर्बाद होंगे. इन मजदूरों को अब राउरकेला से गोरखपुर का करीब 800 किलोमीटर और सफर करना होगा.

ऐसे में सवाल है कि रेलवे ने इतनी बड़ी लापरवाही कर इस भीषण गर्मी में यात्रियों के साथ मजाक क्यों किया? लॉकडाउन में जब सामान्य रेलगाड़ियों का परिचालन नहीं हो रहा है तो रेलवे ट्रैफिक का बहाना क्यों बना रहा है? अगर ट्रैक पर ट्रैफिक इतनी थी तो इसकी जानकारी यात्रियों को क्यों नहीं दी गई? मुंबई के वसई से गोरखपुर के लिए निकली श्रमिक स्पेशल ट्रेन में रूट के बारे में टिकट पर साफ-साफ जानकारी है तो फिर ट्रेन राउरकेला कैसे पहुंच गई?

ये भी पढ़ें: 

केंद्र सरकार ने वन नेशन, वन राशन कार्ड को लेकर फिर किया ये बड़ा ऐलान

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गोरखपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 23, 2020, 1:55 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading