लाइव टीवी

बांसगांव लोकसभा: बाहुबली पिता की हत्या के बाद कमलेश पासवान ने संभाली सियासी विरासत

NAVEEN LAL SURI | News18Hindi
Updated: May 8, 2019, 3:43 PM IST
बांसगांव लोकसभा: बाहुबली पिता की हत्या के बाद कमलेश पासवान ने संभाली सियासी विरासत
बीजेपी सांसद कमलेश पासवान

पिता की हत्या के बाद बीजेपी सांसद कमलेश पासवान की मां सुभावती पासवान (1996) में समाजवादी पार्टी (सपा) से बांसगांव सुरक्षित सीट से सांसद बनी.

  • Share this:
बांसगांव लोकसभा सीट एक नगर पंचायत है और यह शहर ठाकुरों यानी राजपूतों के लिए जाना जाता है, खासकर श्रीनेत वंश के लोगों की संख्या इस इलाके में ज्यादा है. बांसगांव उन कुछ चुनिंदा सीटों में है जहां बेहद कम प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं. यहां तीन बार से लगातार सांसद कमलेश पासवान एक बार फिर बीजेपी के बैनर तले चुनाव मैदान में हैं. कमलेश पासवान की सियासी पहचान उनके बाहुबली पिता स्वर्गीय ओम प्रकाश पासवान के रूप में मिली. ओम प्रकाश पासवान लखनऊ गेस्ट हाउस कांड के मुख्य आरोपी थे. इलाके में दबंग और बहुबली के रूप में पहचान बनाने वाले मानीराम के पूर्व विधायक ओम प्रकाश पासवान की हत्या बांसगांव में बम मारकर हो गई थी. हत्या का आरोप माफिया राकेश यादव पर लगा था.

पिता की हत्या के बाद बीजेपी सांसद कमलेश पासवान की मां सुभावती पासवान (1996) में समाजवादी पार्टी (सपा) से बांसगांव सुरक्षित सीट से सांसद बनी. हालांकि ये खुशी उन्हें ज्यादा रास नहीं आई और दो चुनाव हारने के बाद बेटे को इस क्षेत्र में भाग्य आजमाने का मौका देकर खुद को लोकसभा चुनावों से अलग कर लिया.

स्वर्गीय ओम प्रकाश पासवान


कमलेश पासवान ने मंदिर का रूख किया. सीएम योगी आदित्यनाथ का आर्शीवाद मिलने के बाद कमलेश को 2009 में बीजेपी ने बांसगांव से उम्मीदवार बनाया. वहीं कमलेश चुनाव जीतकर पहली बार संसद पहुंचे. कमलेश पासवान लगातार 2 बार (2009 और 2014) से लोकसभा चुनाव जीत रहे हैं. कमलेश पासवान प्रदेश के युवा सांसदों में से एक हैं. उनके पास स्नातक तक की डिग्री है.

मां सुभावती पासवान


राजनीतिक परिवार में जन्म कमलेश खेती के अलावा बिजनेसमैन और बिल्डर भी हैं. उनके परिवार में एक बेटा और 2 बेटियां हैं. आपको बता दें कि यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ का इस सीट पर मजबूत प्रभाव है. बीजेपी को इस सीट पर लगातार कामयाबी के पीछे योगी आदित्यनाथ की इस क्षेत्र में लोकप्रियता भी एक पहलू है. इस सीट में पांच विधानसभा सीटें आती हैं-चौरी-चौरा, बांसगांव, चिल्लूपार, रुद्रपुर, बरहज. वर्तमान में इनमें से चार सीटों पर बीजेपी का कब्जा है. एक सीट बीएसपी के पास है.

ये भी पढ़ें:जौनपुर: प्रियंका गांधी को नहीं मिली हेलीकॉप्टर लैंडिंग की परमिशन

मदहोश माहौल, महंगे नशे के बीच जानिए 'रेव पार्टी' की इनसाइड स्टोरी!

बाहुबली MLA राजा भैया ने पूछा- योगी सरकार के विधायक क्यों नहीं किए गए नजरबंद?

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsAppअपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गोरखपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 8, 2019, 3:30 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर