लोकसभा चुनाव: योगी आदित्यनाथ और गोरखनाथ मठ के एससी/एसटी प्रेम की ऐसी है कहानी!

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का दलितों से 'पुराना रिश्ता' है! गोरखनाथ मंदिर के वर्तमान मुख्य पुजारी भी दलित हैं!

ओम प्रकाश | News18Hindi
Updated: April 17, 2019, 5:17 PM IST
लोकसभा चुनाव: योगी आदित्यनाथ और गोरखनाथ मठ के एससी/एसटी प्रेम की ऐसी है कहानी!
योगी आदित्यनाथ (file photo)
ओम प्रकाश
ओम प्रकाश | News18Hindi
Updated: April 17, 2019, 5:17 PM IST

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को अयोध्या में एक दलित परिवार के घर खाना खाया.  जिसके यहां खाना खाया उसका नाम है महावीर और उसे प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत घर प्राप्त हुआ है.  विपक्षी नेता दलित के घर खाना खाने को चुनावी स्टंट बता रहे हैं. हालांकि, आदित्यनाथ का दलितों से 'पुराना रिश्ता' है! योगी का दलित प्रेम दिल से है या सिर्फ दिखावा? इसकी एक बानगी देखिए. आपको शायद ही इस बात की जानकारी हो कि गोरखनाथ मंदिर के वर्तमान मुख्य पुजारी कमलनाथ भी दलित हैं. योगी के बाद वो मंदिर का सबसे अहम चेहरा हैं.


दरअसल, बजरंगबली और अली के बयान में फंसे योगी आज अयोध्या में हैं.  योगी आदित्यनाथ ने राजस्थान विधानसभा चुनाव के दौरान  एक सभा में हनुमान जी को दलित कहा था, फिर देश भर में विवाद शुरू हो गया था. कहीं ब्राह्मण उनके खिलाफ मोर्चा खोले हुए थे, तो कहीं दलित संगठन हनुमान मंदिरों पर अपना दावा ठोक रहे थे. अब तो चुनाव में बसपा प्रमुख मायावती भी हनुमान जी को दलित बता रही हैं. (ये भी पढ़ें: गोरखपुर लोकसभा: ब्राह्मण बनाम ठाकुर की राजनीति में कितना कारगर होगा बीजेपी का 'शुक्ला' दांव? )


 yogi adityanath, up cm Yogi Adityanath, 2019 lok sabha election, bjp, dalit politics, gorakhnath mandir, गोरखनाथ मंदिर, Gorakhnath Math, Mahant Avaidyanath,महंत अवैद्यनाथ, भगवान हनुमान, हनुमान जी, योगी आदित्यनाथ, दलित राजनीति, बीजेपी, गोरखनाथ मंदिर, गोरखनाथ मठ, महंत अवैद्यनाथ, dalit pujari, दलित पुजारी, Lord Hanuman,हनुमान जी, ayodhya, अयोध्या       अयोध्या में महावीर के घर खाना खाते योगी आदित्यनाथ

आदित्यनाथ ही नहीं उनके गुरु अवैद्यनाथ भी दलितों और वनवासियों का मुखर समर्थक रहे थे. नाथ परंपरा के तहत योगी और उनका मठ लंबे समय से छुआछूत के खिलाफ काम कर रहे हैं. सीएम बनने के बाद उन्होंने दलित के घर खाना खाने का अभियान चलाया और इसमें पार्टी की यूपी विंग को शामिल कराया. सीएम बनने से पहले भी योगी समाज में समरसता के लिए दलितों के बीच जाकर भोजन करते रहे हैं, ताकि हिंदू विभाजित न हो.



'अस्पृश्यता हिंदू समाज का अभिशाप है. धर्मशास्त्रों में इसके लिए कोई स्थान नहीं....' ये लाइनें किसी दलित नेता की नहीं, बल्कि उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ के उस मठ की दी हुई हैं जिसके वो पीठाधीश्वर भी हैं. उनकी कट्टर छवि तले यह बात छिप जाती है. ये भी पढ़ें (कौन हैं वे जिनके साथ एक दशक से दीपावली मनाते हैं CM योगी आदित्यनाथ?)


 Lord Hanuman,हनुमान जी, yogi adityanath, up cm Yogi Adityanath, 2019 lok sabha election, bjp, dalit politics, gorakhnath mandir, गोरखनाथ मंदिर, Gorakhnath Math, Mahant Avaidyanath,महंत अवैद्यनाथ, भगवान हनुमान, हनुमान जी, योगी आदित्यनाथ, दलित राजनीति, बीजेपी, गोरखनाथ मंदिर, गोरखनाथ मठ, महंत अवैद्यनाथ, dalit pujari, दलित पुजारी         सीएम बनने से पहले समरसता भोज में योगी (file photo)

गोरखनाथ मंदिर उन मंदिरों की विचारधारा से अलग है, जहां दलितों का प्रवेश वर्जित होता है. इस मंदिर की ओर से जात-पात के खिलाफ लंबे समय से अभियान चलाया जा रहा है. संभव है कि हनुमान जी को आदिवासी और दलित बताने वाला योगी का ये दांव दलितों का वोट लेने के लिए हो. संभव है कि इस कदम का कोई राजनीतिशास्त्र हो.


Loading...

योगी को बहुत नजदीक से जानने वाले गोरखपुर के वरिष्ठ पत्रकार टीपी शाही कहते हैं, 'गोरखनाथ पीठ की परंपरा के अनुसार योगी ने पूर्वी उत्तर प्रदेश में व्यापक जनजागरण का अभियान चलाया. सहभोज के माध्यम से छुआछूत (अस्पृश्यता) पर प्रहार किया. इसलिए उनके साथ बड़ी संख्‍या में दलित भी जुड़े हुए हैं. गांव-गांव में सहभोज के माध्यम से ‘एक साथ बैठें-एक साथ खाएं’ मंत्र का उन्होंने उद्घोष किया."


शाही बताते हैं, "गोरखनाथ मठ के मुख्य पुजारी कमलनाथ दलित चेहरा हैं. योगी के बाद सारा कामकाज वही संभालते हैं. आदित्‍यनाथ के गुरु महंत अवैद्यनाथ ने दक्षिण भारत के मंदिरों में दलितों के प्रवेश को लेकर संघर्ष किया. जून 1993 में पटना के महावीर मंदिर में उन्‍होंने दलित संत सूर्यवंशी दास का अभिषेक कर पुजारी नियुक्‍त किया." (ये भी पढ़ें अयोध्या: राम मंदिर आंदोलन से क्या है योगी आदित्यनाथ के मठ का कनेक्शन?)


 Lord Hanuman,हनुमान जी, yogi adityanath, up cm Yogi Adityanath, 2019 lok sabha election, bjp, dalit politics, gorakhnath mandir, गोरखनाथ मंदिर, Gorakhnath Math, Mahant Avaidyanath,महंत अवैद्यनाथ, भगवान हनुमान, हनुमान जी, योगी आदित्यनाथ, दलित राजनीति, बीजेपी, गोरखनाथ मंदिर, गोरखनाथ मठ, महंत अवैद्यनाथ, dalit pujari, दलित पुजारी          सीएम बनने से पहले समरसता भोज में योगी (file photo)

शाही के मुताबिक "इस पर विवाद भी हुआ लेकिन वे अड़े रहे. यही नहीं इसके बाद बनारस के डोम राजा ने उन्‍हें अपने घर खाने का चैलेंज दिया तो उन्‍होंने उनके घर पर जाकर संतों के साथ खाना भी खाया. योगी का दलितों से प्रेम न तो नया है और न ही उनके साथ भाेजन करना."


गोरखनाथ मंदिर का मत है कि "हरिजन भी हिंदू समाज के उसी उसी तरह से अभिन्न अंग हैं जिस तरह क्षत्रिय, ब्राह्मण, वैश्य, जैन, बौद्ध, सिख, आर्यसमाजी अथवा सनातनी लोग हैं. उनके प्रति समाज में उत्पन्न भेदभाव की भावना चाहे वह धार्मिक हो या सामाजिक, राजनीतिक हो अथवा आर्थिक, समाप्त कर दी जानी चाहिए. शास्त्रों में इसके लिए कोई स्थान नहीं है. भूतकाल में इसकी वजह से काफी क्षति उठानी पड़ी है. अब हम इसे भविष्य में कदापि चालू रहने की आज्ञा नहीं दे सकते. यह हिंदू समाज के लिए आत्महत्या समान ही है."


 Lord Hanuman,हनुमान जी, yogi adityanath, up cm Yogi Adityanath, 2019 lok sabha election, bjp, dalit politics, gorakhnath mandir, गोरखनाथ मंदिर, Gorakhnath Math, Mahant Avaidyanath,महंत अवैद्यनाथ, भगवान हनुमान, हनुमान जी, योगी आदित्यनाथ, दलित राजनीति, बीजेपी, गोरखनाथ मंदिर, गोरखनाथ मठ, महंत अवैद्यनाथ, dalit pujari, दलित पुजारी         योगी आदित्यनाथ के गुरु महंत अवैद्यनाथ (file photo)

योगी आदित्यनाथ का वनटांगियों से भी खास लगाव है. सांसद रहते हुए योगी ने सड़क से संसद तक इनके अधिकारों की लड़ाई लड़ी. इन्हें नागरिक अधिकार देने का मामला संसद में उठाया. ज्यादातर वनटांगिया दलित और पिछड़े वर्ग से हैं. योगी 11 साल से उन्हीं के साथ दीपावली मनाते हैं.


राजनीति में क्यों इतने महत्वपूर्ण हैं दलित
2011 की जनगणना के मुताबिक, देश में 16.63 फीसदी अनुसूचित जाति और 8.6 फीसदी अनुसूचित जनजाति हैं. 150 से ज्यादा संसदीय सीटों पर एससी/एसटी का प्रभाव माना जाता है. सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय की एक रिपोर्ट के मुताबिक देश में 46,859 गांव ऐसे हैं जहां दलितों की आबादी 50 फीसदी से ज्यादा है. 75,624 गांवों में उनकी आबादी 40 फीसदी से अधिक है.


देश की सबसे बड़ी पंचायत लोकसभा की 84 सीटें एससी के लिए, जबकि 47 सीटें एसटी के लिए आरक्षित हैं. विधानसभाओं में 607 सीटें एससी और 554 सीटें एसटी के लिए आरक्षित हैं. इसलिए सबकी नजर दलित वोट बैंक पर लगी हुई है.


Lord Hanuman,हनुमान जी, yogi adityanath, up cm Yogi Adityanath, 2019 lok sabha election, bjp, dalit politics, gorakhnath mandir, गोरखनाथ मंदिर, Gorakhnath Math, Mahant Avaidyanath,महंत अवैद्यनाथ, भगवान हनुमान, हनुमान जी, योगी आदित्यनाथ, दलित राजनीति, बीजेपी, गोरखनाथ मंदिर, गोरखनाथ मठ, महंत अवैद्यनाथ, dalit pujari, दलित पुजारी        वनटांगियाें के गांव में योगी आदित्यनाथ (file photo)

इसी वोटबैंक के भरोसे मायावती चार बार यूपी की सीएम बन चुकी हैं. रामविलास पासवान, उदित राज, रामदास अठावले जैसे दलित नेता उभरे हैं. चंद्रशेखर आजाद और जिग्नेश मेवाणी जैसे नए दलित क्षत्रप भी इसी संख्या की बदौलत पैदा हुए हैं.


ये भी पढ़ें: बीजेपी के 'चाणक्य' अमित शाह का कुछ ऐसा है सियासी सफर


योगी ही नहीं मायावती और अखिलेश यादव भी बदल चुके हैं इन शहरों के नाम


अयोध्या में 'हिंदू कार्ड' के सियासी इस्तेमाल की ये है कहानी!

Loading...

और भी देखें

पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...

वोट करने के लिए संकल्प लें

बेहतर कल के लिए#AajSawaroApnaKal
  • मैं News18 से ई-मेल पाने के लिए सहमति देता हूं

  • मैं इस साल के चुनाव में मतदान करने का वचन देता हूं, चाहे जो भी हो

    Please check above checkbox.

  • SUBMIT

संकल्प लेने के लिए धन्यवाद

काम अभी पूरा नहीं हुआ इस साल योग्य उम्मीदवार के लिए वोट करें

ज्यादा जानकारी के लिए अपना अपना ईमेल चेक करें

Disclaimer:

Issued in public interest by HDFC Life. HDFC Life Insurance Company Limited (Formerly HDFC Standard Life Insurance Company Limited) (“HDFC Life”). CIN: L65110MH2000PLC128245, IRDAI Reg. No. 101 . The name/letters "HDFC" in the name/logo of the company belongs to Housing Development Finance Corporation Limited ("HDFC Limited") and is used by HDFC Life under an agreement entered into with HDFC Limited. ARN EU/04/19/13618
T&C Apply. ARN EU/04/19/13626