लाइव टीवी

कुशीनगर हादसे के बाद छलका 'गेटमैन' का दर्द, ‘हमारी कोई नहीं सुनता’

News18 Uttar Pradesh
Updated: April 26, 2018, 9:49 PM IST

गैटमैनों ने न्यूज 18 से बात करते हुए बताया कि सुरक्षा नहीं मिलने के चलते फाटक बंद होने के बाद गेट के नीचे से निकलने वाले लोग मारपीट पर आमादा हो जाते हैं.

  • Share this:
उत्तर प्रदेश के कुशीनगर जिले में गुरुवार को हुए दर्दनाक हादसे में 13 स्कूली बच्चों की मौत हो गई. इस हादसे ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया है. हादसे में मासूम बच्चों की मौत से हर कोई गमगीन है. कुशीनगर हादसे ने रेलवे क्रॉसिंग को लेकर एक बार फिर कई सवाल खड़े किए हैं. हादसे के बाद जब न्यूज 18 ने झांसी-कानपुर रेल रूट पर तैनात गेटमैन से बात की तो उन्होंने एक दूसरी तस्वीर की तरफ भी ध्यान खींचा.

गैटमैन ने न्यूज 18 से बात करते हुए बताया कि किस तरह लोग फाटक होने के बाद भी अपनी जान पर खेलकर पटरी को पार करते हैं. उन्होंने आरोप लगाया कि सुरक्षा नहीं मिलने के चलते फाटक बंद होने के बाद गेट के नीचे से निकलने वाले लोग गेटमैन से मारपीट करने पर आमादा हो जाते हैं. उनका आरोप है कि जीआरपी और आरपीएफ भी गेटमैनों की सुरक्षा नहीं करती है और गश्त के नाम पर खानापूर्ति करके चली जाती है.

अपना दर्द बयां करते हुए गैटमैन ने कहा कि सुरक्षा न मिलने की वजह से वे रेल क्रॉसिंग के नीचे से निकलकर जाने वाले लोगों को रोकने की हिम्मत नहीं जुटा पाते हैं. गौरतलब है कि कुशीनगर हादसे में प्रथम दृष्टया ड्राइवर की गलती बताई जा रही है. ड्राइवर ने कान में ईयरफोन लगा रखा था जिससे यह दर्दनाक हादसा हुआ.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गोरखपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 26, 2018, 8:31 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...