यूपी मिशन 2022: सीएम योगी के गढ़ में AIMIM का चुनावी ट्रेलर, कहा- नफरत फैला रही बीजेपी

गोरखपुर में शौकत अली ने दिया बड़ा बयान.

गोरखपुर में शौकत अली ने दिया बड़ा बयान.

UP Politics:  एआईएमआईएम के प्रदेश अध्यक्ष शौकत अली (Shaukat Ali) ने बड़ा बयान देते हुए कहा कि बीजेपी नफरत फैलाने का काम कर रही है.  

  • Share this:
गोरखपुर. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) के गढ़ माने जाने वाले गोरखपुर (Gorakhpur) में अपनी पैंठ बनाने के लिए मंगलवार को एआईएमआईएम के प्रदेश अध्यक्ष ने तिवारीपुर क्षेत्र में एक जनसभा की. पहली बैठक में प्रदेश अध्यक्ष शौकत अली (Shaukat Ali) के तेवर बेहद तल्ख दिखे जिससे आने वाले चुनावों की तस्वीर दिख रही है. शौकत अली ने मुख्यमंत्री योगी के गढ़ के सवाल पर कहा कि गोरखपुर सीएम योगी का गढ़ नहीं है. ये हमारा गढ़ है. सीएम योगी का गढ़ उत्तराखंड है. वे माइग्रेट होकर आये हैं हम कहीं से माइग्रेट होकर नहीं आये हैं.

शौकत अली ने कहा कि योगी आदित्यनाथ अपने पिता के अंतिम संस्कार में शामिल होने नहीं गए. जो बेटा अपने पिता का नहीं हो सकता वो जनता का क्या होगा? बाद में आप चले जाते, मां के सिर पर हाथ रखते, बहन के आसूं पोछते, आप नहीं गए. इसलिए आपको आवाम से प्यार नहीं हो सकता. तभी तो यूपी में बेटियां जिन्दा जला दी गयी. प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि उत्तरप्रदेश में सबसे अधिक क्राइम है. यहां पर जंगलराज है. अशिक्षित लोग है. बीजेपी भले ही डंका पीटे की उन्होने बहुत काम किया पर सच्चाई ये है कि बीजेपी ने कागज के पन्नों में काम किया है. जमीन पर कोई काम नहीं किया है. जमीन पर सिर्फ एक काम किया है हिन्दु मुस्लिम के बीच नफरत फैलाने का काम.

2022 पर AIMIM का फोकस

शौकत अली ने आरोप लगाया कि श्रीराम का नाम सियासी फायदे के लिए इस्तेमाल किया गया. यहां पर औरतों पर उत्पीड़न ज्यादा हो रहा है, बेरोजगारी बढ़ रही है और ये कह रहे हैं कि पकौड़ा तलिए, इसलिए यूपी में बदलाव की जरूरत है. हम चाहते हैं गरीबों और किसानों का लोन माफ किया जाए. साथ ग्रेजुएशन तक की शिक्षा को फ्री किया जाए. साथ ही कहा विपक्ष यूपी में है ही नहीं. ड्राइंग रूम में बैठकर सियासत नहीं होती. अगर विपक्ष मजबूत होता तो भाजपा सत्ता में नहीं होती. ये बीजेपी की कामयाबी नहीं बल्कि सपा और बसपा की नकामी है.
 समाजवादी पार्टी  पर साधा निशाना

साथ ही शौकत अली ने कहा कि समाजवादी पार्टी ने सिर्फ मुसलमानों का वोट लिया है. उनकी बेहतरी के लिए कोई काम नहीं किया है. हम भागीदारी संकल्प मोर्चा के बैनर तले 2022 में मजबूती के साथ चुनाव लड़ेंगे. मुसलमानों के विकास के सवाल पर कहा कि मैं उन तमाम पार्टियों को दोषी मानता हूं जो 74 साल से अधिक समय तक देश पर राज किया जबकि उन्होंने जायज हक नहीं दिया, तमाम पार्टियों ने मुसलमानों को सिर्फ वोट बैंक के रूप में इस्तेमाल किया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज