गोरखपुर व बस्ती मंडल में जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी की चाबी निर्दलियों के हाथ, 350 में से 159 सीटों पर जमाया कब्जा

यूपी जिला पंचायत चुनाव के नतीजे सपा के लिए अच्‍छे रहे हैं.

यूपी जिला पंचायत चुनाव के नतीजे सपा के लिए अच्‍छे रहे हैं.

Gorakhpur and Basti Zila Panchayat Chunav Results: गोरखपुर और बस्ती मंडल की 350 सीटों में से सत्ताधारी बीजेपी के खाते में 63 सीटें आयी हैं तो सपा ने बीजेपी पर बढ़त बनाते हुए 78 सीटों पर कब्जा जमाया है. वहीं बसपा ने भी इस चुनाव में अपनी ताकत को बढ़ाया है और उसे 33 सीटे हालिस हुईं हैं.

  • Share this:

गोरखपुर. उत्तर प्रदेश त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव (UP Panchayat Chunav 2021) में उतरी सभी राजनीतिक दल 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव (Assembly Election) से पहले अपनी ताकत का आंकलन करना चाहते थे. पर सभी राजनीतिक दलों को इस चुनाव में निराशा ही हाथ लगी है. गोरखपुर (Gorakhpur) और बस्ती (Basti) मंडल के सात जिलों में 350 सीटों पर जिला पंचायत सदस्य के लिए चुनाव हुए जिसमें से आधे से अधिक पर निर्दलीयों ने कब्जा जमा लिया, और बाकी बचे हुए सीट सभी राजनीतिक दलों के खाते में गयी.

गोरखपुर और बस्ती मंडल की 350 सीटों में से सत्ताधारी बीजेपी के खाते में 63 सीटें आयी हैं तो सपा ने बीजेपी पर बढ़त बनाते हुए 78 सीटों पर कब्जा जमाया है. वहीं बसपा ने भी इस चुनाव में अपनी ताकत को बढ़ाया है और उसे 33 सीटे हालिस हुईं हैं. कांग्रेस ने भी 8 सीटों पर विजय हासिल की है. जबकि निर्दलियों ने 159 सीटों पर कब्जा जमाया है, वहीं 9 सीटें अलग अलग राजनीतिक दलों ने अपने खाते में जोड़ा है.

इन दलों का भी खुला खाता

दोनों मंडलों के जिला पंचायत सदस्य के चुनाव में भीम आर्मी, अपना दल, आम आदमी पार्टी और एआईएमआइएम ने भी जीत दर्ज की है. आम आदमी पार्टी ने गोरखपुर में एक सीट पर, तो भीम आर्मी ने बस्ती में एक सीट, एआईएमआइएम ने संतकबीरनगर में एक सीट तो सिद्धार्थनगर में अपना दल ने एक सीट हासिल की. निषाद पार्टी ने भी गोरखपुर में एक सीट हालिस की है. अब इन चुनाव परिणामों से ये स्पष्ट हो गया है कि इन सभी सात जिलों में जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी की चाभी निर्दलियों के हाथ में हैं. कोई भी राजनीतिक दल अपने बूते कुर्सी हासिल नहीं कर सकती है. दोनों मंडलों में बीजेपी और सपा में जहां कड़ा मुकाबला रहा तो वहीं बसपा ने भी अपनी दमदार उपस्थिती दर्ज करायी है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज