होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /

गोरखपुर: ज्वाला निषाद अपहरण मामले में 3 गिरफ्तार, केस का मास्टरमाइंड अब भी फरार

गोरखपुर: ज्वाला निषाद अपहरण मामले में 3 गिरफ्तार, केस का मास्टरमाइंड अब भी फरार

गोरखपुर ज्वाला निषाद अपहरण केस में पुलिस ने तीन लोगों को पकड़ा.

गोरखपुर ज्वाला निषाद अपहरण केस में पुलिस ने तीन लोगों को पकड़ा.

Gorakhpur News: ज्वाला निषाद जब जेल से छुटा था तो जेल से रिहा होने पर ज्वाला निषाद के हाथ पर रिहाई की मोहर लगी हुई थी. ज्वाला ने व्हाट्सएप पर हाथ के फोटो का स्टेटस लगाकर लिखा था, ’जेल से छूटकर आया हूं, अब जो होगा देखा जाएगा.’

हाइलाइट्स

पुलिस ने सिंघाड़िया इलाके से तीनों वंछितों को गिरफ्तार किया है.
ज्वाला निषाद का बीती 5 अगस्त को असलहे के बल पर अपहरण कर लिया था.

गोरखपुर. उत्तर प्रदेश में गोरखपुर पुलिस ने युवक ज्वाला निषाद के अपहरण के मामले का खुलासा किया है. पुलिस ने वारदात में शामिल 3 आरोपियों को गिरफ्तार किया है. जबकि मास्टरमाइंड समेत दो आरोपी अभी फरार हैं. दिलचस्प है कि जेल से छूटे युवक द्वारा रिहाई की मोहर का व्हाट्सएप स्टेटस लगाए जाने पर आरोपियों ने युवक का अपहरण कर उसकी पिटाई की थी. हालांकि पुलिस के दबाव में अपहरणकर्ता युवक को छोड़कर फरार हुए थे. इस मामले में पुलिस ने मॉडल शॉप कर्मचारी समेत पांच पर नामजद मुकदमा दर्ज किया था.

जानकारी के अनुसार, कैंट पुलिस ने सिंघाड़िया इलाके से तीनों वंछितों को गिरफ्तार किया है. गिरफ्तार आरोपियों की शिनाख्त विकेश शुक्ला, अंशुमान गौड़ और शिवम सिंह के तौर पर हुई है. मामले का खुलासा करने के दौरान कृष्ण कुमार विश्नोई ने बताया कि जमानत पर रिहा होने पर ज्वाला निषाद का बीती 5 अगस्त को सिंघड़िया से 5 युवकों ने असलहे के बल पर अपहरण कर लिया था.

पुलिस को जानकारी होने पर उन लड़कों के घरों पर दबिश दी जाने लगी. तब इन लोगों ने ज्वाला निषाद को सहारा स्टेट के पास छोड़ा और फरार हो गए थे. ज्वाला निषाद की तहरीर पर तीन नामजद और दो अज्ञात के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर पुलिस टीम द्वारा लगातार दबीश दी जाती रही.

बदला लेने के लिए रची साजिश
इस बीच मुखबीर की सूचना पर रविवार प्रदूषण चौराहा सिंघड़िया से घटना में शामिल तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है. एसपी सिटी के मुताबिक पूछताछ पर इन्होनें बताया की मॉडल शाप पर मारपीट में सचिन यादव के सिर और अंगुली में चोट लगी थी, जिसके कारण सचिन यादव परेशान था और बदला लेना चाहता था. उसी ने हम सभी को बुलाया की ज्वाला जेल से छुट कर आया है और उसको सबक सिखाना है.

जेल से छूटने के बाद लगाया व्हाट्सएप स्टेट्स
बता दें कि ज्वाला निषाद जब जेल से छुटा था तो जेल से रिहा होने पर ज्वाला निषाद के हाथ पर रिहाई की मोहर लगी हुई थी. ज्वाला ने व्हाट्सएप पर हाथ के फोटो का स्टेटस लगाकर लिखा था, ’जेल से छूटकर आया हूं, अब जो होगा देखा जाएगा.’ उसके स्टेटस को देखकर सचिन बदला लेने के लिए परेशान था. ऐसे में दोस्त होने के नाते उसके साथ ज्वाला निषाद को अगवा कर उसकी पिटाई की थी.

तलाशी के दौरान एसपी सिटी का कहना है कि फिलहाल बदला और वर्चस्व कायम करने को लेकर दो गुटों में मारपीट और बाद में अपहरण की घटना हुई थी.

Tags: Gorakhpur news, Uttar Pradesh Police

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर