ऐसे UP का बेहतरीन औद्योगिक शहर बनेगा गोरखपुर, ये है CM योगी आदित्यनाथ का मास्टर प्लान

अब औद्योगिक विकास के लिए सन 2050 तक की रूपरेखा तैयार की जा रही है, जिससे न सिर्फ बड़ी संख्या में लोगों को रोजगार मिलेगा बल्कि नोएडा, ग्रेटर नोएडा के बाद सबसे बड़ा औद्योगिक क्षेत्र गोरखपुर में होगा.

News18 Uttar Pradesh
Updated: August 19, 2019, 6:41 PM IST
ऐसे UP का बेहतरीन औद्योगिक शहर बनेगा गोरखपुर, ये है CM योगी आदित्यनाथ का मास्टर प्लान
योगी आदित्यनाथ के यूपी की कमान लभालने के बाद गोरखपुर के विकास की गति तेज हुई है. नई सड़के बन रही हैं तो वहीं एयरपोर्ट का विस्तार हुआ है.
News18 Uttar Pradesh
Updated: August 19, 2019, 6:41 PM IST
योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) के उत्तर प्रदेश की कमान संभालने के बाद गोरखपुर (Gorakhpur) के विकास की गति तेज हुई है. नई सड़कें बन रही हैं तो वहीं एयरपोर्ट का विस्तार हुआ है. औद्योगिक गति को तेज करने के लिए भी मुख्यमंत्री योगी ने पूरी ताकत झोंक रखी है. इसी कड़ी में अब औद्योगिक विकास के लिए सन 2050 तक की रूपरेखा तैयार की जा रही है, जिससे न सिर्फ बड़ी संख्या में लोगों को रोजगार मिलेगा बल्कि नोएडा, ग्रेटर नोएडा के बाद सबसे बड़ा औद्योगिक क्षेत्र गोरखपुर में होगा.

बेराजगारी बड़ी समस्या
गोरखपुर के विकास के सपनों को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गति दे दी है. यूपी के सबसे पिछड़े क्षेत्र में गिना जाने वाला पूर्वांचल का उत्तरी हिस्सा अब विकास के नये आयाम को लिख रहा है लेकिन इस क्षेत्र बेरोजगारी आज भी एक बड़ी समस्या की बनी हुई है. ये समस्या तब दूर होगी जब गोरखपुर का औद्योगिक विकास होगा. उद्योग तब यहां पर आएंगे जब उन्हें अनुकूल माहौल और सुविधाएं मिलेंगी.

उद्योग के लिए जमीन की जरूरत

किसी भी उद्योग को लगाने के लिए सबसे पहले जमीन की आवश्यकता होती है, इसी को ध्यान में रखते हुए पूर्वांचल लिंक एक्सप्रेस-वे के दोनों तरफ पर 10 हजार एकड़ जमीन का अधिग्रहण करने की तैयारी सरकार की तमाम एजेंसियां कर रही हैं. जिसमें यूपीडा (उत्तर प्रदेश एक्सप्रेसवेज औद्योगिक विकास प्राधिकरण) एक हजार एकड़ जमीन का अधिग्रहण करेगा, पांच हजार एकड़ जमीन का अधिग्रहण गीडा (गोरखपुर औद्योगिक विकास प्राधिकरण) करेगा साथ यूपीएसआईडीसी और अन्य एजेंसियां भी जमीन का अधिग्रहण करेंगी.

6 महीने में अधिग्रहण पूरा करने की कोशिश
डीएम ने कहा कि हमारी कोशिश है कि सभी एजेंसियां मिलकर छह महीने में जमीन का अधिग्रहण पूरा कर लें, जिससे यहां पर अगर कोई निवेश करना चाहे तो जमीन की कमी आड़े न आए. अभी एक हजार एकड़ जमीन की डिमांड उद्योग स्थापित करने के लिए है. 2050 तक के औद्योगिक विकास को देखते हुए सरकार लिंक एक्सप्रेस-वे के दोनों तरफ औद्योगिक क्षेत्र विकसित कर रही है.
Loading...

वहीं गोरखपुर लिंक एक्सप्रेस-वे के जमीन अधिग्रहण को एक महीने में पूरा करने का दावा डीएम कर रहे हैं. उनका कहना है कि गोरखपुर जिले से हिस्से में 540 हेक्टेयर जमीन का अधिग्रहण करना था जिसमें से 250 हेक्टेयर जमीन को अधिग्रहित कर लिया गया है. एक महीने के अंदर गोरखपुर वाले हिस्से की जमीन का अधिग्रहण पूरा हो जायेगा. पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे बन जाने के बाद गोरखपुर से दिल्ली वाया लखनऊ के लिए अलग से एक नया रास्ता मिल जाएगा.

बड़ी संख्या में मिलेगा रोजगार
सीएम के इस सपने पर भरोसा करते हुए लोगों का कहना है कि इससे गोरखपुर का न सिर्फ औद्योगिक विकास होगा बल्कि पूर्वांचल के लोगों को बड़ी संख्या में रोजगार भी मिलेगा, जिससे यहां के लोगों के भी अच्छे दिन आएंगे और पिछड़ेपन का जो दाग पूर्वांचल पर लगा है वह काफी हद तक मिट जाएगा. लिंक एक्सप्रेस-वे के दोनों तरफ औद्योगिक क्षेत्र विकसित करने से न सिर्फ गोरखपुर का तेजी से विकास होगा बल्कि बड़ी संख्या में स्थानीय लोगों को रोजगार भी मिलेगा, जिससे आने वाले समय में कई बड़ी समस्याओं का समाधान हो जाएगा.

(राम गोपाल द्विवेदी की रिपोर्ट)
ये भी पढ़ें:


सपा सांसद आजम खान को इलाहाबाद हाईकोर्ट से मिली राहत

अखिलेश यादव सपा में करने जा रहे हैं बड़ा बदलाव, कई नेताओं की हो सकती है छुट्टी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गोरखपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 19, 2019, 6:12 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...