आज ठप हो सकती है दिल्ली-नोएडा के बीच ऑटो सर्विस, खत्म हो रहा है परमिट

वर्ष 2015 में दिल्ली और यूपी के बीच कुल 6700 ऑटो परमिट जारी किया गया, जिसमें नोएडा और गाजियाबाद से दिल्ली के लिए 4,000 परमिट जारी किए गए. समझौते के मुताबिक दिल्ली परिवहन विभाग ने काउंटर साइन की अवधि 13 अगस्त, 2018 तय की थी, जो सोमवार को खत्म हो रही है

News18 Uttar Pradesh
Updated: August 12, 2018, 11:52 PM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: August 12, 2018, 11:52 PM IST
नोएडा और दिल्ली के बीच ऑटो सर्विस पर सोमवार को ब्रेक लग सकता है. ऐसा इसलिए क्योंकि तीन साल पहले एनसीआर ऑटो परमिट योजना के तहत हुए समझौते की अवधि सोमवार यानी 13 अगस्त को समाप्त हो रही है, जिससे दोनों शहरों के बीच बेरोक-टोक ऑटो सेवा सोमवार को प्रभावित हो सकती है.

यह भी पढ़ें-दिल्ली-NCR के वो इलाके जहां सांस लेना भी दूभर

रिपोर्ट के मुताबिक आगामी 13 अगस्त के बाद नोएडा और गाजियाबाद की ओर से दिल्ली जाने वाली तकरीबन 4,000 ऑटो दिल्ली में वैध रूप से प्रवेश नहीं कर पाएंगी. रविवार को नोएडा में आहूत एक बैठक में एनसीआर ऑटो परमिट को लेकर गाज़ियाबाद और नोएडा के ऑटो ड्राइवर्स ने परमिट की अवधि को लेकर चर्चा की है.

उल्लेखनीय है एनसीआर प्लानिंग बोर्ड की पहल पर वर्ष 2008 में चार राज्यों (दिल्ली, यूपी, हरियाणा और राजस्थान) के बीच एक समझौता हुआ था. हालांकि इस समझौते के तहत एनसीआर में बेरोक-टोक ऑटो सेवा शुरू होने में पूरे 7 साल लग गए.

यह भी पढ़ें-NCR में प्रदूषण फैलाने वाली 500 बसों को हटाएगा यूपी रोडवेज

वर्ष 2015 में दिल्ली और यूपी के बीच कुल 6700 ऑटो परमिट जारी किया गया, जिसमें नोएडा और गाजियाबाद से दिल्ली के लिए 4,000 परमिट जारी किए गए. समझौते के मुताबिक दिल्ली परिवहन विभाग ने काउंटर साइन की अवधि 13 अगस्त, 2018 तय की थी, जो सोमवार को खत्म हो रही है.

माना जा रहा है कि परमिट की वैधता खत्म होने के बाद दिल्ली के 2700 ऑटो नोएडा और गाजियाबाद में प्रवेश तो कर सकेंगे, लेकिन दोनों शहरों के 4,000 ऑटो दिल्ली और एनसीआर में 13 अगस्त के बाद नहीं घुस पाएंगे. हालांकि मामले से परिवहन विभाग को तीन माह पूर्व नोएडा ऑटो रिक्शा चालक एसोसिएशन (एनसीआर) द्वारा अवगत करा दिया गया था. वहीं,  गत 13 जून को राज्य के परिवहन मंत्री को एक पत्र भी भेजा गया था, लेकिन अभी तक उधर से कोई जवाब नहीं मिल सका है.

यह भी पढ़ें-दिल्ली पर बढ़ रहा रेगिस्तान बनने का खतरा, टूट रहा सुरक्षा 'कवच'!

पूरे मामले पर नोएडा ऑटो रिक्शा चालक एसोसिएशन का कहना है कि काउंटर साइन की वजह से ऑटो सेवाएं प्रभावित हुई, तो हजारों यात्रियों को परेशानी उठानी पड़ेगी और ऑटो चालकों के सामने रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो जाएगा. उन्होंने कहा कि अगर उनकी बात नहीं मानी गई तो एसोसिएशन के लोग हाईकोर्ट जाएंगे.

गौरतलब है नोएडा से दिल्ली के लिए कुल 2000 ऑटो परमिट जारी हुआ है जबकि गाजियाबाद से दिल्ली की ओर जाने के लिए 2000 ऑटो को परमिट मिला हुआ है, लेकिन दिल्ली से नोएडा की ओर कुल 1350 ऑटो को प्रवेश की अनुमति दी गई है वहीं, दिल्ली से गाजियाबाद जाने के लिए कुल 1350 ऑटो का परिमट जारी हुआ हैं.

(रिपोर्ट-कुनाल, नोएडा)
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर