अपना शहर चुनें

States

Covid-19: नोएडा में 2 जनवरी 2021 तक धारा 144, सख्त नियमों का करना होगा पालन

ऐसे में असामाजिक तत्वों द्वारा शांति व्यवस्था भंग किए जाने की आशंका है. (फाइल फोटो)
ऐसे में असामाजिक तत्वों द्वारा शांति व्यवस्था भंग किए जाने की आशंका है. (फाइल फोटो)

DCP (कानून एवं व्यवस्था) आशुतोष द्विवेदी ने बताया कि उत्तर प्रदेश आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 के प्रावधानों के तहत कोविड-19 (Covid-19) के कारण फैल रही महामारी को आपदा घोषित किया गया है.

  • Share this:
नोएडा. उत्तर प्रदेश के गौतमबुद्ध नगर (Gautam Buddha Nagar) जिले में 6 दिसंबर से 2 जनवरी 2021 तक धारा 144 (Section 144) लागू कर दी गई है. पुलिस उपायुक्त (कानून एवं व्यवस्था) आशुतोष द्विवेदी ने बताया कि उत्तर प्रदेश आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धारा दो की उपधारा (जी) के अंतर्गत कोविड-19 के कारण फैल रही महामारी को आपदा घोषित किया गया है. उन्होंने बताया कि 23 दिसंबर 2020 को पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय चौधरी चरण सिंह (Chaudhary Charan Singh) की जयंती है. 25 दिसंबर को क्रिसमस (Christmas) एवं 31 दिसंबर को वर्ष के अंतिम दिन पर तथा 1 जनवरी 2021 को नववर्ष के मौके पर विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे. ऐसे में असामाजिक तत्वों द्वारा शांति व्यवस्था भंग किए जाने की आशंका है.

डीसीपी ने बताया कि महामारी की स्थिति की गंभीरता को देखते हुए 6 दिसंबर से 2 जनवरी 2021 तक जनपद गौतमबुद्ध नगर में धारा 144 लागू की गई है. इस बीच गौतमबुद्ध नगर में रविवार को कोरोना वायरस के 138 नए मामले सामने आए. सरकारी आंकड़ों के मुताबिक जिले में कुल मामले 23,458 तक पहुंच गए हैं. जिले में संक्रमण का इलाज करा रहे मरीजों की संख्या 1051 हो गई है.

कोरोना से उबर भी रहे हैं लोग
बता दें कि उत्तर प्रदेश में रोज कोरोना वायरस के सैकड़ों मरीज सामने आ रहे हैं. कल ही मुजफ्फरनगर मेडिकल कालेज में उपचाराधीन बुजुर्ग की कोरोना वायरस संक्रमण के चलते मौत हो गई थी. बुजुर्ग को पहले से ही दिल की बीमारी थी तथा स्टेंट भी डाला गया था. कोरोना वायरस संक्रमण तथा अन्य बीमारियों के चलते बुजुर्ग की मौत हो गई. रविवार को आई रिपोर्ट के आधार पर 50 अन्य लोगों में कोरोना वायरस संक्रमण पाया गया. सीएमओ डा. प्रवीण कुमार चोपड़ा ने बताया था कि लक्ष्मण विहार निवासी 79 वर्षीय बुजुर्ग चार दिसंबर को जांच में कोविड-19 पाजिटिव पाए गए थे, जिन्हें पांच दिसंबर को मेडिकल कालेज में भर्ती कराया गया था. हालत बिगड़ने पर छह दिसंबर को उनकी मौत हो गई. सीएमओ ने बताया कि बुजुर्ग को कई प्रकार की बीमारियां थी. उन्हें दिल की बीमारी के चलते कुछ वर्ष पूर्व स्टेंट भी डाला गया था. रविवार को आई रिपोर्ट के अनुसार उपचार के बाद 32 मरीज स्वस्थ पाए गए, जिन्हें हास्पिटल से डिस्चार्ज कर दिया गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज