ग्रेटर नोएडा के लोधीपुरा गांव में आजादी के 71 साल बाद पहुंची बिजली

लोधीपुरा गांव में 35 साल पहले करीब 25 परिवार बसते थे, लेकिन बिजली नहीं होने से 10 परिवार धीरे-धीरे जाकर दूसरे गांवों में बस गए, जिनके मकान आज भी लाधीपुरा गांव में खाली पड़े हैं. गांव में बिजली पहुंचने से लोग वापस अपने गांव लौटने का विचार करने लगे हैं

News18 Uttar Pradesh
Updated: August 27, 2018, 11:39 PM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: August 27, 2018, 11:39 PM IST
ग्रेटर नोएडा के एक गांव में आजादी 71 साल के बाद बिजली पहुंची है. जी हां, हम बात कर हैं ग्रेटर नोएडा के लोधीपुरा गांव की है, जहां गत शनिवार को प्रधानमंत्री सौभाग्य योजना के तहत पहली बार बिजली ही नहीं पहुंची, बल्कि पूरा गांव पहली बार बिजली के बल्ब की रोशनी से गुलजार हुआ है. दिलचस्प बात यह है कि लोधीपुरा गांव राजधानी दिल्ली से महज 5 किमी दूर है और गांव के निकट दादरी NTPC पावर प्लांट भी मौजूद है, बावजूद इसके लोधीपुरा बिजली की रोशनी से अब तक दूर थी.

यह भी पढ़ें-फ्री बिजली कनेक्शन के साथ गरीबों को मिलेगा LED बल्ब, बैट्री और पंखा

दादरी तहसील और NTPC पावर प्लांट सेल से करीब 5 किमी की दूरी पर स्थित लोधीपुरा गांव में शनिवार रात पहली बार बिजली पहुंचने से पूरा गांव खुश है. कहते हैं 70 साल के इंतजार के बाद लोधीपुरा गांव में बिजली की सप्लाई बहाल हुई है. घर के आंगन में बिजली के बल्ब से फैली रोशनी से गांव के वाशिंदे काफी खुश नज़र आ रहे हैं.

रिपोर्ट के मुताबिक गत शनिवार को केंद्र सरकार की प्रधानमंत्री की सौभाग्य योजना के तहत लोधीपुरा गांव में निःशुल्क कनेक्शन देकर बिजली चालू की गई है. दादरी विधायक और बिजली विभाग के अधिकारियों ने गांव के कुल 14 परिवारों को निःशुल्क बिजली कनेक्शन दिए और इसके साथ ही बिजली की सप्लाई शुरू की गई.

यह भी पढ़ें-सौभाग्य योजना से हर गांव होगा रौशन, जल्‍द 24 घंटे मिलेगी बिजली

लोधीपुरा गांव के वाशिंदे बताते हैं कि उनके गांव से करीब डेढ़ किलोमीटर दूरी पर बसे रानी लतीफपुर गांव में बिजली के बल्ब जलते है, लेकिन उन्हें पिछले 70 वर्षों से लालटेन के सहारे जिंदगी काटने के लिए मजबूर होना पड़ा. गुर्जर बाहुल्य लोधीपुरा गांव में बिजली जैसी मूलभूत सुविधा नहीं होने से लोग दूसरी जगहों पर पलायन कर गए. बताया जाता है अभी वर्तमान में लाधीपुरा गांव कुल 15 परिवार ही रह रहे हैं.

ग्रामीणों ने बताया कि वो लोधीपुरा गांव के लिए लगातार जनप्रतिनिधि से बिजली की मांग करते आ रहे हैं, लेकिन मौजूदा विधायक और प्रधानमंत्री सौभाग्य योजना के लिए चलते उनके घरों में बिजली काफी इंतजार के बाद आज अंततः पहुंच गई.

ग्रामीणों ने बताया कि मोबाइल चार्ज करने के लिए दादरी NTPC और गांव में लगे सोलर लाइट और जनरेटर का सहारा लेना पड़ता था. वहीं, टेलीविजन पर मैच या खास कार्यक्रम देखने के लिए उन्हें पड़ोसी गांवों में जाना पड़ता था.

यह भी पढ़ें-सौभाग्य योजना से हर गांव होगा रौशन, जल्‍द 24 घंटे मिलेगी बिजली

उल्लेखनीय है लोधीपुरा गांव में 35 साल पहले करीब 25 परिवार बसते थे, लेकिन बिजली नहीं होने से 10 परिवार लोधीपुरा से धीरे-धीरे जाकर दूसरे गांवों में बस गए, जिनके मकान आज भी लाधीपुरा गांव में खाली पड़े हैं. हालांकि गांव में बिजली पहुंचने की सूचना पाते ही पलायन कर चुके लोग वापस गांव लौटने का विचार करने लगे हैं.

(रिपोर्ट- अमित सिंह, ग्रेटर नोएडा)

अगर आप भी पेट के बल सोते हैं तो हो जाएं सावधान, जानें इसके नुकसान

 ट्रेडमिल पर वर्कआउट करते समय रखें इन बातों का खास ध्यान

 
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर